ताज़ा खबर
 

गांवों में घर-घर की जाए जांच, उच्चस्तरीय बैठक में प्रधानमंत्री ने कहा

उन्होंने कहा कि कोविड-19 के खिलाफ भारत की लड़ाई वैज्ञानिक और विशेषज्ञों की राय पर आधारित है, जो आगे भी जारी रहेगी। प्रधानमंत्री ने टीकाकरण की गति बढ़ाने के लिए अधिकारियों को राज्यों के साथ मिलकर काम करने का निर्देश दिया।

Edited By Sanjay Dubey गांवों में घर-घर की जाए जांच, उच्चस्तरीय बैठक में प्रधानमंत्री ने कहा | Updated: May 16, 2021 6:13 AM
शनिवार को विशेषज्ञों के साथ समीक्षा करते पीएम मोदी। (फोटो-पीटीआई)

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश में कोरोना से सर्वाधिक संक्रमित क्षेत्रों में जांच का दायरा बढ़ाने, स्थानीय स्तर पर रोकथाम की रणनीति पर काम करने के साथ ही ग्रामीण क्षेत्रों में घर-घर जाकर जांच करने और वहां स्वास्थ्य संबंधी संसाधनों को बढ़ाने पर जोर दिया। साथ ही, उन्होंने कुछ राज्यों में जीवनरक्षक मशीनों (वेंटिलेटर) का इस्तेमाल न होने और उनके धूल फांकने की खबरों पर नाराजगी जताई है। उन्होंने शनिवार को उच्चस्तरीय बैठक में कुछ राज्यों में वेंटिलेटर का इस्तेमाल ना हो पाने संबंधी खबरों को गंभीरता से लिया और केंद्र सरकार द्वारा दिए गए वेंटिलेटर के हिसाब-किताब की जांच करने का निर्देश दिया।

बैठक के बाद प्रधानमंत्री कार्यालय से जारी बयान के मुताबिक मोदी ने आशा और आंगनबाड़ी कर्मियों को कोविड-19 के खिलाफ लड़ाई में सभी आवश्यक संसाधनों से लैस करने और ग्रामीण क्षेत्रों में ऑक्सीजन की पर्याप्त आपूर्ति सुनिश्चित करने का निर्देश दिया।
प्रधानमंत्री कार्यालय ने कहा कि बैठक में प्रधानमंत्री को देश में कोरोना की ताजा स्थिति से अवगत कराया गया और उन्हें यह भी बताया गया कि अभी प्रत्येक सप्ताह 1.3 करोड़ लोगों की जांच हो रही है, जबकि पिछले साल मार्च में प्रत्येक सप्ताह जांच का आंकड़ा 50 लाख था। बयान के मुताबिक, प्रधानमंत्री को बताया गया कि लोगों के ठीक होने की दर के साथ ही संक्रमण दर में भी कमी दर्ज की गई है। बैठक में यह चर्चा हुई कि पिछले कुछ सप्ताह में जहां संक्रमण के मामले रोजाना चार लाख के ऊपर जा रहे थे, वहीं अब केंद्र व राज्य सरकारों तथा स्वास्थ्यकर्मियों के प्रयासों से यह मामले कम होने लगे हैं।

अधिकारियों ने बैठक में प्रधानमंत्री के समक्ष राज्य और जिलावार कोविड-19 की स्थिति, जांच, ऑक्सीजन की उपलब्धता, स्वास्थ्य ढांचे और टीकाकरण की रूपरेखा के बारे में प्रस्तुति दी। बयान के मुताबिक प्रधानमंत्री ने कहा, ‘जिन राज्यों के जिन जिलों में संक्रमण के मामले अधिक हैं, वहां स्थानीय निषिद्ध क्षेत्र रणनीति समय की मांग है।’

उन्होंने ऐसे क्षेत्रों में आरटी-पीसीआर और रैपिड एंटीजन जांच तेज करने के निर्देश दिए। प्रधानमंत्री ने कहा कि भले ही आंकड़े अधिक आएं लेकिन राज्यों को बगैर किसी दबाव के पारदर्शिता से आंकड़े जारी करने के लिए प्रोत्साहित करना चाहिए। उन्होंने ग्रामीण क्षेत्रों में स्वास्थ्य संबंधी संसाधनों को बढ़ाने पर जोर दिया ताकि घर-घर जाकर जांच की जा सके और निगरानी रखी जा सके। उन्होंने ग्रामीण क्षेत्रों में घरों में एकांतवास की स्थिति में उपचार संबंधी दिशानिर्देशों को आसान भाषा में उपलब्ध कराने के लिए भी कहा।

उन्होंने ग्रामीण क्षेत्रों में ऑक्सीजन की आपूर्ति सुनिश्चित करने के लिए एक वितरण योजना बनाने का निर्देश दिया। उन्होंने ऑक्सीजन संबंधी उपकरणों के संचालन के लिए स्वास्थ्यकर्मियों को आवश्यक प्रशिक्षण देने का भी निर्देश दिया। उन्होंने कहा कि कोविड-19 के खिलाफ भारत की लड़ाई वैज्ञानिक और विशेषज्ञों की राय पर आधारित है, जो आगे भी जारी रहेगी। प्रधानमंत्री ने टीकाकरण की गति बढ़ाने के लिए अधिकारियों को राज्यों के साथ मिलकर काम करने का निर्देश दिया।

Next Stories
1 दिल्ली में टीका लगवाना लोगों के लिए बना मुसीबत
2 शनिवार को सबसे ज्यादा मामले कर्नाटक में, लगातार चौथे दिन कोरोना के केसों में कमी
3 कोविड-19 बीमारी का इलाज- प्लाज्मा और रेमडेसिविर पर फिर उठे सवाल
ये पढ़ा क्या?
X