ताज़ा खबर
 

जय भीम के नारों के बीच बोले नरेंद्र मोदी- बाबा साहब की बदौलत बना पीएम

प्रधानमंत्री ने रैली के दौरान कहा कि उनकी सरकार ने पिछले 4 सालों को दौरान गरीबों, दलितों, शोषित, पीड़ित, पिछड़ों, वंचितों, महिलाओं और आदिवासियों के लिए ही काम किया है।

Author April 15, 2018 12:18 PM
पीएम मोदी ने कहा कि वह पीएम बाबा साहब की बदौलत बने हैं। (PTI photo)

डॉ. भीमराव आंबेडकर की 127वीं जयंती पर छत्तीसगढ़ के बीजापुर में आयोजित एक रैली में पीएम मोदी ने बाबा साहब की तारीफ करते हुए कहा कि बाबा साहब चाहते तो एक आराम का जीवन जी सकते थे, लेकिन उन्होंने ऐसा नहीं किया। विदेश में पढ़ाई के बाद वह भारत वापस लौटे और गरीब और पिछड़ी जातियों, दलितों और आदिवासियों की भलाई में अपना पूरा जीवन लगा दिया। वह चाहते थे कि दलितों को उनके अधिकार मिले, जिससे वह भी बराबरी का जीवन जी सकें। पीएम मोदी ने इस दौरान कहा कि आपका साथी अगर आज देश का प्रधानमंत्री है तो वो भी बाबा साहब की देन है। उल्लेखनीय है कि जैसे ही पीएम मोदी अपने भाषण की शुरुआत करने जा रहे थे, तभी रैली में मौजूद लोगों ने जय भीम के नारे लगाने शुरु कर दिए। इस पर पीएम ने कहा कि ‘बस्तर और बीजापुर के आसमान में बाबासाहब के नाम की गूंज हमें, आप सभी को धन्य कर रही है। उनकी गूंज में जो आशा जुड़ी है, जो आकांक्षा जुड़ी है, मैं उसे प्रणाम करता हूं।’

बता दें कि पीएम मोदी एक हेल्थ और वैलनेस सेंटर के उद्घाटन के लिए बीजापुर आए थे। बता दें कि आयुष्मान भारत योजना के तहत इस तरह के करीब 1.5 लाख हेल्थ सेंटर पूरे देश में बनाए जाएंगे। प्रधानमंत्री ने रैली के दौरान कहा कि उनकी सरकार ने पिछले 4 सालों को दौरान गरीबों, दलितों, शोषित, पीड़ित, पिछड़ों, वंचितों, महिलाओं और आदिवासियों के लिए ही काम किया है। पीएम ने कहा कि हम चाहते हैं कि हमारे द्वारा शुरु की गई योजनाओं का लाभ देश के अंतिम व्यक्ति तक पहुंचे।

माओवादियों से अपील करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि जिन युवाओं ने हिंसा का रास्ता अपना लिया है, मैं उन्हें बताना चाहता हूं कि बाबा साहब ने हमें संविधान दिया है, जो भी सुरक्षा आप चाहते हो, वह इस संविधान में है। आपके अधिकारों के बारे में चिंता करना सरकार की जिम्मेदारी है, आपको अपना जीवन बर्बाद करने की जरुरत नहीं है। पीएम मोदी ने कहा कि मैं उन माता-पिताओं से कहना चाहता हूं जिनके बेटे और बेटियां इस रास्ते पर चले हैं, वह उनसे पूछे कि उनके मुखिया कौन हैं? वो लोग आपकी धरती पर जन्में नहीं हैं, वो बाहर से आते हैं। वो ना लड़ते हैं और जंगलों में छिपकर रहते हैं, जबकि आपके बच्चे बाहर रहते हैं और मरते हैं। क्या आप ऐसे लोगों पर विश्वास करना चाहते हैं, जो आपके बच्चों के जीवन को बर्बाद कर रहे हैं? सरकार आपके अधिकारों की रक्षा करेगी। हमें विकास के रास्ते पर चलना है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App