ताज़ा खबर
 

पटना-इंदौर ट्रेन हादसा: 90 से ज्यादा की मौत

पटना-इंदौर एक्सप्रेस के 14 डिब्बे रविवार (20 नवंबर) की सुबह पटरी से उतर गए

पटना-इंदौर एक्सप्रेस के 14 डिब्बे रविवार (20 नवंबर) की सुबह पटरी से उतर गए

पटना-इंदौर एक्सप्रेस के 14 डिब्बे रविवार (20 नवंबर) की सुबह पटरी से उतर गए। इसमें अबतक 97 लोगों के मारे जाने की खबर है। वहीं 150 से ज्यादा लोग घायल बताए जा रहे हैं। सबसे ज्यादा मौते S1 और S2 में हुई हैं। रेल मंत्रालय ने हादसे में मरे और घायल हुए लोगों के लिए मुआवजे का ऐलान कर दिया है। मरने वालों के परिवार को 3.5 लाख रुपए दिए जाएंगे वहीं, गंभीर रूप के घाटल लोगों को 50 हजार रुपए देने की बात कही गई है। मामूली रूप से जख्मी लोगों को 25 हजार रुपए दिए जाएंगे। इसके अलावा मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने मरने वाले के परिवार को 2 लाख रुपए और गंभीर रुप से घायल लोगों को 50 हजार रुपए देने का ऐलान किया है। इसके अलावा यूपी के सीएम अखिलेश यादव ने मरने वाले के परिवार को 5 लाख रुपए देने की घोषणा की। उनकी तरफ से घायल लोगों को 50 हजार रुपए दिए जाएंगे। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ऐलान किया कि हादसे में जान गंवाने वालों को उनकी तरफ से 2 लाख रुपए और घायलों को 50 हजार दिए जाएंगे।

यह हादसा कानपुर के पास पुखराया में हुआ। घटना सुबह तीन बजे की बताई जा रही है। यूपी के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने डीजीपी को हालात पर नजर रखने का आदेश दिया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृह मंत्री ने भी इसपर शोक जताया था। मोदी ने बताया था कि रेल मंत्री सुरेश प्रभु घटना पर नजर रखे हुए हैं। सुरेश प्रभु ने हादसे की जांच के आदेश दे दिए थे। रेलवे की तरफ से कुछ हेल्पलाइन नंबर भी जारी किए गए हैं। अब बचाव कार्य में भी तेजी नजर आ रही है लेकिन हादसे के तुरंत बाद राहत कार्य ना मिलने से हालात बिगड़ गए। बताया जा रहा है कि S1 और S2 कोच में और लोग फंसे हो सकते हैं। एनडीआरएफ की टीम भी मौके पर पहुंच चुकी है।

 

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 लोकसभा-राज्यसभा सचिवालय का बैंक को अनुरोध: हमारे स्टाफ के लिए 21 नवंबर तक कैश में 5 करोड़ रुपए तैयार रखें
2 कानपुर: पटना-इंदौर एक्सप्रेस के 14 डिब्बे पटरी से उतरे, 45 मरे
3 नोटबंदी से भटक रहे विपक्ष को मिला गोलबंदी का मुद्दा
ये पढ़ा क्या?
X