ताज़ा खबर
 

‘जिन्हें भुला दिया गया, उनका भी हो सम्मान’, नरेंद्र मोदी बोले- ग्रैंड म्यूजियम में दिखेंगे सभी पूर्व PM

बकौल मोदी, ‘‘देश के इन प्रधानमंत्रियों को प्रयत्नपूर्वक भुला दिया दिया गया, जबकि हर किसी का योगदान रहा है। एक जमात है, कुछ लोग हैं जिनको सभी अधिकार प्राप्त हैं, रिजर्वेशन है।’’

नई दिल्ली स्थित संसद भवन पुस्तकालय में कार्यक्रम को संबोधित करते पीएम नरेंद्र मोदी। (फोटोः पीटीआई)

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा है कि देश में एक जमात ने डॉ.भीम राव अंबेडकर और सरदार वल्लभभाई पटेल सरीखी महान विभूतियों की ‘प्रतिकूल छवि’ गढ़ने का प्रयास किया। उन्होंने इसके साथ ही कई पूर्व पीएम की स्मृतियों को मिटाने की कोशिश भी की। ऐसे में जिन्हें भुला दिया गया है, उनका भी सम्मान किया जाना चाहिए। पीएम मोदी आगे बोले- मैंने ‘ठान’ लिया है कि दिल्ली में सभी पूर्व पीएम की याद में एक बड़ा आधुनिक संग्रहालय बनाया जाएगा, जहां सभी पूर्व पीएम की प्रतिमाएं नजर आएंगी।

दरअसल, बुधवार (24 जुलाई, 2019) को राज्यसभा के उपसभापति हरिवंश की पूर्व पीएम चंद्रशेखर पर नई किताब ‘चंद्रशेखर- दि लास्ट आइकान ऑफ आइडियोलॉजिकल पालिटिक्स’ का संसद भवन पुस्तकालय में विमोचन हुआ। पीएम मोदी ने इसके बाद कहा कि आज हम किसी से पूछें कि कितने प्रधानमंत्री हुए, वे कौन-कौन हैं..तब कम लोग ही इनके बारे में पूरा बता पाएंगे।

बकौल मोदी, ‘‘देश के इन प्रधानमंत्रियों को प्रयत्नपूर्वक भुला दिया दिया गया, जबकि हर किसी का योगदान रहा है। एक जमात है, कुछ लोग हैं जिनको सभी अधिकार प्राप्त हैं, रिजर्वेशन है।’’ पीएम ने आगे सवाल किया, ‘‘लाल बहादुर शास्त्री अगर जीवित लौटकर आते तो यही जमात उनके साथ क्या क्या करती?”

पीएम के मुताबिक, “आप सबके आशीर्वाद से मैंने ठान लिया है कि दिल्ली में सभी पूर्व पीएम की स्मृति में एक बहुत बड़ा आधुनिक संग्रहालय बनाया जाएगा।” उन्होंने इस संदर्भ में पूर्व पीएम एच डी देवेगौड़ा, आई के गुजराल, चंद्रशेखर और मनमोहन सिंह का भी जिक्र किया। मोदी ने विभिन्न पूर्व प्रधानमंत्रियों के परिजन, रिश्तेदारों और दोस्तों से उनसे जुड़ी चीजों को साझा करने को कहा।

चंद्रशेखर की पदयात्रा का जिक्र करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि आज छोटा-मोटा कोई नेता भी 10-12 किमी की पदयात्रा कर ले तो तो 24 घंटे खबरों में बना रहेगा। मोदी ने बताया, ‘‘चंद्रेशखर जी ने चुनाव के दौरान नहीं, बल्कि गांव, गरीब, किसान को ध्यान में रखकर पदयात्रा की। लेकिन देश ने उन्हें जो गौरव देना चाहिए था, वह नहीं दिया। हम चूक गए।’’

Next Stories
1 Indian Railways: इस जोन में आगामी दिनों में प्रभावित रहेंगी ट्रेन सेवाएं, ये है वजह
2 नरेंद्र मोदी ने सुनाया किस्सा, ‘चंद्रशेखर को देख भैरो सिंह शेखावत ने मेरी जेब में डाल दिया था अपना सामान’
3 संसद में TMC सांसद का खुलासा- 13 साल की उम्र में हुआ था यौन शोषण
ये  पढ़ा क्या?
X