ताज़ा खबर
 

PM Relief Fund पहले से तो “पीएम” केयर फंड क्यों? बड़ा घोटाला दिखता है- पूर्व सांसद ने कहा

इसी बीच, तिरुवनंतपुरम से कांग्रेसी सांसद शशि थरूर ने सोमवार को ट्वीट कर कहा- ये जरूरी है। आखिर आसानी से इसे पीएमएनआरएफ को पीएम-केयर्स फंड नहीं कर दिया जाता? बजाय अलग पब्लिक चैरिटेबल ट्रस्ट बनाने के, जिसके नियम और खर्चे पूरी तरह से अस्पष्ट हैं।

कांग्रेसी नेता और पूर्व सांसद उदित राज। (फाइल फोटो)

भारत में कोरोना संकट से निपटने के लिए चंद रोज पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देशवासियों से PM Cares Fund में आर्थिक मदद करने की अपील की थी। केंद्र में मुख्य विपक्षी दल ने इसी को मुद्दा बनाया। पूर्व कांग्रेसी सांसद उदित राज ने सरकार पर जुबानी निशाना साधते हुए पूछा, “पीएम रिलीफ फंड पहले से है, तो पीएम केयर फंड क्यों? इसमें बड़ा घोटाला दिखता है।”

उन्होंने ट्वीट किया- इनकी नीयत पर डाउट है, जब पीएम रिलीफ फंड पहले से है तो “पीएम” केयर फंड क्यों? नाम ही रखना था तो पीपुल्स फंड, कोरोना फंड या जनता फंड रखते। कोई बड़ा गड़बड़ घोटाला या प्रचारबाजी ही इनका लक्ष्य दिखता है।

पूर्व सांसद के ट्वीट पर @gurupawan नाम के यूजर ने लिखा, “इसे कहते है “गांव बसा नहीं और भिखारी आ गए।” ये भ्रष्ट मनमोहन सरकार नहीं, मोदी सरकार है।” वहीं, @manrana1977 के हैंडल से कहा गया- देश की फिक्र करने वाले श्रमदान दे रहे हैं। देश की ज़्यादा फिक्र करने वाले योगदान दे रहे हैं। देश की बहुत ज्यादा फिक्र करने वाले श्रमदान और योगदान दोनों दे रहे हैं। पर, देश की सबसे ज्यादा फिक्र करने वाले सिर्फ़ ‘ज्ञान’ दे रहे हैं। सुधर जाइए।

Coronavirus LIVE Updates in Hindi

 

COVID-19 Latest News Updates in Hindi LIVE

इसी बीच, तिरुवनंतपुरम से कांग्रेसी सांसद शशि थरूर ने सोमवार को ट्वीट कर कहा- ये जरूरी है। आखिर आसानी से इसे पीएमएनआरएफ को पीएम-केयर्स फंड नहीं कर दिया जाता? बजाय अलग पब्लिक चैरिटेबल ट्रस्ट बनाने के, जिसके नियम और खर्चे पूरी तरह से अस्पष्ट हैं। पीएमओ इंडिया (टैग करते हुए) आप का देश में शासन है और इस पर स्पष्टीकरण देना बेहद जरूरी कदम होगा।

Coronavirus World News LIVE Updates

उधर, फेसबुक पर टीवी पत्रकार नवीन कुमार ने भी सवाल दागा कि पहले से ही प्रधानमंत्री राहत कोष नाम का एक फंड है, जिसकी साइट भी है। 1948 से ये कोष आपदा में काम कर रहा है। 2019 तक उसकी ऑडिट मौजूद है। देश के हर राष्ट्रीय बैंक में इसका खाता है। उप प्रधानमंत्री/गृह मंत्री, रक्षा मंत्री के अलावा FICCI का प्रतिनिधि उसमे है। टाटा ट्रस्ट का एक प्रतिनिधि है। फिर अलग से PMCARES की ज़रूरत क्यों पड़ी? इसकी कोई वेबसाइट तक नहीं। इसकी संरचना भी किसी को पता नहीं। PMNRF की वेबसाइट के मुताबिक उसके पास 37165593405 रुपए 31 मार्च 2019 को बचे हुए थे।

Coronavirus in India State Wise LIVE Updates

दरअसल, देश में कोरोना संकट ने जब धीमे-धीमे पैर पसारना शुरू किया, तो प्रधानमंत्री ने 28 मार्च को सभी देशवासियों से अपील की कि वे इस आपदा के समय में देश की मदद के लिए आगे आएं और पीएम-केयर्स फंड में सहयोग राशि दें। यह रहा उनका ट्वीटः

Coronavirus से जुड़ी जानकारी के लिए यहां क्लिक करें: कोरोना वायरस से बचना है तो इन 5 फूड्स से तुरंत कर लें तौबा | जानिये- किसे मास्क लगाने की जरूरत नहीं और किसे लगाना ही चाहिए |इन तरीकों से संक्रमण से बचाएं | क्या गर्मी बढ़ते ही खत्म हो जाएगा कोरोना वायरस?

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 कोरोना: तबलीगी जमात के मरकज में शाम‍िल आठ लोगों की मौत, द‍िल्‍ली से कई राज्‍यों में गए हैं लोग
2 COVID-19 संकटः नरेंद्र मोदी सरकार का दावा, ‘देश में अभी दूसरे चरण में है कोरोना’; पर इन जगहों पर शून्य है केंद्र का हाल!
3 कोरोना मरीज के कारण अस्पताल में हंगामा, संक्रमण फैलने का डर