ताज़ा खबर
 

9 बजे 9 मिनट के लिए रोशनी बंद करने से ग्रिड पर नहीं पड़ा कोई असर

ऊर्जा मंत्री के अनुसार करीब चार-पांच मिनट के दौरान बिजली खपत 1,17,000 मेगावाट से कम होकर 85,300 मेगावाट रही। यह संभावित 12,000 मेगावाट की कमी से कहीं अधिक थी।

Author नई दिल्ली | Published on: April 6, 2020 4:30 AM
पीएम मोदी के ऐलान के बाद बिजली कंपनियों को सता रहा ग्रिड फेल होने का डर।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अपील पर रविवार को रात नौ बजे से नौ मिनट के लिए देश भर में घरों के बल्ब और ट्यूबलाइट बंद होने से बिजली ग्रिड पर कोई असर नहीं पड़ा। सरकार और बिजली कंपनियों की मांग में अचानक से कमी और फिर बढ़ोतरी की स्थिति से निपटने के लिये तैयार की गई विस्तृत कार्य योजना से कोई समस्या उत्पन्न नहीं हुई।

ऊर्जा मंत्री आरके सिंह ने कहा कि बिजली आपूर्ति में कमी (रैंप डाउन) और फिर बढ़ोतरी (रैंप अप) का काम बहुत सुचारु रूप से चला। उन्होंने (अधिकारियों) अच्छे तरीके से इसका प्रबंध किया। मैं और मेरे साथ वरिष्ठ अधिकारी…बिजली सचिव और पोस्को सीएमडी…नेशनल मॉनिटरिंग सेंटर से व्यक्तिगत रूप से स्थिति पर नजर रखे हुए थे।

मैं एनएलडीसी (नेशनल लोड डिस्पैच सेंटर), आरएलडीसी (रीजनल लोड डिस्पैच सेंटर) और एसएलडीसी (स्टेट लोड डिस्पैच सेंटर) के सभी इंजीनियरों को स्थिति से बखूबी निपटने को लेकर बधाई देता हूं…। मंत्री के अनुसार करीब चार-पांच मिनट के दौरान बिजली खपत 1,17,000 मेगावाट से कम होकर 85,300 मेगावाट रही। यह संभावित 12,000 मेगावाट की कमी से कहीं अधिक थी।

मंत्रालय के अनुसार लाइट बंद होने के बाद मांग में कमी के पश्चात 110 मेगावाट की बढ़ोतरी (रैंप अप) सुचारु रही। कहीं से भी बिजली में गड़बड़ी या बंद होने की घटना नहीं हुई। उन्होंने बिजली उत्पादन कंपनियों एनटीपीसी और एनएचपीसी की सराहना की। उन्होंने कहा कि पनबिजली क्षेत्र से अच्छा योगदान मिला।

ऐसी आशंका जताई गई थी कि प्रधानमंत्री की अपील पर रात नौ बजे से नौ मिनट तक घरों में बल्ब, ट्यूबलाइट बंद होने से बिजली ग्रिड पर प्रतिकूल असर पड़ेगा और बिजली व्यवस्था प्रभावित हो सकती है। हालांकि मंत्रालय ने साफ तौर पर कहा कि था कि देश की ग्रिड व्यवस्था मजबूत है और इस प्रकार की आशंकाएं निराधार हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App। जनसत्‍ता टेलीग्राम पर भी है, जुड़ने के ल‍िए क्‍ल‍िक करें।

Next Stories
1 मकान मालिक ने फोन कर कहा, इस बार किराया मत देना
2 जनसत्ता विशेष: याद आ गया गिरमिटिया दौर
3 जनसत्ता विशेष: जापान के कुरोसावा हमारे बिमल दा