ताज़ा खबर
 

सिंगापुर में एकता, सद्भाव पर मोदी ने दिया जोर, कहा- विश्व के लिए संकट नहीं बनेगा भारत

भारत में असहिष्णुता के मुद्दे पर चल रही बहस के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को भारतीयों से कहा कि वे ‘एकता और अखंडता’ के मंत्र के साथ दुनिया में आगे बढ़ें ।

Author सिंगापुर | November 25, 2015 1:45 AM
सिंगापुर एक्‍सपो में भारतीय समुदाय के लोगों को संबोधित करते पीएम नरेंद्र मोदी ( फोटो ANI)

भारत में असहिष्णुता के मुद्दे पर चल रही बहस के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को भारतीयों से कहा कि वे ‘एकता और अखंडता’ के मंत्र के साथ दुनिया में आगे बढ़ें । अपनी दो दिवसीय सिंगापुर यात्रा संपन्न करने से पहले यहां भारतीय समुदाय को संबोधित करते हुए मोदी ने भारत में विकास के लिए किए जा रहे अपने प्रयासों और देश के गौरव को सहेजने में एकता और सद्भाव के महत्त्व का जिक्र किया।

उन्होंने कहा कि उनकी सरकार विकास पर जोर देते हुए भारतीयों के आत्मविश्वास को बढ़ाने पर काम कर रही है जिससे ‘लोगों के आंसू पोछे जाएंगे, नौकरियां मिलेंगी, किसान समृद्ध होंगे, महिलाएं सशक्त होंगी और एकता -अखंडता के मंत्र के साथ वे दुनिया में आगे बढेंगे। जलवायु परिवर्तन पर पेरिस में होने वाले सम्मेलन से पहले प्रधानमंत्री मोदी ने जोर दिया कि ग्लोबल वार्मिंग से निपटने के प्रयासों में भारत, दुनिया के लिए ‘संकट’ नहीं खड़ा करेगा । मोदी के इस बयान को अमेरिका की उस दलील से जोड़ कर देखा जा रहा है कि बैठक में भारत एक चुनौती होगा। प्रधानमंत्री ने कहा कि विकास के लिए भारत को बड़ी मात्रा में ऊर्जा की जरूरत है। लेकिन जलवायु परिवर्तन की समस्या से निपटने के लिए भारत जो भी होगा, वह करेगा क्योंकि वह दुनिया को एक परिवार के रूप में देखता है। हम वे लोग हैं जो पौधे में परमात्मा और जीव में जीव को देखते हैं। इससे पहले प्रधानमंत्री ली सीन लूंग की ओर से दिए गए भोज समारोह में मोदी ने हर क्षेत्र में बदलाव लाने में सिंगापुर के योगदान को रेखांकित करते हुए कहा कि प्रगति की नई ऊंचाइयां छूने को अग्रसर भारत असीम संभावनाओं की भूमि है।

मंगलवार शाम को भारतीय समुदाय के बीच मोदी ने कहा कि सरकार सौर, परमाणु, पवन, जैव संसाधनों से स्वच्छ और नवीकरणीय ऊर्जा पैदा करने पर जोर दे रही है और इस उद्देश्य के लिए हमने 175 गीगावाट नवीकरणीय ऊर्जा का लक्ष्य रखा है। हम बिजली पैदा करना चाहते हैं। लेकिन दुनिया कोयले से बिजली पैदा करने को मना कर रही है। हम मानवता का भला चाहते हैं, हम ऊर्ज