ताज़ा खबर
 

नरेंद्र मोदी ने उड़ाया राहुल गांधी का मजाक- 15 मिनट में पांच बार ”विश्वेश्वरय्या” बोल कर दिखाओ

प्रधानमंत्री ने राहुल गांधी की चुनौती पर पलटवार करते हुए कहा, 'कांग्रेस के श्रीमान अध्यक्ष जी, आपने बिल्कुल सही फरमाया। हम आपके सामने नहीं बैठ सकते, आप तो 'नामदार' हैं और हम 'कामदार' हैं। हमारी क्या हैसियत है आपके सामने बैठने की।'

राहुल गांधी और पीएम नरेंद्र मोदी (पीटीआई फोटो/एक्सप्रेस फाइल फोटो)

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज यानी मंगलवार (1 मई) से कर्नाटक में अपने चुनाव प्रचार अभियान की शुरुआत करते हुए कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी पर जोरदार हमला बोला। उन्होंने राहुल गांधी को कर्नाटक की कांग्रेस सरकार की उपलब्धियों पर लगातार 15 मिनट तक बोलने की चुनौती दे दी। दरअसल, एक कार्यक्रम के दौरान कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा था कि अगर वह संसद में लगातार 15 मिनट तक बोलेंगे तो पीएम मोदी उनके सामने बैठ भी नहीं पाएंगे। प्रधानमंत्री ने राहुल गांधी की इसी चुनौती पर पलटवार करते हुए कहा, ‘कांग्रेस के श्रीमान अध्यक्ष जी, आपने बिल्कुल सही फरमाया। हम आपके सामने नहीं बैठ सकते, आप तो ‘नामदार’ हैं और हम ‘कामदार’ हैं। हमारी क्या हैसियत है आपके सामने बैठने की। आप ‘नामदार’ हैं, हम ‘कामदार’ हैं, हम तो अच्छे कपड़े भी नहीं पहन सकते हैं, ऐसे में आपके सामने बैठने का हक हमें कैसे हो सकता है।’

मोदी ने आगे राहुल गांधी को चुनौती देते हुए कहा कि वह चाहें तो कर्नाटक चुनाव प्रचार के दौरान राज्य की कांग्रेस सरकार की उपलब्धियों पर लगातार 15 मिनट अपनी पसंदीदा भाषा में, पेपर का सहारा लिए बिना बोलकर दिखाएं। इसके अलावा उन्होंने राहुल गांधी को यह भी चुनौती दे डाली कि उन्हें अपने इस भाषण में 15 मिनट के अंदर करीब 5 बार भारत की महान शख्सियत विश्वेश्वरय्या के नाम का उल्लेख करना होगा। आपको बता दें कि हाल ही में राहुल गांधी का एक भाषण काफी वायरल हुआ था, जिसमें राहुल गांधी विश्वेश्वरय्या के नाम का उच्चारण करने में गलती करते दिखाई दे रहे थे।

प्रधानमंत्री ने अपने भाषण में कहा, ‘हम कामदार हैं और नामदार के जुल्म झेलते हुए आए हैं। हम झेलने की ताकत बढ़ाते जा रहे हैं। मोदी जी को छोड़ो नामदार, इस कामदार की क्या बात करें, लेकिन एक काम करो आप इस चुनाव अभियान के दौरान कर्नाटक में, आपको जो भाषा पसंद हो उसमें, वह चाहे हिंदी हो या अंग्रेजी या आपकी माता जी की मातृभाषा ही क्यों न हो। आप 15 मिनट हाथ में कागज लिए बिना कर्नाटक की आपकी सरकार की उपलब्धियां जनता के सामने बोल दीजिए। साथ में एक छोटा काम भी कीजिएगा, उस 15 मिनट के भाषण के दौरान कम से कम 5 बार आप श्रीमान विश्वेश्वरय्या के नाम का उल्लेख कर दीजिएगा। इतना कर लोगे तो कर्नाटक की जनता तय कर लेगी कि आपकी बातों में कितना दम है।’

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App