ताज़ा खबर
 

मुजफ्फरपुर से 300 km की दूरी पर संबोधित कर रहे थे PM मोदी, लेकिन ‘चमकी’ पर नहीं बोले एक भी शब्द

पीएम मोदी रांची में सुबह-सुबह योग करते नजर आएं। उन्होंने कहा 'योग हमारी जिंदगी का अहम हिस्सा होना चाहिए। यह शांति, सद्भाव और समन्वय वाली जिंदगी जीने में मदद करता है। पीएम ने इस दौरान योग के बारे में कई और बातें भी कही लेकिन चमकी बुखार से मरने वाले बच्चों के विषय में एक शब्द नहीं कहा।

रांची में योग करते पीएम मोदी। फोटो: इंडियन एक्सप्रेस

मुजफ्फरपुर में चमकी बुखार से 100 से ज्यादा बच्चों की मौत हो चुकी है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मुजफ्फरपुर से 300 किलो मीटर दूर झारखंड के रांची में थे लेकिन उन्होंने इन मौतों पर एक शब्द नहीं बोला। पीएम रांची में पांचवें अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के मौके पर जनता के बीच थे। इस दौरान उन्होंने कई योगासन किए और जनता को संबोधित किया। उनका पूरा कार्यक्रम सोशल मीडिया पर लाइव किया गया।

रांची और मुजफ्फरपुर के बीच 300 किलोमीटर की दूरी का अंतर है। मुजफ्फरपुर में बच्चों की मौत का सिलसिला लगातार जारी है। जिले का श्री कृष्ण मेडिकल कॉलेज और अस्पताल कई बच्चों की मौतों का गवाह बन चुका है। 21 जून यानि कि आज के दिन पूरा विश्व योग दिवस सेलिब्रेट कर रहा है लेकिन मुजफ्फरपुर के बच्चे चमकी बुखार से अस्पताल में जंग लड़ रहे हैं।

पीएम मोदी रांची में सुबह-सुबह योग करते नजर आएं। उन्होंने कहा ‘योग हमारी जिंदगी का अहम हिस्सा होना चाहिए। यह शांति, सद्भाव और समन्वय वाली जिंदगी जीने में मदद करता है। पीएम ने इस दौरान योग के बारे में कई और बातें भी कही लेकिन चमकी बुखार से मरने वाले बच्चों के विषय में एक शब्द नहीं कहा।

ट्वीटर पर भी साधी चुप्पी: पीएम मोदी कीर्गिस्तान के बिश्केक में शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) समिट में हिस्सा लेकर 14 जून को वापस लौटे थे। तब से लेकर अब तक अगर पीएम मोदी के आधिकारिक ट्वीटर हैंडल से किए गए ट्वीट्स पर नजर दौड़ाई जाए तो उन्होंने 56 ट्वीट्स किए हैं जिनें से 30 पोस्ट योग को लेकर हैं। वहीं बाकी बची 26 पोस्ट ‘मन की बात’, नीति आयोग, सर्वदलीय बैठक, संसद का मानसून सत्र, राहुल गांधी को जन्मदिन की शुभकामना और हाल ही में चोट के कारण क्रिकेटर शिखर धवन के विश्व कप से बाहर होने से संबंधित है। वहीं पीएम मोदी से जुड़े अन्य सोशल मीडिया हैंडल पर भी चमकी बुखार से पीड़ितों के प्रति कोई पोस्ट शेयर नहीं की गई है।

हालांकि पीएम मोदी के मंत्री हर्षवर्धन ने मुजफ्फरपुर का दौरा किया और कई घोषणाएं कीं। जिसके बाद बिहार में एनडीए के सहयोगी और सूबे के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने भी अस्पातल का दौरा किया। जहां पर उनका जमकर विरोध किया गया। वहीं अभी तक यह भी साफ नहीं है कि पीएम मोदी की इस मुद्दे पर क्या योजनाएं हैं। क्या उन्होंने स्वास्थ्य मंत्रालय को विशेष निर्देश दिए हैं या नहीं। क्या इस अबूझ बीमारी की वजहों का पता लगाने के लिए केंद्रीय स्तर पर किसी समीति का गठन करवाया जाएगा या नहीं इसपर भी कोई सूचना नहीं है।

Next Stories
1 राम माधव का राहुल गांधी पर कटाक्ष कहा- संसद में भी बच्चे पहुंचे हैं, योग करेंगे तो बचपना दूर होगा
2 ट्रिपल तलाक बिल पर बोले समाजवादी पार्टी के नेता आजम खान- जो कुरान कहता है मेरी पार्टी उसी को सपोर्ट करती है
3 अमेरिका में काम करने वाले के लिए खुशखबरी, H-1B वीजा नियमों में नहीं लगेगा सीमित प्रतिबंध!
ये पढ़ा क्या?
X