ताज़ा खबर
 

केरल: मोदी का लेफ्ट सरकार पर हमला- कम्युनिस्ट भारत की संस्कृति, इतिहास का सम्मान नहीं करते

प्रधानमंत्री ने कहा कि हम अक्सर देखते हैं कि उद्घाटन के बाद कई आधारभूत परियोजनाएं रूक जाती हैं और जनता का पैसा बेकार हो जाता है। हमने फैसला किया कि जनता का पैसा बर्बाद करने की संस्कृति नहीं चल सकती।

Author Published on: January 15, 2019 10:26 PM
केरल में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी। (Photo: PTI)

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने सबरीमला मुद्दे को लेकर केरल की माकपा के नेतृत्व वाली एलडीएफ सरकार पर मंगलवार को तीखा हमला बोलते हुए कहा कि कम्युनिस्ट भारत की संस्कृति, इतिहास और आध्यात्मिकता का सम्मान नहीं करते। प्रधानमंत्री ने एलडीएफ सरकार और राज्य में यूडीएफ की अगुआई वाले विपक्ष पर निशाना साधा और कहा कि दोनों ही मोर्चे एक ही सिक्के के दो पहलू है। उन्होंने दोनों मोर्चों पर राज्य के लोगों की उपेक्षा करने का आरोप लगाया। मोदी ने एक जनसभा में कहा, ‘‘हम जानते हैं कि कम्युनिस्ट भारत की संस्कृति, इतिहास और आध्यात्मिकता का सम्मान नहीं करते है।’’ उन्होंने कहा कि सबरीमला मुद्दे पर कांग्रेस के कई रूख है। उन्होंने कहा, ‘‘वह संसद में कुछ कहती है और पतनमथिट्टा (जहां अय्यप्पा मंदिर है) में कुछ और कहती है।’’

इससे पहले पीएम मोदी ने मंगलवार को केरल में राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या 66 पर बहुप्रतीक्षित कोल्लम बाईपास का उद्घाटन किया। तेरह किलोमीटर लंबे दो लेन वाले इस बाईपास पर 352 करोड़ रुपये की लागत आई है। इसमें अष्टामुडी झील पर कुल 1540 मीटर लंबे तीन पुल भी शामिल हैं। इस परियोजना से अलप्पुझा और तिरूवनंतपुरम के बीच यात्रा का समय कम हो जाएगा और कोल्लम शहर में ट्रैफिक जाम की समस्या भी कम होगी। बहुप्रतीक्षित परियोजना का शुभारंभ करते हुए मोदी ने कहा कि सड़क और पुलों से नगर और गांव आपस में जुड़ते हैं और आकांक्षा के साथ उपलब्धि और आशा के साथ अवसर भी आपस में जुड़ जाते हैं।

प्रधानमंत्री ने कहा कि हम अक्सर देखते हैं कि उद्घाटन के बाद कई आधारभूत परियोजनाएं रूक जाती हैं और जनता का पैसा बेकार हो जाता है। उन्होंने कहा, ‘‘हमने फैसला किया कि जनता का पैसा बर्बाद करने की संस्कृति नहीं चल सकती।’’ मोदी ने कहा, ‘‘जब हम सड़क और पुल बनाते हैं तो हम केवल नगर और गांवों को ही नहीं जोड़ते। हम आंकाक्षा के साथ उपलब्धि, आशा के साथ अवसर और उम्मीद को खुशहाली से भी जोड़ते हैं।’’ मोदी ने कहा कि जब वह 2014 में सत्ता में आए थे तो केवल 56 प्रतिशत ग्रामीण आबादी देश की सड़कों से जुड़ी थी। आज 90 प्रतिशत से ज्यादा ग्रामीण आबादी सड़क से जुड़ी है। मैं आश्वस्त हूं कि हम जल्द सौ प्रतिशत के लक्ष्य को हासिल करेंगे ।

मोदी ने कहा कि पिछले चार साल में क्षेत्रीय वायु संपर्क में भी तेजी से इजाफा हुआ है। उन्होंने कहा कि उनकी सरकार ने पर्यटन क्षेत्र के लिए कठिन मेहनत की है। प्रधानमंत्री ने कहा, ‘‘विश्व आर्थिक मंच के यात्रा और पर्यटन स्पर्धा सूचकांक में भारत की रैकिंग 65वें से 40 वें स्थान पर आ गयी है। वर्ल्ड ट्रैवल एंड टूरिज्म काउंसिल की 2018 की रिपोर्ट में न्यू पावर रैकिंग में भारत को तीसरा स्थान मिला है।’’ उन्होंने कहा, ‘‘राज्य सरकार के सहयोग के साथ हम प्रभावी तरीके से इसे पूरा कर सकते हैं।’’ प्रधानमंत्री ने कहा कि ई-वीजा की शुरूआत पर्यटन उद्योग के लिए ‘गेमचेंजर’ साबित हुआ। यह सुविधा अब दुनिया भर के 166 देशों में उपलब्ध है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 सामान्य वर्ग को आरक्षण: सरकार का ऐलान- उच्च शिक्षा संस्थानों और विश्वविद्यालयों में बढ़ाई जाएंगी 25 पर्सेंट सीटें
2 Indian Railways: यात्रियों के लिए खुशखबरी, हर रेलवे डिविजन में मार्च तक बनेगा एक ‘मॉडल स्टेशन’, जानें खासियत
3 ईसाई संगठन के कार्यक्रम में राजनाथ ने जताई धर्मांतरण पर चिंता, पूछा- हम नंबर बढ़ाने के चक्कर में क्यों पड़े हैं?