ताज़ा खबर
 

जब बाबा रामदेव ने बताया था पतंजलि का उत्तराधिकारी कौन होगा, कहा- किसी का भरोसा नहीं तोड़ूंगा

रामदेव बोले- "कभी भी छोटा मत सोचो। कम से कम 50-100 साल का सोचो। मैं आज अपने देश का कम से कम 500 साल का सोच रहा हूं। पतंजलि का भी 100 साल का सोच कर काम कर रहा हूं।"

Edited By कीर्तिवर्धन मिश्र नई दिल्ली | Updated: May 13, 2021 12:53 PM
पतंजलि योगपीठ के संरक्षक और योग गुरु बाबा रामदेव। (फाइल फोटो)

योगगुरु बाबा रामदेव अपने पतंजलि संस्थान के बारे में आमतौर पर काफी मुखर रहे हैं। खासकर आलोचनाओं को लेकर रामदेव कई बार आलोचकों पर निशाना साधते दिख जाते हैं। हालांकि, उनका यह भी कहना है कि उनकी कंपनी को आलोचनाओं से फर्क नहीं पड़ता और उन्होंने इसकी ग्रोथ के लिए पहले से ही तैयारी कर रखी है। एक टीवी इंटरव्यू में भी रामदेव ने दावा किया कि उन्होंने पतंजलि के लिए 100 साल की योजना तैयार कर ली है। साथ ही इसके लिए उत्तराधिकारी के बारे में भी सोच लिया है। हालांकि, इस पर उनके आसपास बैठी ऑडियंस चौंक उठी।

क्या था सवाल?: दरअसल, एक व्यक्ति ने पूछा- “स्वामी जी आपने कहा है कि 10 हजार करोड़ की कंपनी को आप 20 हजार करोड़ करेंगे। वहां से 4-5 सालों में आप 1 लाख करोड़ हो जाएगी। बहुत सारे लोग यहां बिजनेस चलाते हैं। आप आखिर इस तरह की ग्रोथ कैसे लाएंगे। इस तरह की ग्रोथ अभी तक किसी को संभव नहीं लगता और होता है तो सॉफ्टवेयर या नॉलेज बेस्ड कंपनी में होता है।”

इस पर एंकर रजत शर्मा ने मजाक में पूछा- “वे बड़ी विनम्रता से पूछ रहे हैं। मैं आपको बताता हूं असली मन में क्या है। लोग सोच रहे हैं ये बाबा बगैर पढ़ा-लिखा। बहुत सारे लोग सोचते हैं कि ये बाबा जो बिजनेस करता है इनके पीछे कोई और है।” इस पर रामदेव हंसते हुए बोले- “मैं वेद-शास्त्र पढ़ा हूं और जो तुम पढ़े हो न, वह अक्षर ज्ञान है। मैं ब्रह्म ज्ञान लेकर आया हूं।”

रामदेव ने कहा- “मैं दुनिया के समृद्ध देशों में गया हूं। वहां जो बच्चा पैदा होता है, वो 15-16 साल की उम्र में अगले 50-75 साल की योजना बना लेता है। कम से कम 50 से 75 साल का सोचकर फिर काम करता है। मैं आपको बताता हूं- कभी भी छोटा मत सोचो। कम से कम 50-100 साल का सोचो। मैं आज अपने देश का कम से कम 500 साल का सोच रहा हूं। पतंजलि का भी 100 साल का सोच कर काम कर रहा हूं।”

बताया कौन होगा उत्तराधिकारी?: रामदेव ने बताया कि इसके लिए अपने जाने के बाद उत्तराधिकारी भी छोड़कर जा रहा हूं। इस पर रजत शर्मा ने चौंकते हुए पूछा- उत्तराधिकारी आपका? इस पर रामदेव ने बताया- “मेरा उत्तराधिकारी कोई व्यापारी नहीं होगा, संसारी नहीं होगा। अपने जैसे 500 साधु-सन्यांसी और तपस्वी मैंने तैयार कर दिए हैं और कर के जाउंगा। ये मेरे उत्तराधिकारी हैं। इतना ही नहीं जो काम करें उसमें कभी न सोचना कि क्या लाभ होगा, क्या हानि होगी। बस जो मुझपर भरोसा किया है लोगों ने मैं उसे टूटने नहीं दूंगा किसी कीमत पर।”

योगगुरु ने कहा, “कुछ लोग बड़ा नहीं सोचते, कुछ लोग छोटी-छोटी चीजों में मिलावट के चक्कर में आ जाते हैं। कुछ लोग सबको साथ लेकर नहीं चलना चाहते। मैं अनपढ़ मां-बाप के घर पैदा हुआ, लेकिन मैंने कभी छोटा नहीं सोचा। मैं भारतवासियों से आह्वान करता हूं कि बड़ा सोचो और मेहनत करो। बड़ी सोच, कड़ी मेहनत और पक्के इरादे के साथ जहां लग जाओ फिर पीछे मत हटो। सफलता ही नहीं सारी दुनिया आपके कदमों में होगी।”

Next Stories
1 NITI आयोग के सीईओ ने माना, विदेश से मिलने वाली मदद सीमित, सभी राज्यों में नहीं हो सकता बराबर बंटवारा
2 हार का दंश
यह पढ़ा क्या?
X