ताज़ा खबर
 

प्रधानमंत्री जन आरोग्‍य योजना के अधिकतर लाभार्थी सामान्‍य मरीज, रूट कैनाल और कैटरैक्‍ट सर्जरी सबसे ज्‍यादा

गंभीर बीमारी के लिए शुरु की गई प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना के तहत लोग बुखार जैसी सामान्य बीमारियों का भी इलाज करा रहे हैं।

Author Updated: December 2, 2018 12:19 PM
PMJAY के 2 महीने के आंकड़ों में हुआ है ये खुलासा। (file pic)

सरकार ने प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना (PMJAY) की शुरुआत लोगों को गंभीर बीमारी और उसके भारी-भरकम खर्च में राहत देने के लिए की थी। लेकिन अभी तक प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना के जो आंकड़े सामने आए हैं, उनसे पता चलता है कि लोग आम बीमारियों, यहां तक कि बुखार के लिए भी इस योजना के तहत इलाज करा रहे हैं। योजना के लागू होने के 2 महीने के समय में विभिन्न राज्यों का जो आंकड़ा पता चला है, उसके अनुसार, लोग प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना के तहत लोग आंखों के लेंस की सर्जरी (कैटरैक्ट सर्जरी), दांतो की रुट कैनाल सर्जरी जैसी बीमारियों का इलाज करा रहे हैं। देश के ग्रीनफील्ड राज्यों में तो लोग बुखार और टाइफाइड आदि के इलाज में भी इस योजना का लाभ उठा रहे हैं। बता दें कि ग्रीनफील्ड राज्यों में उन राज्यों को शुमार किया जाता है, जिनमें प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना के पहले तक कोई स्वास्थ्य बीमा सेवा नहीं थी। साथ ही वो राज्य जो कि भारत के सबसे गरीब और जनसंख्या वाले राज्य हैं। इनमें उत्तर प्रदेश, बिहार, छत्तीसगढ़, मध्य प्रदेश, झारखंड, हिमाचल प्रदेश, हरियाणा, उत्तराखंड, जम्मू कश्मीर और नॉर्थ ईस्ट के सभी राज्य शामिल हैं।

हालांकि अभी तक यह आंकड़ा पूरा नहीं है, जिसके पूरे होने के बाद इसमें कुछ बदलाव आ सकता है। आंकड़ों के अनुसार, देश में PMJAY के तहत अभी तक आंखों में लेंस डालने की सर्जरी 6900, दांतों की रुट कैनाल सर्जरी 4900, सामान्य डिलीवरी आदि 4500, बुखार के 3400 और अन्य सामान्य बीमारियों के 4000 मामले सामने आए हैं। ये आकंड़े इस योजना के लॉन्च होने यानि कि 23 सितंबर से लेकर 24 नवंबर तक के हैं। बता दें कि PMJAY मोदी सरकार की महत्वकांक्षी योजना आयुष्मान भारत की एक राज्य स्तरीय सेवा है। आयुष्मान भारत के तहत सरकार देश के 10.74 करोड़ परिवारों को 5 लाख रुपए तक का स्वास्थ्य बीमा उपलब्ध कराएगी।

इनके अलावा सरकार आयुष्मान भारत योजना के तहत देश में 1,53,000 हेल्थ और वैलनेस सेंटर भी बनाएगी। तेलंगाना, ओडिशा और दिल्ली को छोड़कर बाकी सभी राज्यों की सरकारों ने इस योजना का एमओयू भी केन्द्र सरकार के विभाग नेशनल हेल्थ एजेंसी (NHA) के साथ साइन कर लिया है। PMJAY का लागू करने की जिम्मेदारी नेशनल हेल्थ एजेंसी को ही सौंपी गई है। खबर है कि इस PMJAY स्कीम के तहत सभी आंकड़े हर दिन पीएमओ भेजे जा रहे हैं। इन आंकड़ों के तहत पीएमओ को यह जानकारी दी जा रही है कि हर दिन कितने हेल्थ कार्ड जारी हुए, कितने लोगों का इस योजना के तहत इलाज हुआ और इस योजना में इलाज के लिए कितने दावे पेश किए गए।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 असम: इंटरसिटी एक्‍सप्रेस के कोच में बम धमाका, 11 लोग घायल
2 RSS को झटका! ‘संकल्‍प रथ यात्रा’ को रवाना करने में मुश्किल से जुटे 100 लोग, उम्‍मीद थी आएंगे लाखों
3 सुषमा स्‍वराज का हमला, बोलीं- भगवान न करे कि हमें राहुल गांधी से हिन्‍दू होने का मतलब जानना पड़े