ताज़ा खबर
 

पेगासस जासूसी: मोदी-शाह करवा रहे थे केंद्रीय मंत्री की जासूसी, बात समझ नहीं आई- कांग्रेस के दिग्विजय ने शिवराज सरकार को भी लपेटा

बुधवार को दिग्विजय सिंह ने ट्वीट किया केंद्रीय मंत्री प्रल्हाद पटेल जी की जासूसी केंद्र सरकार की मोदीशाह जोड़ी करवा रही थी। यह बात कुछ समझ में नहीं आई।

पेगासस स्पाइवेयर मामले को लेकर देश की राजनीति गर्म है। एक तरफ जहां कांग्रेस ने पूरे मामले की उच्चतम न्यायालय की निगरानी में स्वतंत्र जांच की मांग की है। वहीं कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने मामले को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, अमित शाह और मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान पर हमला बोला है। उन्होंने कहा है कि केंद्रीय मंत्री की जासूसी मोदी-शाह करवा रहे हैं, बात समझ नहीं आयी।

बुधवार को दिग्विजय सिंह ने ट्वीट किया केंद्रीय मंत्री प्रल्हाद पटेल जी की जासूसी केंद्र सरकार की मोदीशाह जोड़ी करवा रही थी। यह बात कुछ समझ में नहीं आई। शिवराज सिंह चौहान को निशाने पर लेते हुए उन्होंने सवाल किया कि क्या इजराइली कम्पनी NSO ने पेगासस स्पायवेर मध्यप्रदेश में भाजपा की मामू सरकार को भी बेचा है? सिंह ने एक अन्य ट्वीट में नरेंद्र मोदी के साल 2013 में दिए गए बयान को रीट्वीट करते हुए लिखा कि नरेंद्र मोदी का 2013 का ट्वीट दिलचस्प है। बताते चलें कि उस ट्वीट में मोदी की तरफ से कहा गया था कि मैं आपको 2 बातें याद दिलाना चाहता हूं। ब्राजील में मुझे पता चला कि यूएसए की सरकार जासूसी कर रही है। एजेंसियों के जरिए गतिविधियों पर नजर रखी जाती है।

इससे पहले मंगलवार को कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने एक संयुक्त संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए आरोप लगाया कि भाजपा और मोदी सरकार ने कर्नाटक में कांग्रेस गठबंधन सरकार को गिराने के लिए स्पाइवेयर का दुरुपयोग करके लोकतंत्र की हत्या की है।

सुरजेवाला के साथ राज्यसभा में विपक्ष के नेता मल्लिकार्जुन खड़गे, लोकसभा में कांग्रेस के नेता अधीर रंजन चौधरी, कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री सिद्धरमैया और कर्नाटक कांग्रेस कमेटी के प्रमुख डी के शिवकुमार भी थे।

उन्होंने संवाददाताओं से कहा, ‘‘अब यह स्पष्ट हो गया है कि भाजपा के नेतृत्व वाली मोदी सरकार ने पेगासस स्पाइवेयर का उपयोग करके कर्नाटक में एक निर्वाचित कांग्रेस गठबंधन सरकार को गिराकर लोकतंत्र की हत्या की है और संविधान को तार-तार कर दिया है।’’ सुरजेवाला ने कहा कि गृह मंत्री अमित शाह को पद पर बने रहने का कोई अधिकार नहीं है और इसलिए प्रधानमंत्री इस मुद्दे पर संसद में बहस नहीं करना चाहते हैं।

Next Stories
1 चम्बल में अब बंदूक की नहीं तरबूज की खेती
2 नीतियों को लागू करने पर होता है असर
3 ‘आप’ ने अखिल भारतीय बनने का भरा दम
ये पढ़ा क्या?
X