ताज़ा खबर
 

कोरोना के ‘तूफान’ ने देश को झकझोरा- ‘मन की बात’ में बोले मोदी; राहुल का पलटवार- सिस्टम हो गया है फेल, जन की बात भी जरूरी

PM Narender Modi Mann Ki Baat: मन की बात कार्यक्रम हर महीने के आखिरी रविवार को प्रसारित किया जाता है, जिसमें पीएम मोदी देश के बड़े मुद्दों पर अपनी राय जनता के सामने रखते हैं।

Author Edited By कीर्तिवर्धऩ मिश्र नई दिल्ली | Updated: April 25, 2021 12:56 PM
कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने पीएम मोदी पर निशाना साधा।

PM Narendra Modi Mann Ki Baat Today: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी रेडियो पर ‘मन की बात’ कार्यक्रम में आज देशवासियों को संबोधित किया। कार्यक्रम की शुरुआत में ही पीएम ने कोरोनावायरस को घातक बताते हुए कहा कि आज आपसे ऐसे समय में मन की बात कर रहा हूं, जब कोरोना हम सभी के धैर्य, हम सभी के दुःख बर्दाश्त करने की सीमा की परीक्षा ले रहा है। पीएम ने कहा कि हम पहली लहर को पार करने के बाद आत्मविश्वास से भरे थे, लेकिन दूसरी लहर ने देश को झकझोर दिया है। इस पर अब कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने ट्वीट कर तंज कसा है। उन्होंने कोरोना के बीच मोदी सरकार की पूरी व्यवस्था विफल होने की बात कही। 

राहुल गांधी ने भाजपा को घेरते हुए कहा, “देश में कोविड-19 के मामलों में अचानक वृद्धि के कारण देश के लोगों को हो रही पीड़ा से उबारने में मदद करना पार्टी का कर्तव्य है। बता दें कि पीएम ने मन की बात में कहा है कि कोविड-19 की दूसरी लहर ने देश को हिला कर रखा दिया है और लोगों को आश्वस्त किया कि केंद्र राज्यों की मदद के लिए पूरी ताकत के साथ काम कर रहा है।

गांधी ने ट्वीट किया, “व्यवस्था विफल हो चुकी है, इसलिए जन की बात करना जरूरी हो गया है।” उन्होंने कहा, ‘‘इस संकट में, देश को जिम्मेदार नागरिकों की जरूरत है। मैं कांग्रेस के अपने सहयोगियों से सभी राजनीतिक कार्य छोड़ने और देशवासियों के दर्द को कम करने तथा हरसंभव मदद देने की अपील करता हूं।”

पीेएम बोले- ‘मुफ्त रहेंगी कोरोना वैक्सीन, टीके को लेकर अफवाह में न आएं’: प्रधानमंत्री ने कहा, “1 मई से 18 साल के ऊपर के लोगों को कोरोना वैक्सीन मिलना शुरू हो जाएंगी। भारत सरकार की तरफ से मुफ्त वैक्सीन का जो कार्यक्रम अभी चल रहा है, वो आगे भी चलता रहेगा।” उन्होंने राज्यों से आग्रह किया कि वो भारत सरकार के इस मुफ्त वैक्सीन अभियान का लाभ अपने राज्य के ज्यादा से ज्यादा लोगों तक पहुंचाएं।” पीएम ने कहा कि कोरोना के इस संकट काल में वैक्सीन की अहमियत सभी को पता चल रही है, इसलिए मेरा आग्रह है कि वैक्सीन को लेकर किसी भी अफवाह में न आएं।

पीएम ने कहा कि अब देश का कॉरपोरेट सेक्टर, कंपनियां भी अपने कर्मचारियों को वैक्सीन लगाने के अभियान में भागीदारी निभायेगी। मुझे ये भी कहना है कि भारत सरकार की तरफ से मुफ़्त वैक्सीन का जो कार्यक्रम अभी चल रहा है, वो आगे भी चलता रहेगा।

‘देश एक बार फिर एकजुट होकर कोरोना से लड़ रहा’: पीएम ने अपने संबोधन में फ्रंटलाइन और मेडिकल क्षेत्र में सेवा दे रहे लोगों की भी तारीफ की। उन्होंने कहा, “आज हमारे मेडिकल फील्ड के लोग, फ्रंटलाइन वर्कर्स, दिन-रात सेवा कार्यों में लगे हैं। वैसे ही समाज के अन्य लोग भी इस समय पीछे नहीं हैं। देश एक बार फिर एकजुट होकर कोरोना के खिलाफ़ लड़ाई लड़ रहा है।”

मोदी ने आगे कहा, “इन दिनों मैं देख रहा हूं कोई क्वारैंटाइन में रह रहे परिवारों के लिए दवा पहुंचा रहा है, कोई सब्जियां, दूध, फल आदि। कोई एंबुलेंस की मुफ़्त सेवाएं मरीजों को दे रहा है। देश के अलग-अलग कोने से इस चुनौतीपूर्ण समय में भी स्वयं सेवी संगठन आगे आकर दूसरों की मदद के लिए जो भी कर सकते हैं, वो करने का प्रयास कर रहे हैं।”

‘गांवों में देखी जा रही जागरुकता, शहरों में आगे आए नौजवान’: इस बार, गांवों में भी नई जागरूकता देखी जा रही है। कोविड नियमों का सख्ती से पालन करते हुए लोग अपने गांव की कोरोना से रक्षा कर रहे हैं, जो लोग, बाहर से आ रहे हैं उनके लिए सही व्यवस्थायें भी बनाई जा रही हैं। पीएम ने कहा कि शहरों में भी कई नौजवान आगे आए हैं, जो अपने क्षेत्र में कोरोना के केस न बढ़ें, इसके लिए स्थानी निवासियों के साथ मिलकर प्रयास कर रहे हैं।

एक तरफ देश दिन-रात अस्पतालों, वेंटिलेटरों और दवाइयों के लिए काम कर रहा है, तो दूसरी ओर देशवासी भी जी-जान से कोरोना की चुनौती का मुकाबला कर रहे हैं। ये भावना हमें ताकत देती है। यही समजा की बहुत बड़ी सेवा है। ये समाज की शक्ति बढ़ाते हैं।

‘सिर्फ सही सोर्स से जानकारी लें लोग’: पीएम ने संबोधन में लोगों से अपील करते हुए कहा, “मैं आप सबसे आग्रह करता हूं, आपको अगर कोई भी जानकारी चाहिए हो, कोई और आशंका हो, तो सही सोर्स से ही जानकारी लें।” मोदी ने आगे कहा, “हो सके तो आपके आसपास जो डॉक्टर हों, आप उनसे फोन से संपर्क कर सलाह लीजिए। कई डॉक्टर्स सोशल मीडिया के जरिए लोगों को जानकारी दे रहे हैं। फोन पर, वॉट्सऐप पर भी काउंसलिंग कर रहे हैं। ये बहुत सराहनीय है।”

Next Stories
1 कोरोनाः भारत में छुपाया जा रहा मौतों का आंकड़ा? जानें- क्या कुछ है इस पर विदेशी मीडिया कवरेज में
2 शहाबुद्दीन दूध के धुले हैं?- जब प्रभु चावला ने इस सवाल पर बोले थे लालू यादव- कौन दूध का धुला है इस देश में?
3 जब विजय माल्या ने कैमरे पर ‘सियासी गुरु’ का कराया था परिचय, जवाब आया था- सर मैं आपका सबसे पहला टारगेट बन रहा हूं
यह पढ़ा क्या?
X