ताज़ा खबर
 

कुछ समय के लिए हटा, फिर गूगल प्ले स्टोर पर लौटा पेटीएम, नीतियों के कथित उल्लंघन के कारण की कार्रवाई 

पेटीएम के संस्थापक विजय शेखर शर्मा ने कहा कि कंपनी गूगल की आपत्तियों पर अमल करते हुए कैशबैक देने वाले स्क्रैच कार्ड को पहले ही हटा चुकी है।

Author नई दिल्ली | September 19, 2020 3:54 AM
ऐप को शुक्रवार सुबह गूगल ने अपने प्ले स्टोर से हटा दिया था। (फोटो-सोशल मीडिया)

गूगल ने खेलों में सट्टेबाजी संबंधी गतिविधियों पर अपनी नीति के उल्लंघन को लेकर शुक्रवार को पेटीएम के ऐप को कुछ घंटे के लिए प्ले स्टोर से हटा दिया था लेकिन बाद में उसे बहाल कर दिया गया।

पेटीएम द्वारा ऐप पर हाल ही में पेश एक गेम से कैशबैक का विकल्प हटाने के बाद शुक्रवार की शाम को पुन: प्ले स्टोर पर बहाल कर दिया गया। पेटीएम ने एक ट्वीट में कहा, ‘अपडेट : और हम वापस आ गए!’ गूगल ने वॉलेट एवं पेमेंट बैंक सेवाएं देने वाली कंपनी पेटीएम के ऐप को शुक्रवार की सुबह अपने प्ले स्टोर से हटा दिया था। हालांकि, जो उपयोक्ता पहले से ऐप को लिए हुए थे, उन्हें ऐप का इस्तेमाल करने में कोई असुविधा नहीं हुई।

गूगल ने सुबह एक ई-मेल के माध्यम से कहा था, ‘ऐप को ‘प्ले स्टोर’ नीतियों के उल्लंघन के चलते रोका गया है- हमारी नीति के संबंध में आईपीएल टूर्नामेंट से पहले आज एक स्पष्टीकरण जारी किया गया है।’ गूगल ने यह भी कहा कि इस कदम से केवल प्ले स्टोर पर ऐप की उपलब्धता प्रभावित होगी और इसके उपयोक्ताओं पर कोई असर नहीं होगा।

गूगल ने इससे पहले एक ब्लॉग पोस्ट में कहा कि वह खेल में सट्टेबाजी की सुविधा देने वाले ऐप को मंजूरी नहीं देगी और ऐसे किसी भी ऐप को प्ले स्टोर से हटा दिया जाएगा। गूगल का कहना है कि ये नीतियां उपयोकर्ताओं को किसी प्रकार के नुकसान से बचाने के लिए हैं।

पेटीएम ने दिन में एक ट्वीट किया कि नए डाउनलोड या अपडेट के लिए पेटीएम एंड्रॉइड ऐप गूगल प्ले स्टोर पर अस्थाई रूप से अनुपलब्ध है। उसने कहा था, ‘यह (ऐप) बहुत जल्द (प्ले स्टोर पर) वापस आ जाएगा। आपका पूरा धन पूरी तरह सुरक्षित है और आप अपने पेटीएम ऐप का सामान्य रूप से प्रयोग कर सकते हैं।’ भारत में आईपीएल जैसे प्रमुख खेल आयोजनों से पहले इस तरह के ऐप बड़ी संख्या में लॉन्च किए जाते हैं। इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) का नवीनतम सत्र 19 सितंबर से संयुक्त अरब अमीरात में शुरू होने वाला है।

गूगल ने ब्लॉग पोस्ट में कहा, ‘हम आनलाइन कैसिनो की अनुमति नहीं देते हैं या खेलों में सट्टेबाजी की सुविधा देने वाले किसी भी अनियमित जुआ ऐप का समर्थन नहीं करते हैं। इसमें वे ऐप शामिल हैं जो ग्राहकों को किसी ऐसी बाहरी वेबसाइट पर जाने के लिए प्रेरित करते हैं, जो धनराशि लेकर खेलों में पैसा या नकद पुरस्कार जीतने का मौका देती है।

यह हमारी नीतियों का उल्लंघन है।’ गूगल ने यह भी कहा कि जब कोई ऐप इन नीतियों का उल्लंघन करता है, तो उसके डेवलपर को इस बारे में सूचित किया जाता है, और जब तक डेवलपर ऐप को नियमों के अनुरूप नहीं बनाता है, उसे तब तक गूगल प्ले स्टोर से हटा दिया जाता है।

पेटीएम के संस्थापक विजय शेखर शर्मा ने कहा कि कंपनी गूगल की आपत्तियों पर अमल करते हुए कैशबैक देने वाले स्क्रैच कार्ड को पहले ही हटा चुकी है। उल्लंघन करता है, तो उसके डेवलपर को इस बारे में सूचित किया जाता है, और जब तक डेवलपर ऐप को नियमों के अनुरूप नहीं बनाता है, उसे तब तक गूगल प्ले स्टोर से हटा दिया जाता है।

‘नहीं चलेगा सट्टेबाजी का खेल’
गूगल ने इससे पहले एक ब्लॉग पोस्ट में कहा कि वह खेल में सट्टेबाजी की सुविधा देने वाले ऐप को मंजूरी नहीं देगी और ऐसे किसी भी ऐप को प्ले स्टोर से हटा दिया जाएगा। गूगल का कहना है कि ये नीतियां उपयोकर्ताओं को किसी प्रकार के नुकसान से बचाने के लिए हैं।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 ट्रेनों में न हो भीड़ इसलिए वेस्टर्न रेलवे चलाने जा रहा 150 और ट्रेन, जानिए कब से चलेंगी
2 ऑक्सीजन सप्लाई ना रोकें राज्य, कोरोना से लड़ाई में है जरूरी- केंद्र का आदेश
3 मध्य प्रदेश: कांग्रेस नेता ने गाय के शरीर पर छपवा दिया हाथ का पंजा, बीजेपी हुई आगबबूला
यह पढ़ा क्या?
X