पठानकोट आतंकी हमला: एनआईए पाकिस्तान को नए अनुरोध पत्र भेजेगी, जैश के 4 आतंकियों के पते शामिल - Jansatta
ताज़ा खबर
 

पठानकोट आतंकी हमला: एनआईए पाकिस्तान को नए अनुरोध पत्र भेजेगी, जैश के 4 आतंकियों के पते शामिल

पाकिस्तान के संयुक्त जांच दल (जेआईटी) ने 27 मार्च से एक अप्रैल के बीच भारत का दौरा किया था और वह पठानकोट वायुसेना अड्डे पर भी गई और 16 गवाहों के बयान रिकॉर्ड किए।

Author नई दिल्ली | April 19, 2016 8:06 PM
राष्ट्रीय जांच एजेंसी

राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने पाकिस्तान भेजने के लिए चार अनुरोध पत्र (एलआर) तैयार किए हैं, जिनमें जैश-ए-मोहम्मद के उन चार आतंकवादियों के पते शामिल हैं जिन्होंने इसी साल जनवरी में पठानकोट स्थित भारतीय वायुसेना के अड्डे पर हमला किया था। नए अनुरोध पत्रों को ऐसे समय में भेजा जा रहा है जब पाकिस्तानी पक्ष की ओर से ऐसे संकेत मिले हैं कि अभी वह भारतीय जांच अधिकारियों को अगवानी करने के लिए तैयार नहीं है, जो पठानकोट हमले की जांच को आगे बढ़ाने के लिए यहां आना चाहते हैं। बीते दो जनवरी को हुए हमले में सात सुरक्षाकर्मी मारे गए थे। करीब 80 घंटे चले अभियान में चारों हमलावरों को भी मार गिराया गया था।

एनआईए ने चारों आतंकवादियों की तस्वीरें अपनी वेबसाइट पर पोस्ट की थीं और लोगों से उनकी पहचान करने की अपील की थी। आधिकारिक सूत्रों के अनुसार जांच एजेंसी के पास ईमेल की बाढ़ आ गई और कुछ ईमेल तो पाकिस्तान से आए जिनमें इन आतंकवादियों के बारे में सूचना दी गई थी।

पाकिस्तान के संयुक्त जांच दल (जेआईटी) के साथ बातचीत के दौरान एनआईए ने उन आतंकवादियों के आवास स्थल के बारे में ब्यौरा मांगा था, जिनके नाम भारत की यात्रा पर आए इस जेआईटी के साथ साझा किए गए। भारत के आग्रह पर पाकिस्तान की ओर से कोई जवाब नहीं आया।

इस पांच सदस्यीय जेआईटी ने 27 मार्च से एक अप्रैल के बीच भारत का दौरा किया था और वह पठानकोट वायुसेना अड्डे पर भी गई और 16 गवाहों के बयान रिकॉर्ड किए। इस जेआईटी में आईएसआई का एक अधिकारी भी था। ईमेल के जरिए मिली सूचना का सत्यापन किए जाने के दौरान एनआईए ने यहां की जेलों में बंद जैश-ए-मोहम्मद के कुछ आतंकवादियों के तस्वीरें और पते दिखाए तथा उनके बारे में जानकारी हासिल की।

नासिर हुसैन नामक एक आतंकी पाकिस्तानी पंजाब प्रांत के मुल्तान से करीब 100 किलोमीटर दूर कस्बे वेहारी का रहने वाला था। उसके पिता का नाम मोहम्मद मंसा है और उसका पता ‘मकान नंबर-89, मोहल्ला चक’ है। हुसैन ने वायुसेना अड्डे पर आत्मघाती हमला करने से कुछ मिनट पहले अपनी मां खय्याम को फोन किया था। हमला करने वाला दूसरा आतंकवादी हाफिज अबू बकर के पिता का नाम मोहम्मद फाजिल है और वह पाकिस्तान के गुजरांवाला का निवासी है।

तीसरे आतंकी उमर फारूक के पिता का नाम अब्दुल समद है और सिंध प्रात के शहदादपुर के मोहल्ला मदीसाह में मदीना रोड का निवासी था। चौथा आतंकवादी अब्दुल कयूम सिंध प्रांत के सुक्कूर जिले में तहसील पानो आकिल के चाचर इलाके का रहने वाला था और उसके पिता का नाम मोहम्मद आमिन है।

भारत ने पहले ही अनुरोध पत्र भेजा था जिसमें जैश के सरगना मौलाना मसूद अजहर, उसके भाई अब्दुल रउफ और हुसैन की मां के आवाज के नमूने मांगे गए थे। इस बीच, एनआईए प्रमुख शरद कुमार ने मंगलवार (19 अप्रैल) को कहा कि इस्लामाबाद से मंजूरी मिलने के साथ ही उनकी टीम पाकिस्तान का दौरा करने के लिए तैयार है। उन्होंने कहा, ‘‘हमने जेआईटी की ओर से मांगे गए सभी दस्तावेज सौंप दिए हैं और मेरा मानना है कि पाकिस्तान को सौंपा गया सबूत अंतरराष्ट्रीय स्तर पर किसी भी अदालत में टिक सकता है।’’

जेआईटी के पाकिस्तान लौटने के साथ ही पाकिस्तानी उच्चायुक्त अब्दुल बासित ने एनआईए के पाकिस्तान जाने के भारत की उम्मीदों पर पानी फेरते हुए कहा था कि पठानकोट आतंकी हमले की जांच आदान-प्रदान की व्यवस्था पर आधारित नहीं है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App