ताज़ा खबर
 

‘बीफ फेस्ट’ आयोजित करने पर आईआईटी स्टूडेंट को कथित दक्षिणपंथियों ने बेरहमी से पीटा

सरकार के फैसले का विरोध करते हुए आईआईटी कैंपस के अंदर बीफ फेस्ट का आयोजन किया था। इसमें करीब 50 स्टूडेंट्स ने हिस्सा लिया था। यह घटना उस समय सामने आई जब हाई कोर्ट ने केंद्र नए आदेश पर रोक लगा दी है।

Author नई दिल्ली। | May 30, 2017 6:53 PM
बीफ फेस्ट आयोजित करने पर छात्र के साथ मारपीट। (Photo Source: Twitter/ANI)

आईआईटी मद्रास में ‘बीफ फेस्ट’ आयोजित करने को लेकर आईआईटी मद्रास के एक पीएचडी छात्र को कथित तौर पर दक्षिणपंथी छात्रों ने बुरी तरह से पीटा है। आरोप है कि बीफ फेस्ट का आयोजन करने के कारण छात्र के साथ मारपीट की गई। छात्र को इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती कराया गया है। उसकी आंखों के नीचे गंभीर चोट आई है। मोदी सरकार के बिक्री बैन के फैसले के विरोध में आईआईटी मद्रास के छात्रों ने ‘बीफ फेस्ट’ का आयोजन किया था। स्टूडेंट का नाम सूरज आर बताया जा रहा है। कथित तौर पर हिंदूवादी संगठनों की ओर से परिसर में सभी ‘बीफ खाने वालों’ को मौत की धमकी दी थी। उन्होंने कथित तौर पर सोमवार को आयोजित हुए बीफ फेस्ट के खिलाफ शिकायत भी दायर की थी।

सरकार के फैसले का विरोध करते हुए आईआईटी कैंपस के अंदर बीफ फेस्ट का आयोजन किया था। इसमें करीब 50 स्टूडेंट्स ने हिस्सा लिया था। यह घटना उस समय सामने आई जब हाई कोर्ट ने केंद्र नए आदेश पर रोक लगा दी है। मद्रास उच्च न्यायालय की मदुरै पीठ ने केंद्र सरकार द्वारा हाल ही में पशु बिक्री को लेकर जारी किए गए नए नियमों पर मंगलवार को रोक लगा दी। उच्च न्यायालय ने केंद्र सरकार को नोटिस जारी कर चार सप्ताह में जवाब मांगा है। तमिलनाडू में गाय और उसके बछड़े को काटने पर प्रतिबंध है, लेकिन बैल, भैस और सांड को काटने पर बैन नहीं है।

बता दें कि केंद्र सरकार ने नोटिफिकेशन जारी कर पशुओं की ब्रिकी पर बैन लगा दिया है। जिसका विरोध किया जा रहा है। सरकार के फैसले के विरोध में केरल में यूथ कांग्रेस के कार्यकर्ताओं पर गोवंश काटने का आरोप लगा है। मामले की गंभीरता को देखते हुए कांग्रेस ने अपने कार्यकर्ताओं को हटा दिया था। पशु ब्रिकी को लेकर बनाए गए नए नियम को लेकर केरल, पश्चिम बंगाल और बिहार की सत्ताधारी पार्टियां असंवैधानिक करार दे चुकी है। केरल के सीएम ऑफिस के मुताबिक केंद्र से इस फैसले से चमड़ा कारोबार पर प्रभाव पड़ेगा और हजारों लोगों के सामने रोजगार का संकट खड़ा हो जाएगा।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App