ताज़ा खबर
 

पीएम मोदी की फिसली जुबान: कोच्चि की जगह बोल गए कराची, फिर यह कह सुधारी गलती

वहीं, अहमदाबाद में एक सभा को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने सोमवार को संकेत दिया कि पाकिस्तान में पिछले सप्ताह किये गये हवाई हमले पड़ोसी देश से पनप रहे आतंकवाद के खिलाफ भारत की इस तरह की आखिरी कार्रवाई नहीं है।

Author March 5, 2019 10:58 AM
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (फोटो सोर्स : PTI)

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से सोमवार को बोलने में चूक हो गयी और वह भूल से केरल के कोच्चि को पाकिस्तान का ‘कराची’ बोल गये लेकिन तत्काल उन्होंने यह कहते हुए अपनी गलती सुधारी कि इन दिनों उनके दिमाग में पाकिस्तान ही रहता है। ‘आयुष्मान भारत योजना’ की खूबियों की प्रशंसा करते हुए मोदी ने कहा कि इससे जामनगर के निवासियों को देश में कहीं भी इलाज कराने की सुविधा मिली, ऐसे में वह चाहे ‘कोलकाता’ हो या ‘कराची’। लेकिन उसी वक्त उन्होंने इसमें सुधार करते हुए कहा कि उनका मतलब कोच्चि था न कि कराची।

मोदी ने सभा में कहा, ‘‘आयुष्मान भारत के तहत यदि जामनगर का कोई बाशिंदा भोपाल गया हो और वहां बीमार पड़ जाए तो उसे इलाज के लिए जामनगर लौटने की जरूरत नहीं है। यदि वह अपना (आयुष्मान भारत) लाभार्थी कार्ड दिखाता है तो उसे कोलकाता और यहां तक कि कराची में भी मुफ्त उपचार मिलेगा।’’ उन्होंने तुरत बात संभाली और कहा, ‘‘कराची नहीं, कोच्चि। आजकल मेरे दिमाग में पड़ोसी देश का ही ख्याल रहता है।’’ उन्होंने कहा, ‘‘लेकिन वह (पाकिस्तान में हवाई हमला) भी जरूरी था। क्या वह किया जाना चाहिए था या नहीं?’’ इस पर भीड़ ने ‘हां’ में जवाब दिया। मोदी यहां गुरू गोविंद सिंह अस्पताल में 750 बिस्तरों वाले एनेक्सी भवन का उद्घाटन करने के बाद सभा को संबोधित कर रहे थे।

वहीं, अहमदाबाद में एक सभा को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने सोमवार को संकेत दिया कि पाकिस्तान में पिछले सप्ताह किये गये हवाई हमले पड़ोसी देश से पनप रहे आतंकवाद के खिलाफ भारत की इस तरह की आखिरी कार्रवाई नहीं है। मोदी ने कहा कि भारत में आतंकवादी हमलों के लिए जिम्मेदार लोग अगर पाताल में भी छिपे होंगे तो वह उन्हें खोज निकालेंगे। पाकिस्तान में आतंकी शिविरों पर 26 फरवरी को भारत के हवाई हमले का परोक्ष जिक्र करते हुए मोदी ने कहा, ‘‘अगर एक काम पूरा हो जाता है, तो हमारी सरकार सोती नहीं है, बल्कि दूसरे काम के लिए तैयार रहती है।’’

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App