ताज़ा खबर
 

Mann ki Baat: मोदी बोले- खादी एक राष्ट्रीय प्रतीक, गांधी के सपने को आगे बढ़ा रही हमारी सरकार

अपने चर्चित रेडियो कार्यक्रम मन की बात में इस बार प्रधानमंत्री मोदी ने खादी और फसल बीमा योजना के विषय में लोगों से बातचीत की। मोदी ने कहा कि आजादी के आंदोलन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाली खादी आज एक फैशन परिधान बन चुकी है।

Author नई दिल्ली | January 31, 2016 1:27 PM
पीएम मोदी। (फाइल फोटो)

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपने चर्चित रेडियो कार्यक्रम ‘मन की बात’ में रविवार सुबह देशवासियों से बात की। इस बार मन की बात कार्यक्रम में प्रधानमंत्री मोदी ने खादी और फसल बीमा योजना के विषय पर अपने विचार रखे। मोदी ने कहा कि खादी एक राष्ट्रीय प्रतीक और युवा पीढ़ी के आकर्षण का केंद्र बन गया है । उन्होंने कहा कि खादी के जरिये भारतवासियों को स्वाबलंबी बनाने के राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के सपने को उनकी सरकार आगे बढ़ा रही है और विभिन्न सरकारी संस्थान आगे बढ़कर खादी के उत्पादों का उपयोग कर रहे हैं।

प्रधानमंत्री ने कहा कि नव गठित खादी एवं ग्रामोद्योग आयोग नये अवसरों एवं चुनौतियों को ध्यान में रखकर कई महत्वपूर्ण पहल कर रहा है। इन पहलों के तहत सौर चरखा और सौर लूम से उत्पादन के सफल प्रयास किये जा रहे हैं।  उन्होंने कहा कि सौर उर्जा से चलने वाले चरखा और लूम से बुनकर पहले से कम मेहनत में अधिक उत्पादन और दोगुनी आमदनी पा सकेंगे। मोदी ने कहा कि आजादी के आंदोलन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाली खादी आज एक फैशन परिधान बन गई है और सरकार भारत के गांव गांव में खादी और ग्रामोद्योग का नेटवर्क तैयार करना चाहती है। इससे लोगों को रोजागार से जोड़कर गांव के प्रत्येक परिवार को सबल बनाया जा सकेगा ।

प्रधानमंत्री ने कहा, ‘‘ मैंने कल पूज्य बापू की पुण्य तिथि पर देश में खादी एवं ग्रामोद्योग से जुड़े हुए जितने लोगों तक पहुंच सकता हूं, मैंने पत्र लिख कर पहुंचने का प्रयास किया। खादी को बढावा देने के लिए ऐसे इंतजाम किये जा रहे हैं जिससे इस उद्योग से जुडे लोगों को अटल पेंशन योजना, प्रधानमंत्री जीवन ज्योति बीमा योजना और प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजना जैसी कल्याणकारी विभिन्न योजनाओं का लाभ आसानी से मिल सके ” प्रधानमंत्री ने इस बात पर प्रसन्नता जतायी कि खादी के उत्पादों का उपयोग करने के लिए रेल मंत्रालय, पुलिस विभाग, भारतीय नौसेना, डाक विभाग सहित अन्य सरकारी संस्थान आगे आ रहे हैं ।

इसके साथ ही प्रधानमंत्री मोदी ने कहा फसल बीमा योजना का जिक्र करते हुए कहा कि इस बार प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना को काफी जनस्वीकृति मिली है, क्योंकि इसे बहुत व्यापक और सरल बना दिया गया है । इतनी प्रौद्योगिकी का उपयोग कर रहे हैं । इतना ही नहीं, फसल कटने के बाद भी अगर 15 दिन में कुछ होता है, तो भी मदद का आश्वासन दिया है। टेक्नोलॉजी का उपयोग करके, उसकी गति तेज कैसे हो, बीमा के पैसे पाने में देरी न हो – इन सारी बातों पर ध्यान दिया गया है।

उन्होंने कहा कि सबसे बड़ी बात है कि फसल बीमा की प्रीमियम की दर, इतनी नीचे कर दी गयी, जो शायद किसी ने सोचा भी नहीं होगा। नयी बीमा योजना में किसानों के लिये प्रीमियम की अधिकतम सीमा खरीफ की फसल के लिये दो प्रतिशत और रबी की फसल के लिए डेढ़ प्रतिशत होगी।

लोगों से इस योजना का प्रसार करने का आग्रह करते हुए मोदी ने कहा कि अब मुझे बताइए, कोई किसान भाई अगर इस बात से वंचित रहे, तो नुकसान होगा कि नहीं होगा? आप किसान नहीं होंगे, लेकिन मेरी मन की बात सुन रहे हैं। क्या आप किसानों को मेरी बात पहुंचायेंगे? और इसलिए मैं चाहता हूं कि आप इसको अधिक से अधिक प्रचारित करें।

प्रधानमंत्री ने कहा कि इसके लिए इस बार मैं आपके लिये एक नयी योजना भी लाया हूं । मैं चाहता हूं कि मेरी प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना की बात लोगों तक पहुंचे। टी.वी. पर, रेडियो पर मेरी मन की बात आप सुन लेते हैं। लेकिन बाद में सुनना हो तो क्या? अब आप अपने मोबाइल फोन पर भी मेरे मन की बात सुन सकते हैं और कभी भी सुन सकते हैं। मन की बात के लिये मोबाइल फोन का नंबर तय किया है। अब लोग 8190881908 पर मिस्ड कॉल देकर मोबाइल फोन पर भी सुन सकते हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App