ताज़ा खबर
 

2019 में ओडिशा के पुरी से चुनाव लड़ सकते हैं पीएम नरेंद्र मोदी, तैयारियां जोरों पर

इन चार राज्यों में लोकसभा की 105 सीटें हैं। 2014 के लोकसभा चुनाव में बीजेपी इसमें से मात्र 6 सीटें जीत पाई थी। इस लिहाज से पार्टी के पास विस्तार की असीम संभावनाएं हैं। पश्चिम बंगाल और ओडिशा में बीजेपी स्थानीय चुनावों में शानदार प्रदर्शन करते हुए दूसरे नंबर पर आ चुकी है।

ओडिशा के जगन्नाथ मंदिर में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (फोटो-पीटीआई)

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इस वक्त उत्तर प्रदेश के वाराणसी से सांसद हैं। क्या 2019 में पीएम मोदी चुनाव लड़ने के लिए एक दूसरी जगह जा रहे हैं? क्या एक बार फिर से वो 2014 की तरह दो सीटों से चुनाव लड़ेंगे? ऐसे ही कई सवाल लोगों के मन में उठ रहे हैं। इंडिया टुडे की रिपोर्ट के मुताबिक पीएम मोदी इस बार भी दो सीटों से ताल ठोकेंगे। सूत्रों के मुताबिक पीएम ओडिशा के पूरी से लोकसभा का चुनाव लड़ सकते हैं। हालांकि उनकी दूसरी सीट वाराणसी ही रहेगी। पीएम मोदी इस बार अपने गृह राज्य से बाहर जा सकते हैं। हालांकि अभी ये स्पष्ट नहीं हो पाया है कि दोनों जगह से चुनाव जीतने पर नरेंद्र मोदी कौन सी सीट खाली करेंगे। सूत्रों के मुताबिक पुरी से पीएम मोदी के चुनाव लड़ने के लिए युद्धस्तर पर तैयारी की जा रही है। पीएम मोदी 26 मई को ओडिशा के ही कटक में एक विशाल रैली को संबोधित करेंगे, और चुनाव की रणभेरी फूंकेंगे। बता दें कि इस वक्त बीजे़डी के पिनाकी मिश्रा पुरी से सांसद हैं।

नये गढ़ की तलाश: दरअसल बीजेपी ओडिशा, पश्चिम बंगाल, तेलंगाना और आंध्र प्रदेश में अपने सीट शेयर को अधिकतम करना चाहती है। इन चारों राज्यों में विस्तार के लिए बीजेपी के पास अभी बहुत संभावनाएं हैं, चारों ही राज्यों में बीजेपी सत्ता में नहीं है। दरअसल देश के कई राज्यों में बीजेपी अपने अधिकतम सीट पा चुकी है। जैसे कि उत्तर प्रदेश, गुजरात, मध्य प्रदेश और राजस्थान। अब बीजेपी नये राज्यों की ओर अपने जनाधार का विस्तार करना चाहती है।
105 सीटों की वैकेंसी: इन चार राज्यों में लोकसभा की 105 सीटें हैं। 2014 के लोकसभा चुनाव में बीजेपी इसमें से मात्र 6 सीटें जीत पाई थी। इस लिहाज से पार्टी के पास विस्तार की असीम संभावनाएं हैं। पश्चिम बंगाल और ओडिशा में बीजेपी स्थानीय चुनावों में शानदार प्रदर्शन करते हुए दूसरे नंबर पर आ चुकी है। आंध्र प्रदेश में बीजेपी-टीडीपी की राहें जुदा हो चुकी है। इसके बाद पार्टी बड़े पैमाने पर राज्य में अपना विस्तार कर रही है।
धार्मिक संदेश: 2019 में अगर नरेंद्र मोदी पुरी से चुनाव लड़ते हैं तो एक धार्मिक संदेश भी है। 2014 में नरेंद्र मोदी ने वाराणसी में अपनी चुनावी रैलियों में मां गंगा और भगवान शंकर की खूब चर्चा की थी। इस बार अगर पीएम मोदी पुरी से चुनाव लड़ते हैं तो इसे भगवान विष्णु से जोड़ा जाएगा। बता दें कि पुरी स्थित जगन्नाथ मंदिर में भगवान विष्णु के कृष्ण रूप (जगन्नाथ) की पूजा होती है। पीएम मोदी के गृहराज्य गुजरात का द्वारका भी कृष्ण से जुड़ा एक अहम तीर्थस्थल है। आंध्र प्रदेश, तेलंगाना, पश्चिम बंगाल और ओडिशा में भगवान विष्णु के ठाकुर रूप की भी पूजा होती है। बीजेपी नेतृत्व इन तमाम धार्मिक प्रतीकों को अपने पक्ष में इस्तेमाल करने की कोशिश करेगा।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App