ताज़ा खबर
 

शिवसेना बोली- देशद्रोह था बीजेपी का पीडीपी से गठबंधन करना, शत्रुघ्‍न सिन्‍हा बोले- तोड़ना था तो पहले ही तोड़ते

शिवसेना नेता संजय राउत ने अपने बयान में कहा कि पीडीपी-भाजपा का गठबंधन राष्ट्रविरोधी और असामान्य था। हमारी पार्टी के अध्यक्ष ने पहले ही कहा था कि यह गठबंधन काम नहीं करेगा।

शिवसेना नेता संजय राउत। (image source-ANI)

कश्मीर में सत्तारुढ़ पीडीपी-भाजपा गठबंधन टूट गया है, भाजपा ने सरकार से समर्थन वापस लेने का फैसला किया है। जिस तरह भाजपा ने अचानक जम्मू कश्मीर सरकार से समर्थन वापस लिया है, उस पर कई नेताओं ने प्रतिक्रियाएं दी हैं। केन्द्र में भाजपा की सहयोगी पार्टी शिवसेना ने कड़ी प्रतिक्रिया देते हुए पीडीपी-भाजपा गठबंधन को राष्ट्र-विरोधी तक करार दे दिया है। शिवसेना नेता संजय राउत ने अपने बयान में कहा कि पीडीपी-भाजपा का गठबंधन राष्ट्रविरोधी और असामान्य था। हमारी पार्टी के अध्यक्ष ने पहले ही कहा था कि यह गठबंधन काम नहीं करेगा। अब 2019 के लोकसभा चुनाव में भाजपा को इसका जवाब देना होगा।

भाजपा नेता शत्रुघ्न सिन्हा ने भी पीडीपी-भाजपा का गठबंधन टूटने पर हैरानी जतायी है। शत्रुघ्न सिन्हा ने कहा कि दोनों पार्टियां बिल्कुल विपरीत दृष्टिकोण की पार्टियां हैं, इसलिए विचारों का टकराव होना स्वभाविक था, लेकिन अब इस गठबंधन को चलना चाहिए था। कांग्रेस ने भी पीडीपी-भाजपा गठबंधन के टूटने पर भाजपा और पीडीपी पर जमकर निशाना साधा है। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद ने कहा कि मुझे खुशी है कि भाजपा ने अपनी गलती मान ली और गठबंधन से हटने का फैसला किया। अब इससे जम्मू कश्मीर के लोगों को थोड़ी राहत मिल सकेगी। दोनों पार्टियों के गठबंधन ने कश्मीर को बर्बाद कर दिया और अब भाजपा गठबंधन से हटकर इसका सारा ठीकरा पीडीपी पर फोड़ना चाहती है, लेकिन कश्मीर के मौजूदा हालात के लिए दोनों पार्टियां जिम्मेदार हैं। इसके साथ ही कांग्रेस ने पीडीपी को समर्थन देने से भी इंकार कर दिया है। एआईएमआईएम चीफ असदुद्दीन ओवैसी ने भी पीडीपी भाजपा गठबंधन के टूटने को गलत बताया है। ओवैसी के अनुसार, मौजूदा हालात में गठबंधन टूटने से कश्मीर में हालात और भी ज्यादा बिगड़ सकते हैं।

HOT DEALS
  • BRANDSDADDY BD MAGIC Plus 16 GB (Black)
    ₹ 16199 MRP ₹ 16999 -5%
    ₹1620 Cashback
  • Apple iPhone SE 32 GB Gold
    ₹ 25000 MRP ₹ 26000 -4%
    ₹0 Cashback

भाजपा द्वारा अचानक गठबंधन तोड़ने के फैसले से जम्मू कश्मीर में उसकी सहयोगी पीडीपी भी अचंभित महसूस कर रही है। पीडीपी के प्रवक्ता रफी अहमद मीर ने मीडिया से बातचीत करते हुए कहा कि हमने सहयोगी सरकार चलाने की अपनी तरफ से पूरी कोशिश की, लेकिन यह तो होना ही था। लेकिन इस तरह अचानक गठबंधन टूटने के फैसले से हमें भी आश्चर्य हुआ है, हमें उनके इस फैसले की कोई जानकारी नहीं थी। अभी खबर आयी है कि जम्मू कश्मीर की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने राज्यपाल को अपना इस्तीफा सौंप दिया है और अब शाम 5 बजे महबूबा मुफ्ती प्रेस कॉन्फ्रेंस कर अपनी बात रखेंगी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App