ताज़ा खबर
 

1.3 अरब भारतीयों का एक ही मिशन है ‘आत्मनिर्भर भारत, US-India स्ट्रेटेजिक पार्टनरशिप फोरम में बोले पीएम मोदी

पीएम मोदी ने कहा कि भारत में चुनौतियों के लिए आपके पास एक सरकार है जो परिणाम देने में विश्वास रखती है जिसके लिए जीवन जीने में आसानी उतनी ही महत्वपूर्ण है जितना व्यवसाय करने में आसानी।

पीएम मोदी ने कहा कि हमने सबसे पहले सोशल डिस्टेंसिंग के पब्लिक अवेयरनेस कैंपने चलाए। (फोटोः Narendra Modi/YouTube)

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बृहस्पतिवार को यूएस-इंडिया स्ट्रेटेजिक पार्टनरशिप फोरम के तीसरे वार्षिक नेतृत्व शिखर सम्मेलन को संबोधित किया। प्रधानमंत्री ने कहा  कि भारत दुनिया में निवेश के लिये सबसे बेहतर स्थान है। यहां राजनीतिक स्थिरता के साथ नीतिगत मामले में एक भरोसा है और ये चीजें कोविड-19 महामारी के बाद भारत को निवेश के लिहाज से सबसे बेहतर स्थल बनाती हैं। पीएम मोदी ने इसमें कहा कि भारत ने रिकॉर्ड समय में अपनी कोविड-19 संबंधी सुविधाओं का विस्तार किया।

उन्होंने कहा कि कोविड-19 महामारी से अनेक चीजें प्रभावित हुई होंगी, लेकिन 130 करोड़ भारतीयों की आकांक्षाएं नहीं। वर्तमान स्थिति एक नई मानसिकता की मांग करती है। एक मानसिकता जिसका दृष्टिकोण विकास के लिए मानव केंद्रित हो। उन्होंने कहा कि 1.3 अरब भारतीयों का एक ही मिशन है ‘आत्मनिर्भर भारत’। ‘आत्मनिर्भर भारत’ लोकल का ग्लोबल में विलय है। यह भारत की ताकत को ग्लोबल फोर्स मल्टिप्लायर के रूप में सुनिश्चित करता है।

पीएम मोदी ने कहा कि भारत में चुनौतियों के लिए आपके पास एक सरकार है जो परिणाम देने में विश्वास रखती है जिसके लिए जीवन जीने में आसानी उतनी ही महत्वपूर्ण है जितना व्यवसाय करने में आसानी। आप एक युवा देश को देख रहे हैं जिसकी 65% आबादी 35 वर्ष से कम है। प्रधानमंत्री ने कहा कि पूरे कोरोना पीरियड के दौरान, लॉकडाउन के समय भारत सरकार का एक ही मकसद था – गरीबों की रक्षा करना।

प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना पूरे विश्व की सबसे बड़ी समर्थन प्रणाली है। इसके तहत लगभग 800 मिलियन लोगों को खाद्यान्न उपलब्ध करवाया गया।  अपनी सरकार की तरफ से सुधारों की दिशा में उठाये गये कदमों का जिक्र किया। उन्होंने जोर देकर कहा कि भारत एक मजबूत लोकतांत्रिक और विविधता वाला देश है और इसमें हाल के महीनों में दूरगामी सुधार किये गये हैं।

उन्होंने कहा कि मौजूदा परिस्थिति में नयी सोच की जरूरत है जो मानव-केंद्रित हो। भारत ने कोविड-19 महामारी से निपटने के लिये रिकॉर्ड समय में अपनी स्वास्थ्य सुविधाओं का विस्तार कर यही काम किया है।

प्रधानमंत्री ने यह भी कहा कि भारत सामाजिक दूरी के बारे में अभियान शुरू करने और सार्वजनिक स्वास्थ्य उपायों के रूप में मास्क लगाकर चेहरे को ढंकने की सबसे पहले वकालत करने वाले देशों में से एक था। उन्होंने कहा कि हमने सबसे पहले सोशल डिस्टेंसिंग के लिए पब्लिक अवेयरनेस कैंपेन चलाए थे। मोदी ने कहा कि उनकी सरकार ने कारोबार को आसान बनाने और लालफीताशाही को कम करने के लिए दूरगामी सुधार किये हैं।

Next Stories
1 AAP के ऑक्सीमीटर कैंपेन पर भड़के कैप्टन, पंजाब सीएम ने अरविंद केजरीवाल को कहा-पंजाब से दूर रहो
2 LAC पर मौजूदा स्थिति के लिए चीन की एकतरफा कार्रवाई जिम्मेदार, विदेश मंत्रालय ने कहा- बातचीत के जरिये ही निकलेगा समाधान
3 रूसी अफसर ने मिलाने को बढ़ाया हाथ, राजनाथ सिंह ने जोड़ कर किया नमस्ते, वीडियो हो रहा वायरल
ये पढ़ा क्या ?
X