ताज़ा खबर
 

देवयानी खोब्रागड़े को पीएस रखना चाहते थे मंत्री रामदास अठावले, पीएम मोदी ने नहीं दी मंजूरी

सूत्रों के अनुसार, न्‍यू यॉर्क में बतौर भारतीय डिप्‍टी काउंसिल जनरल के तौर पर देवयानी से जुड़े विवादों को ध्‍यान में रखते हुए PMO नियुक्ति के खिलाफ था।

Author नई दिल्ली | Published on: August 4, 2016 8:32 AM
PMO शुरू से ही मंत्रियों के सचिव और ओएसडी नियुक्‍त करने में सतर्कता बरतता रहा है।

हाल ही में केन्‍द्रीय मंत्री बने रामदास अठावले को PMO ने पसंदीदा सचिव नहीं चुनने दिया। नरेंद्र मोदी सरकार में सामाजिक न्‍याय राज्‍य मंत्री अठावले की पसंद पर PMO ने कैंची चला दी। RPI (A) के नेता अठावले चाहते थे कि महाराष्‍ट्र के पूर्व नौकरशाह और उनकी पार्टी के साथी उत्‍तम खोबरागड़े की बेटी देवयानी खोबरागड़े को उनका निजी सचिव बनाया जाए। मगर अंदरूनी सूत्रों के अनुसार, PMO ने न्‍यू यॉर्क में बतौर भारतीय डिप्‍टी काउंसिल जनरल के तौर पर देवयानी से जुड़े विवादों को ध्‍यान में रखते हुए नियुक्ति को मंजूरी नहीं दी। अब पद के लिए IRS अधिकारी प्रशांत रोकड़े हैं। रोकड़े फिलहाल सड़क एवं जहाजरानी मंत्री नितिन गडकरी के अतिरिक्‍त प्रमुख सचिव हैं।

मंत्री बनने के बाद अठावले ने देवयानी को निजी सचिव बनाने की फाइल को आगे बढ़ाया। जब उनकी फाइल विदेश मंत्रालय के पास पहुंची तो वहां से PMO को बताया गया कि देवयानी का नाम न्‍यू यॉर्क में विवादों में रहा है। वे एक मामले में गिरफ्तार भी हो चुकी हैं, ऐसे में अठावले निजी सचिव के लिए किसी और अधिकारी की तलाश करें। PMO को खबर मिलने के बाद अठावले को देवयानी की नियुक्ति से मना कर दिया गया। PMO शुरू से ही मंत्रियों के सचिव और ओएसडी नियुक्‍त करने में सतर्कता बरतता रहा है।

देवयानी 1999 बैच की IFS अधिकारी हैं। 12 दिसंबर, 2013 को वीजा धोखाधड़ी के आरोप में उन्हें अमेरिका में गिरफ्तार किया गया था। तब वह न्‍यू यॉर्क में भारत की डिप्‍टी काउंसिल जनरल थीं। उनकी गिरफ्तारी से भारत और अमेरिका में कूटनीतिक तनाव उत्पन्न हो गया था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 पूर्ण बहुमत के साथ RS से पास हुआ GST बिल, बटने लगी मिठाई, विपक्ष में नहीं पड़ा एक भी वोट