ताज़ा खबर
 

पेट्रोल कीमत कम करने का है सिर्फ यह रास्ता, बोले पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान

पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने पेट्रोल और डीजल की बढ़ती कीमतों से आमलोगों को फौरी राहत प्रदान करने का संकेत दिया है। स्‍थाई समाधान के लिए उन्‍होंने पेट्रोलियम उत्‍पादों को जीएसटी के दायरे में लाने की बात कही है।

भारतीय उद्योग संघ (सीआईआई) के एक सेमिनार को संबोधित करते केंद्रीय मंत्री धर्मेंद्र प्रधान। (पीटीआई फोटो)

पेट्रोलियम उत्‍पादों की कीमतों में लगातार हो रही वृद्धि से मोदी सरकार पर पेट्रोल और डीजल के दाम को नियंत्रित करने का दबाव लगातार बढ़ता जा रहा है। केंद्र की ओर से कीमतों को नियंत्रित करने को लेकर अभी तक किसी तरह का ठोस पहल नहीं किया गया है। लेकिन, अब पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान के बयान से फौरी राहत की उम्‍मीद जगी है। उन्‍होंने भुवनेश्‍वर में कहा, ‘पेट्रोलियम मंत्रालय का मानना है कि पेट्रोल और डीजल की कीमतों में कमी लाने के लिए पेट्रोलियम उत्‍पादों को जीएसटी (वस्‍तु एवं सेवा कर) के दायरे में लाया जाए। उस वक्‍त तक के लिए हमलोग त्‍वरित समाधान के तौर-तरीकों पर विचार कर रहे हैं।’ बता दें कि दिल्‍ली में पेट्रोल 77.47 रुपये और मुंबई में 85.29 रुपये प्रति लीटर के हिसाब से बिक रहा है। डीजल की कीमतों में भी तेजी का रुख है। दिल्‍ली में एक लीटर डीजल 68.53 और मुंबई में 72.96 रुपये के हिसाब से बिक रहा है। अंतरराष्‍ट्रीय बाजार में कच्‍चे तेल की कीमतों में वृद्धि के कारण घरेलू बाजार पर भी इसका असर देखा जा रहा है।

HOT DEALS
  • Sony Xperia XZs G8232 64 GB (Warm Silver)
    ₹ 34999 MRP ₹ 51990 -33%
    ₹3500 Cashback
  • Moto C 16 GB Starry Black
    ₹ 5999 MRP ₹ 6799 -12%
    ₹0 Cashback

केंद्र सरकार ने पहली बार पेट्रोलियम उत्‍पादों में वृद्धि से उपभोक्‍ताओं को राहत पहुंचाने के लिए तात्‍कालिक तौर पर कदम उठाने की बात कही है। इससे पहले केंद्रीय परिवहन एवं भूतल मंत्री नितिन गडकरी ने सरकार द्वारा पेट्रोलियम उत्‍पादों की बढ़ती कीमतों में दखल देने से इनकार किया था। उन्‍होंने 23 मई को कहा था कि पेट्रोल और डीजल की बढ़ती कीमतों को कम करने के लिए यदि सब्सिडी दी जाएगी तो सरकार के पास सामाजिक कल्‍याण से जुड़े कार्यक्रमों के लिए पैसे खर्च करने की क्षमता प्रभावित होगी। गडकरी ने कहा था कि भारत सीधे तौर पर वैश्वि‍क अर्थव्‍यवस्‍था से जुड़ गया है, ऐसे में तेल के दाम में वृद्धि अपरिहार्य हो गया है। केंद्रीय मंत्री ने ‘द इंडियन एक्‍सप्रेस’ से बात करते हुए कहा, ‘यह न टाले जाने वाली आर्थिक स्थिति है। यह (पेट्रोलियम उत्‍पाद) सीधे तौर पर वैश्विक अर्थव्‍यवस्‍था से जुड़ा हुआ है। यदि हमलोग पेट्रोल और डीजल को सस्‍ते में बेचेंगे तो इसका मतलब यह हुआ कि हम पेट्रोलियम उत्‍पादों को महंगे में खरीदें और भारत में उस पर सब्सिडी दें।’ मालूम हो कि पेट्रोल-डीजल की बढ़ती कीमतों पर राजनीति भी शरू हो चुकी है। कांग्रेस समेत अन्‍य विपक्षी दल इसको लेकर भाजपा सरकार पर हमलावर हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App