ताज़ा खबर
 

15 दिनों में तीसरी बार पवार से मिले PK, उधर, कांग्रेस के बदले सुर, चव्हाण बोले-MVA को 5 साल तक समर्थन

चव्हाण ने द इंडियन एक्सप्रेस को बताया, “कांग्रेस तीन-दलीय गठबंधन को नहीं तोड़ेगी, जिससे महा विकास अघाड़ी सरकार बनी है। हमें पूरा विश्वास है कि महा विकास अघाड़ी सरकार पांच साल का कार्यकाल पूरा करेगी।"

महाराष्ट्र कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पृथ्वी राज चव्हाण, एनसीपी चीफ शरद पवार और चुनाव रणनीतिकार प्रशांत किशोर। (इंडियन एक्सप्रेस फाइल फोटो)

मनोज दत्तात्रेय मोरे
राजनीतिक रणनीतिकार प्रशांत किशोर ने बुधवार को नई दिल्ली में राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) के सुप्रीमो शरद पवार से मुलाकात की, जिसके एक दिन बाद आठ विपक्षी दलों के नेता पवार के आवास पर एकत्र हुए और देश के सामने आने वाले विभिन्न मुद्दों पर चर्चा की। सूत्रों के मुताबिक, किशोर और पवार के बीच दिल्ली में उनके आवास पर बंद कमरे में हुई बातचीत करीब एक घंटे तक चली। एक पखवाड़े के भीतर यह उनकी तीसरी मुलाकात थी।

उधर, कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व मुख्यमंत्री पृथ्वीराज चव्हाण ने बुधवार को कहा कि कांग्रेस का तीन-दलीय गठबंधन को तोड़ने का कोई इरादा नहीं है और पार्टी पूरे पांच साल तक महा विकास अघाड़ी (एमवीए) सरकार का समर्थन करेगी। चव्हाण ने द इंडियन एक्सप्रेस को बताया, “कांग्रेस तीन-दलीय गठबंधन को नहीं तोड़ेगी, जिससे महा विकास अघाड़ी सरकार बनी है। हमें पूरा विश्वास है कि महा विकास अघाड़ी सरकार पांच साल का कार्यकाल पूरा करेगी। यह गठबंधन भाजपा को सत्ता से बाहर रखने के लिए बनाया गया था और इसलिए कांग्रेस की ओर से सरकार से समर्थन वापस लेने का कोई सवाल ही नहीं है।”

पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनावों में तृणमूल कांग्रेस की प्रचंड जीत में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाले किशोर ने 11 जून को मुंबई में अपने आवास पर दोपहर के भोजन के दौरान पवार से मुलाकात की थी। उन्होंने सोमवार को दिल्ली में अपने आवास पर फिर से राकांपा प्रमुख से मुलाकात की। पवार के साथ इन मुलाकातों ने बीजेपी के खिलाफ तीसरा मोर्चा बनाने के लिए विपक्षी दलों के साथ आने की अटकलों को हवा दी है। पवार ने मंगलवार को दिल्ली में अपने आवास पर तृणमूल कांग्रेस, समाजवादी पार्टी, आम आदमी पार्टी, राष्ट्रीय लोक दल और वाम दलों सहित आठ विपक्षी दलों के नेताओं की एक बैठक की मेजबानी की थी।

हालांकि, उस चर्चा में भाग लेने वाले नेताओं ने कहा कि यह राष्ट्रीय मंच द्वारा समान विचारधारा वाले व्यक्तियों की “गैर-राजनीतिक” बैठक थी, जिसे पूर्व वित्त मंत्री और टीएमसी उपाध्यक्ष यशवंत सिन्हा ने अन्य लोगों के साथ मिलकर बनाया था। मंगलवार को विपक्षी नेताओं की बैठक से पहले, पवार ने उसी दिन राकांपा की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक की अध्यक्षता की और अपनी पार्टी के नेताओं के साथ “भविष्य की नीतियों, अगले लोकसभा चुनावों में इसकी भूमिका और वर्तमान राष्ट्रीय मुद्दों” पर “विस्तृत चर्चा” की।

पवार के आवास पर विपक्षी दलों के नेताओं की बैठक में नेशनल कांफ्रेंस के नेता उमर अब्दुल्ला, सपा के घनश्याम तिवारी, रालोद अध्यक्ष जयंत चौधरी, आप से सुशील गुप्ता, भाकपा के बिनॉय विश्वम, माकपा से नीलोत्पल बसु और टीएमसी उपाध्यक्ष यशवंत सिन्हा आदि शामिल हुए।

कांग्रेस के पूर्व नेता संजय झा और जनता दल-यूनाइटेड (जद-यू) के पूर्व नेता पवन वर्मा ने भी बैठक में भाग लिया। राजनेताओं के अलावा, जावेद अख्तर, पूर्व राजदूत केसी सिंह और न्यायमूर्ति (सेवानिवृत्त) एपी शाह जैसी कई प्रतिष्ठित हस्तियां भी मंगलवार की बैठक में मौजूद थीं।

Next Stories
1 CDS जनरल बिपिन रावत का पाकिस्तान पर नाम लेकर हमला, कहा- उनकी सेना के हाथ से छूट सकता है आतंकियों का नियंत्रण
2 जब लालू यादव से बोलीं भाजपा प्रवक्ता, आपकी बातें कॉमेडी नाइट से बेहतर, फिर ऐसा जवाब मिला कि बजने लगीं तालियां
3 अडानी समूह को एक और झटका: म्यांमार की सेना के साथ कारोबारी र‍िश्‍ते के चलते नॉर्वे की कंपनी ने वापस लिया निवेश
ये पढ़ा क्या?
X