Mann Ki Baat: ‘त्योहारों के बीच याद रखें कोरोना अभी गया नहीं, प्रोटोकॉल का पालन करना न भूलें’- बोले PM मोदी

PM Modi in Mann Ki Baat: मन की बात कार्यक्रम में बोले पीएम, “इस बार 15 अगस्त को देश अपनी आजादी के 75वें वर्ष में प्रवेश कर रहा है। ये हमारा बहुत बड़ा सौभाग्य है कि जिस आजादी के लिए देश ने सदियों का इंतजार किया, उसके 75 वर्ष होने के हम साक्षी बन रहे हैं।”

Bakrid, COVID-19
हाल ही में बकरीद के दौरान बड़ी संख्या में लोगों को कोरोना प्रोटोकॉल तोड़ते देखा गया था, पीएम ने चेताया कि त्योहारों के बीच सावधानी कम नहीं करनी है। (फोटो- ANI)

PM Modi in Mann Ki Baat: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जुलाई के आखिरी रविवार को अपने रेडियो कार्यक्रम मन की बात के जरिए जनता को संबोधित किया। पीएम ने इसमें सबसे पहले ओलिंपिक खेलों में गए खिलाड़ियों को शुभकामनाएं देते हुए, उनसे बातचीत का जिक्र किया। पीएम ने कहा कि दो दिन पहले की अद्भुत तस्वीरें, यादगार पल, अब भी मेरी आंखों के सामने हैं। टोक्यो ऑलंपिक में भारतीय खिलाड़ियों को तिरंगा लेकर चलता देखकर मैं ही नहीं, पूरा देश ही रोमांचित हो उठा। पूरे देश ने जैसे अपने इन योद्धाओं से कहा- विजयी भवः, विजयी भवः।

मोदी ने आगे कहा, “जो देश के लिए तिरंगा उठाता है, उसके सम्मान में, भावनाओं से भर जाना स्वाभाविक ही है। जब ये खिलाड़ी भारत से गए थे, तो मुझे भी इनसे गप-शप करने का, उनके बारे में जानने का और देश को बताने का अवसर मिला था। ये खिलाड़ी जीवन की अनेक चुनौतियों को पार करके यहां पहुंचे हैं।”

इस दौरान पीएम ने अपने संबोधन में लोगों को संदेश देते हुए कहा कि त्योहारों के दौरान वे न भूलें कि कोरोना अभी हमारे बीच से नहीं गया है। मोदी ने कहा कि कोरोना प्रोटोकॉल का पालन करना जारी रखें। पीएम ने कोरोना वैक्सिनेशन का जिक्र करते हुए कहा कि सुरक्षा भी जरूरी है। साथ ही उन्होंने चंडीगढ़ के एक शख्स- संज राणा का जिक्र किया, जो वैक्सीन लगवाने वालों को मुफ्त में छोले भटूरे खिला रहे हैं। पीएम ने कहा कि इन बातों से संदेश मिलता है कि हम नौकरी के साथ-साथ परोपकार पर भी काम कर सकते हैं।

पीएम ने स्वतंत्रता दिवस और कारगिल विजय दिवस का जिक्र करते हुए कहा, “कल यानी 26 जुलाई को कारगिल विजय दिवस भी है। कारगिल का युद्ध भारत की सेनाओं के शौर्य और संयम का ऐसा प्रतीक है, जिसे पूरी दुनिया ने देखा है।” पीएम ने आगे कहा, “इस बार 15 अगस्त को देश अपनी आजादी के 75वें वर्ष में प्रवेश कर रहा है। ये हमारा बहुत बड़ा सौभाग्य है कि जिस आजादी के लिए देश ने सदियों का इंतजार किया, उसके 75 वर्ष होने के हम साक्षी बन रहे हैं।”

पीएम ने आगे कहा, “कितने ही स्वाधीनता सेनानी और महापुरुष हैं, जिन्हें अमृत महोत्सव में देश याद कर रहा है। सरकार और सामाजिक संगठनों की तरफ से भी लगातार इससे जुड़े कार्यक्रम आयोजित किये जा रहे हैं। रोज के काम करते हुए भी हम राष्ट्र निर्माण कर सकते हैं, जैसे वोकल फॉर लोकल। हमारे देश के स्थानीय उद्यमियों, कलाकारों, शिल्पकारों, बुनकरों को सपोर्ट करना, हमारे सहज स्वभाव में होना चाहिए।

मोदी ने बताया कि देश के ग्रामीण और आदिवासी इलाकों में, हैंडलूम कमाई का बहुत बड़ा साधन है। पीएम ने कहा कि ये ऐसा क्षेत्र है जिससे लाखों महिलाएं, लाखों बुनकर, लाखों शिल्पी, जुड़े हुए हैं। आपके छोटे-छोटे प्रयास बुनकरों में एक नई उम्मीद जगाएंगे। उन्होंने कहा, “साल 2014 के बाद से ही मन की बात में हम अक्सर खादी की बात करते हैं। ये आपका ही प्रयास है कि आज देश में खादी की बिक्री कई गुना बढ़ गई है। जब आप कहीं भी खादी का कुछ खरीदते हैं, तो इसका लाभ हमारे गरीब बुनकर भाई-बहनों को होता है।”

अपडेट