scorecardresearch

PM Narendra Modi: सरकारी कामों की गुणवत्ता गुपचुप कैसे जांचते हैं नरेंद्र मोदी, ड्रोन महोत्‍सव में किया खुलासा

ड्रोन महोत्सव के उद्घाटन के दौरान पीएम मोदी ने अपने संबोधन में कहा कि 21वीं सदी के नए भारत में, युवा भारत में, हमने देश को नई शक्ति देने के लिए, स्पीड और स्केल देने के लिए तकनीक को अहम माध्यम बनाया है।

Bharat Drone Mahotsav 2022, pm modi
पीएम मोदी नरेंद्र मोदी(फोटो सोर्स:ट्विटर/@BJP4India)।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को देश के सबसे बड़े ड्रोन महोत्सव के उद्घाटन के दौरान बताया कि वो सरकारी कामों की गुणवत्ता कैसे जांचते हैं। उन्होंने कहा कि जब मुझे किसी सरकारी प्रोजेक्ट की गुणवत्ता जांचनी होती है तो मैं वहां अचानक ड्रोन भेजकर जानकारी ले लेता हूं। इससे किसी को पता भी नहीं चलता कि मैंने सारी जानकारी ली है।

उन्होंने कहा कि ये जरुरी नहीं है कि मैं गुणवत्ता जांचने के लिए पहले से ही जानकारी दूं, अगर ऐसा करूं तो वहां पहले से ही सबकुछ ठीक हो जाएगा। इसके साथ ही पीएम मोदी ने कहा कि हमारे यहां कुछ लोग टेक्नोलॉजी का डर दिखाकर उसे नकारने का प्रयास भी करते हैं कि अगर ये टेक्नोलॉजी आई तो ऐसा हो जाएगा, वैसा हो जाएगा।

पीएम मोदी ने कहा कि पहले की सरकारों के समय टेक्नॉलॉजी को एक समस्या की तरह देखा गया। उसे गरीबों के खिलाफ साबित करने की कोशिशें हुईं। इस कारण 2014 से पहले गवर्नेंस में टेक्नॉलॉजी के उपयोग को लेकर उदासीनता का वातावरण रहा। इसका सबसे अधिक नुकसान देश के गरीब को हुआ, वंचित को हुआ, मिडिल क्लास को हुआ।

उन्होंने कहा, “हमारे वहां ये मान लिया गया था कि तकनीकि सिर्फ अमीर लोगों का कारोबार है, सामान्य लोगों की जिंदगी में इसका कोई स्थान नहीं है। इस पूरी मानसिकता को बदलकर हमने तकनीक को सर्वजन के लिए सुलभ करने के लिए अनेक कदम उठाए हैं और आगे भी उठाने वाले हैं।”

ड्रोन की उपयोगिता: पीएम मोदी ने कहा, “पीएम स्वामित्व योजना के तहत पहली बार देश के गांवों की हर प्रॉपर्टी की डिजिटल मैपिंग की जा रही है। डिजिटल प्रॉपर्टी कार्ड लोगों को दिए जा रहे हैं। इससे भेदभाव की गुंजाइश खत्म हुई है। इसमें बड़ी भूमिका ड्रोन की रही है।”

किसान और तकनीकी को लेकर क्या कहा: पीएम मोदी ने कहा कि बीते 8 साल में जो प्रयास हुए हैं, उसने किसानों का तकनीक के प्रति भरोसा बहुत बढ़ा दिया है। आज देश का किसान तकनीक के साथ कहीं ज्यादा सहज है, उसे ज्यादा से ज्यादा अपना रहा है। उन्होंने कहा कि ड्रोन तकनीक हमारे कृषि सेक्टर को अब दूसरे स्तर पर ले जाने वाली है। स्मार्ट तकनीक आधारित ड्रोन इसमें बहुत काम आ सकते हैं।

पीएम मोदी ने कहा कि भारत में ड्रोन प्रौद्योगिकी को लेकर जिस तरह का जोश देखा जा रहा है वह सराहनीय है। इस उभरते क्षेत्र में रोजगार पैदा होने की संभावनाएं हैं। उन्होंने कहा कि आठ साल पहले हमने सुशासन के नए मंत्रों को लागू करना शुरू किया और न्यूनतम सरकार तथा अधिकतम शासन के मंत्र का पालन करते हुए जीवन की सुगमता और कारोबार की सुगमता को प्राथमिकता दी गयी।

बता दें कि राष्ट्रीय राजधानी में दो दिवसीय ‘भारत ड्रोन महोत्सव 2022’ आयोजित किया जा रहा है। 27 मई महोत्सव का पहला दिन है। इसमें प्रधानमंत्री मोदी के अलावा नागरिक उड्डयन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया, स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मांडविया, रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव, पर्यावरण मंत्री भूपेन्द्र यादव और ग्रामीण विकास मंत्री गिरिराज सिंह भी मौजूद थे।

इस महोत्सव में सरकारी अधिकारियों, विदेशी राजनयिकों, सशस्त्र बलों, केन्द्रीय सशस्त्र पुलिस बलों सहित, निजी कंपनियों और ड्रोन स्टार्टअप से जुड़े 1,600 से अधिक लोग भाग ले रहे हैं।

पढें राष्ट्रीय (National News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.