ताज़ा खबर
 

RS से ‘आजाद’ हुए ‘गुलाम’: कांग्रेस MP की विदाई पर 1 कॉल का जिक्र कर रुआंसे हुए PM, बताई क्या हुई थी दोनों में बात

चार राज्यसभा सदस्यों की विदाई पर भाषण देते हुए प्रधानमंत्री मोदी भावुक हो गए। उन्होंने आतंकी घटना और गुलाम नबी आज़ाद के फोन वाली बात बताई।

PM Modi, ghulam nabi azadग़लाम नबी आज़ाद की बात करते हुए भावुक हुए पीएम मोदी। फोटो- राज्यसभा टीवी

राज्यसभा में जम्मू-कश्मीर के चार सांसदों की विदाई के दौरान भाषण देते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने आतंकी घटना का जिक्र किया और वह भावुक हो गए। वह काफी देर तक कुछ बोल ही नहीं पाए। सॉरी…बोलते हुए उन्होंने दोबारा बोलना शुरू किया लेकिन फिर उनका गला भर आया। उन्होंने कांग्रेस नेता गुलाम नबी आज़ाद के फोन वाली बात बताई। उन्होंने कहा, ‘आप जैसे अपने परिवार के सदस्य की चिंता करें वैसी ही चिंता…।’ इस दौरान पीएम मोदी पूरा सेटेंस भी नहीं बोल पाए। पीएम मोदी ने कहा, एक मित्र के रूप में गुलाम नबी आजाद का मैं आदर करता हूं। घटना और अनुभवों के आधार पर उनका सम्मान करता हूं।

प्रधानमंत्री ने कहा, सत्ता जीवन में आती रहती है लेकिन उसे कैसे पचाना है, यह आज़ाद जी से पूछिए। उन्होंने कहा, एक बार गुजरात के यात्रियों पर आतंकियों ने हमला कर दिया। लगभग 8 लोग मारे गए थे। सबसे पहले गुलाम नबी जी का मुझे फोन आया। वह फोन, सिर्फ सूचना देने का नहीं था। उनके आंसू रुक नहीं रहे थे। उस समय प्रणव मुखर्जी साहब मंत्री थे। मैंने उनसे कहा, अगर डेड बॉडी लाने के लिए हवाई जहाज मिल जाए। मुखर्जी जी ने कहा चिंता न कीजिए। रात में फिर गुलाम नबी जी का फोन आया। जैसे अपने परिवार के सदस्य की चिंता की जाती है वैसी ही चिंता वह लोगों के लिए करते थे।

प्रधानमंत्री मोदी ने कांग्रेस के वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आज़ाद से जुड़ीं कई बातें साझा कीं और उनकी प्रशंसा की। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, गुलाम नबी आज़ाद जैसे नेता कम ही हैं जो कि पार्टी के लिए तो काम करते ही हैं साथ ही लोगों के लिए चिंतित रहते हैं। प्रधानमंत्री ने यह भी बताया कि एक बार वह गुलाम नबी जी के साथ लॉबी में बात कर रहे थे। पत्रकार लोग देख रहे थे और उन्होंने घेर लिया। गुलाम नबी आज़ाद ने कहा, हम बाहर विरोध करते ज़रूर नज़र आते हैं लेकिन हमारे बीच रिश्ते बहुत अच्छे हैं।

पीएम मोदी ने गुलाम नबी आज़ाद के बगीचे का भी जिक्र किया और कहा कि यह कश्मीर से कम नहीं है। बता दें कि गुलाम नबी आज़ाद पांच बार राज्यसभा और दो बार लोकसभा के सांसद रह चुके हैं। कांग्रेस के कद्दावर नेताओं में उनकी गिनती होती है। वह कई मंत्रालयों की जिम्मेदारी भी संभाल चुके हैं।

आजाद के साथ ही भाजपा के शमशेर सिंह मन्हास, और पीडीपी के मीर मोहम्मद फ़ैयाज तथा नजीर अहमद लवाय का कार्यकाल भी समाप्त हो रहा है। आजाद और नजीर अहमद का कार्यकाल 15 फरवरी को और मन्हास तथा मीर फयाज का कार्यकाल 10 फरवरी को पूरा हो रहा है। मोदी ने चारों सदस्यों को शुभकामनाएं देते हुए कहा कि वे उच्च सदन की शोभा बढ़ाने वाले, सदन में जीवंतता लाने वाले तथा सदन के माध्यम से जनसेवा में रत रहे हैं। उन्होंने कहा कि अवकाशग्रहण कर रहे सदस्य अब नए कार्य की तरफ कदम रख रहे हैं।

Next Stories
1 किसान आंदोलन के बीच क्यों छलक आए थे राकेश टिकैत के आंसू? BKU नेता बोले- ये किसान का आंसू था, अत्याचार न करेंगे बर्दाश्त
2 बचाए गए लोगों ने सुनाई आपबीती: अंधेरी सुरंग में मोबाइल बना उम्मीद की किरण
3 लाल किला हिंसाः मुख्य आरोपी दीप सिद्धू अरेस्ट, DP की स्पेशल सेल ने दबोचा
आज का राशिफल
X