PM Modi to ask Defence and MEA, search options against Pakistan - Jansatta
ताज़ा खबर
 

मोदी ने रक्षा और विदेश मंत्रियों से पूछा- बताइए, पाकिस्तान की नकेल कसने के लिए क्या हो सकते हैं विकल्प?

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उरी हमले को लेकर शनिवार के भाषण में पाकिस्तान को कड़ा संदेश दिया। पीएम मोदी के इस भाषण को एक महत्वपूर्ण नीतिगत बदलाव के रूप में देखा जा रहा है।

Author नई दिल्ली | September 26, 2016 11:28 AM
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी। (फाइल फोटो)

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उरी हमले को लेकर शनिवार के भाषण में पाकिस्तान को कड़ा संदेश दिया। पीएम मोदी के इस भाषण को एक महत्वपूर्ण नीतिगत बदलाव के रूप में देखा जा रहा है। वरिष्ठ पॉलिसी मेकर्स ने बदलावों को परिभाषित करते हुए बताया कि पाकिस्तान के खिलाफ आक्रामक नीति अपनाने, पाकिस्तानी सेना की ओर से मिलने वाली चुनौती की ओर ध्यान केंद्रित करने और मिलेट्री यूनिट्स तथा आंतकवाद से लड़ने वाली यूनिट्स को ऑपरेशनल अलर्ट पर रखने, इनको लेकर विचार हो सकता है।

ईटी के मुताबिक नीतिगत बदलाव के हिस्से के रूप में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की ओर से पाकिस्तान के खिलाफ विकल्प और संभावित दबाव बिंदु (प्रेशर प्वाइंट्स) के बारे में पता लगाने के लिए कहा गया है। पीएम मोदी ने विदेश मंत्रालय और रक्षा मंत्रालय को पाकिस्तान के खिलाफ सैन्य और असैन्य विकल्प खोजने के लिए कहा है। इसी क्रम में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सोमवार को सिंधु जल समझौते को लेकर अहम बैठक करेंगे। बैठक में समझौते के फायदे और नुकसान के बारे में पीएम मोदी को बताया जाएगा। इस बैठक में सीनियर अधिकारी पीएम मोदी को सिंधु जल समझौते के प्रावधानों के बारे में ब्रीफिंग देंगे। एक अधिकारी के मुताबिक इस समय हम कई विकल्प तैयार कर रहे हैं, जिससे जब कभी भी भारत के राजनैतिक लीडरशीप की ओर से आह्लान किया जाए हम उन विकल्पों को क्रियान्वित कर सके।

एक सीनियर अधिकारी के मुताबिक नए विकल्प तलाश करने के दौरान भारत के लिए सबसे बड़ी चिंता कश्मीर घाटी की आतंरिक स्थिति है। आंकलन के मुताबिक कश्मीर में जारी तनाव के बीच पाकिस्तान पर आक्रमक कूटनीतिक और सैन्य कार्रवाई एक साथ नहीं किए जा सकते हैं। रिपोर्ट के मुताबिक उरी हमले के कुछ घंटों भर के भीतर भारत ने सभी बड़े देशों से संपर्क किया था। बता दें कि उरी हमले के बाद गृह मंत्री राजनाथ सिंह की ओर से बुलाई गई हाई लेवल मीटिंग में भी पाकिस्तान को अलग-थलग करने की योजना पर विचार किए जाने की बात सामने आई थी।

गौरतलब है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उरी हमले के बाद पहली बार शनिवार को एक रैली में पाकिस्‍तान पर जमकर बरसे। उन्‍होंने कहा कि पाकिस्‍तान दुनिया में आतंकवाद एक्‍सपोर्ट करता है। वह एशिया को रक्‍तरंजित बनाने में लगा हुआ है। उन्‍होंने साथ ही साफ किया कि उरी में शहीद हुए 18 जवानों का बदला लिया जाएगा। पाक को चुनौती दी कि उसमें हिम्‍मत है तो वह गरीबी, बेरोजगारी, अशिक्षा के मुद्दे पर मुकाबला करके दिखाए।

 

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App