ताज़ा खबर
 

बोले PM नरेंद्र मोदी- सबसे युवा देश, अब तेजी से खेलने के मूड में, 5 ट्रिलियन डॉलर इकनॉमी का लक्ष्य आसां नहीं, पर…

मोदी ने कहा कि एक नागरिक के तौर पर देश हमसे जिन कर्तव्यों को निभाने की अपेक्षा करता है, वो जब पूरे होते हैं, तो देश को भी नई ताकत और नई ऊर्जा मिलती है।

Author Edited By Sanjay Dubey नई दिल्ली | Updated: February 12, 2020 9:46 PM
नई दिल्ली में आयोजित कार्यक्रम में बोलते पीएम मोदी (फोटो – एएनआई)

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि दुनिया का सबसे युवा देश अब तेजी से खेलने के मूड में है। सिर्फ 8 महीने की सरकार ने फैसलों की जो सेंचुरी बनाई है, वो अभूतपूर्व है। आपको अच्छा लगेगा, आपको गर्व होगा कि भारत ने इतने तेज फैसले लिए, इतनी तेजी से काम हुआ। कहा कि अब भारत का लक्ष्य है अगले पांच साल में अपनी अर्थव्यवस्था को 5 ट्रिलियन डॉलर तक का विस्तार देना। ये लक्ष्य आसान नहीं, लेकिन ऐसा भी नहीं कि जिसे प्राप्त ही नहीं किया जा सके।

मोदी ने कहा कि एक नागरिक के तौर पर देश हमसे जिन कर्तव्यों को निभाने की अपेक्षा करता है, वो जब पूरे होते हैं, तो देश को भी नई ताकत और नई ऊर्जा मिलती है। यही नई ऊर्जा, नई ताकत भारत को इस दशक में भी नई ऊंचाइयों पर ले जाएगी। उन्होंने कहा कि भारत ने इतने तेज फैसले लिए, तेज गति से काम किया। देश के हर किसान को पीएम किसान योजना के दायरे में लाने का काम हुआ, इसके साथ किसान, मजदूर, दुकानदार को पेंशन देने की योजना, पानी जैसे अहम विषय पर जल शक्ति मंत्रालय का गठन किया गया। ये सभी काम देश को आगे ले जाएंगे।

मोदी ने कहा कि मध्यम वर्ग के अधूरे घरों को पूरा करने के लिए 25 हजार करोड़ रुपए का विशेष कोष बना, दिल्ली के 40 लाख लोगों को घरों पर अधिकार देने वाला कानून बनाया, तीन तलाक से जुड़ा कानून और बच्चों के उत्पीड़न के खिलाफ सख्त सजा का कानून बनाया गया। देश के समक्ष चुनौतियों का उल्लेख करते हुए मोदी ने कहा कि सरकार के प्रयासों के बीच ये भी सही है कि भारत जैसी ‘उभरती अर्थव्यवस्था’ वाले देश के सामने चुनौतियां भी ज्यादा होती हैं, उतार-चढ़ाव भी आते हैं और वैश्विक परिस्थितियों का प्रभाव भी ज्यादा झेलना पड़ता है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कर प्रणाली को नागरिक केंद्रित बनाए जाने का जिक्र करते हुए बुधवार को कहा कि देश में बहुत सारे लोगों द्वारा टैक्स नहीं देने का भार ईमानदार करदाताओं पर पड़ता है, ऐसे में प्रत्येक भारतीय को इस विषय पर आत्ममंथन कर ईमानदारी से कर देना चाहिए। एक समाचार चैनल के कार्यक्रम मोदी ने कहा, “जब बहुत सारे लोग टैक्स नहीं देते, टैक्स नहीं देने के तरीके खोज लेते हैं, तो इसका भार उन लोगों पर पड़ता है, जो ईमानदारी से टैक्स चुकाते हैं। इसलिए, मैं आज प्रत्येक भारतीय से इस विषय में आत्ममंथन करने का आग्रह करूंगा। क्या उन्हें ये स्थिति स्वीकार है?’’ उन्होंने कहा कि पिछले पांच साल में देश में 1.5 करोड़ से ज्यादा कारों की ब्रिकी हुई है। तीन करोड़ से ज्यादा भारतीय कारोबार के काम से या घूमने के लिए विदेश गए हैं, लेकिन स्थिति ये है कि 130 करोड़ से ज्यादा के हमारे देश में सिर्फ 1.5 करोड़ लोग ही आयकर देते हैं।

Next Stories
1 ‘आतंक की गंगोत्री है देवबंद उलूम’, नरेंद्र मोदी के मंत्री का बयान
2 राहुल गांधी ने Coronavirus पर शेयर कर दिया भारत का गलत नक्शा! ट्रोल्स बोले- चीनी वायरस से ज्यादा तो ‘पप्पूरोना वायरस’ है
3 गुजरात दंगे के दोषी इंदौर के मंदिर में कर रहे साफ-सफाई, जमानत पर छूटने के बाद कोर्ट ने दी जिम्मेदारी
ये पढ़ा क्या?
X