ताज़ा खबर
 

एक लीटर पेट्रोल 21,217 डोंग का, जानिए कहां बिक रहा सबसे महंगा

अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमतें चार साल के उच्चतम स्तर पर पहुंच गई हैं। इसके कारण भारत जैसे बड़े तेल आयातक देशों पर वित्तीय बोझ बढ़ गया है। तेल की बढ़ी कीमतों का भार आखिरकार आमलोगों को ही उठाना पड़ता है। वियतनाम के लोगों को एक लीटर पेट्रोल के लिए सबसे ज्यादा कीमत चुकानी पड़ती है।

Author नई दिल्ली | May 21, 2018 8:58 PM
नई दिल्‍ली के जनपथ स्थित एक पेट्रोल पंप की तस्‍वीर। (Express Photo by Praveen Khanna 07 03 2016)

अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमतें चार साल के उच्चतम स्तर पर पहुंच गई हैं। इसके कारण भारत जैसे बड़े तेल आयातक देशों पर वित्तीय बोझ बढ़ गया है। तेल की बढ़ी कीमतों का भार आखिरकार आमलोगों को ही उठाना पड़ता है। वियतनाम के लोगों को एक लीटर पेट्रोल के लिए सबसे ज्यादा कीमत चुकानी पड़ती है। वियतनाम वासियों को एक लीटर पेट्रोल के लिए 21,217.50 वियतनामी डोंग (स्थानीय मुद्रा) देना पड़ता है। एक सप्ताह में वियनाम में पेट्रोल की कीमतों में 2 फीसद की वृद्धि हुई है। भारत में यह दर 0.4 प्रतिशत है। इसके बाद एक अन्य पूर्वी एशियाई देश लाओस में पेट्रोल की कीमत सबसे ज्यादा है। यहां एक लीटर पेट्रोल के लिए 10,310 लाओ किप (स्थानीय मुद्रा) चुकाने पड़ रहे हैं। इस मामले में तीसरे पायदान पर भी एशियाई देश ही है। इंडोनेशिया की जनता को एक लीटर पेट्रोल के लिए 9,266.67 इंडोनेशियाई रुपैया देना पड़ता है। पिछले एक सप्ताह में वहां पेट्रोल की कीमतों में वृद्धि नहीं हुई है, लेकिन विगत तीन महीनों में पेट्रोल की कीमत में 5.3 फीसद की बढ़ोत्तरी दर्ज की गई है। इस मामले में पश्चिमी अफ्रीकी देश सिएरा लियोन का नंबर आता है। अफ्रीकी देश की जनता को एक लीटर पेट्रोल के लिए 6,000 सिएरा लियोनियन लियोने (स्थानीय मुद्रा) का भुगतान करना पड़ता है। पेट्रोल की ज्यादा कीमत वाले देशों में पांचवें पायदान पर एक और दक्षिण-पूर्व एशियाई देश है। कंबोडिया में एक लीटर पेट्रोल के लिए लोगों को 4,242.86 कंबोडियाई रियल (स्थानीय मुद्रा) देने पड़ते हैं।

पेट्रोल की बढ़ती कीमतों से भारत में हलचल: अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमतों में वृद्धि के कारण भारत में भी पेट्रोल की कीमतें पिछले पांच साल के सबसे उच्चतम स्तर पर पहुंच गई है। दिल्ली में जहां पेट्रोल 76.24 रुपये प्रति लीटर की दर से बिक रहा है, वहीं मुंबई में इसके लिए लोगों को 84.40 रुपये चुकाना पड़ रहा है। बता दें कि अंतरराष्ट्रीय बाजार में पिछले सप्ताह कच्चे तेल की कीमत चार साल के उच्चतम स्तर (80 डॉलर प्रति बैरल) पर पहुंच गई थी। कच्चे तेल की कीमतों में उछाल के लिए तेल उत्पादक देशों द्वारा उत्पादन को नियंत्रित करने और अमेरिका के ईरान समझौते से पीछे हटने को विशेष तौर पर जिम्मेदार ठहराया जा रहा है। इसके अलावा तेल के बड़े उत्पादकों में से एक लैटिन अमेरिकी देश वेनेजुएला में राजनीतिक उथल-पुथल को भी प्रमुख वजह माना जा रहा है। हालांकि, सऊदी अरब ने आसमान छूती तेल की कीमतों को नियंत्रित करने के लिए उत्पादन बढ़ाने का आश्वासन दिया है।

विश्व के अन्य देशों में प्रति पेट्रोल की कीमत इस तरह हैं (ग्लोबल पेट्रोल प्राइस की ओर से जारी अन्य देशों में कीमत):

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App