ताज़ा खबर
 

लॉकडाउन पर बोले रामदेव, इससे नहीं होगा फायदा, बताया डबल डोज वाला उपाय

रामदेव का सुझाव "कोरोना का नया स्ट्रेन डबल ताकत के साथ आया है। तो अपनी इम्युनिटी को डबल करने के लिए योग और आयुर्वेद की डबल डोज लें।"

Author Edited By कीर्तिवर्धन मिश्र नई दिल्ली | Updated: April 8, 2021 10:32 AM
ramdevयोग गुरू स्वामी रामदेव (Indian Express)

भारत में अब हर दिन कोरोनावायरस के रिकॉर्ड नए केस दर्ज हो रहे हैं। पिछले 24 घंटे में ही देश में सवा लाख से ज्यादा मामले रिकॉर्ड हुए। इस बीच अलग-अलग राज्य सरकारों ने नाइट कर्फ्यू लगाना शुरू कर दिया है। लोगों में अब पूर्ण लॉकडाउन का डर भी बैठने लगा है। हालांकि, सरकार ने अभी ऐसी किसी मंशा से इनकार किया है। इस पर योग गुरु रामदेव ने भी प्रतिक्रिया दी है। उन्होंने कहा है कि लॉकडाउन को गैरजरूरी बताते हुए लोगों को आने वाले समय में अपनी इम्युनिटी मजबूत करने की सलाह दे दी।

रामदेव से क्या पूछा गया सवाल?: आजतक के शो में एंकर रोहित सरदाना ने रामदेव से पूछा, “आप केवल योग गुरु नहीं है। आप बिजनेस गुरु भी कहे जाते हैं अब तो। इससे पहले कि मैं आपसे कोरोना से बचने के लिए योग के उपाय पूछूं, क्या आपको लगता है कि देश लॉकडाउन की ओर बढ़ रहा है और लॉकडाउन इलाज हो सकता है?”

रामदेव बोले- इम्युनिटी को डबल करना जरूरी: इस पर रामदेव ने कहा, “लॉकडाउन से किसी भी तरह से कोई बहुत बड़ा हित सधने वाला नहीं है। हां लोग ये जरूर सावधानी बरतें कि जब भी भीड़भाड़ वाले इलाके में जाएं, तो मास्क का प्रयोग करें। कभी अनजान वस्तु को छुएं तो सैनिटाइजर का इस्तेमाल करें। सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए अपने कार्यों को करें।”

रामदेव ने आगे बताया- “कोरोना का नया स्ट्रेन डबल ताकत के साथ आया है। तो अपनी इम्युनिटी को डबल करने के लिए योग और आयुर्वेद की डबल डोज लें।” उन्होंने कहा, “एक और खास बात यह है कि वैक्सीनेशन के बाद 100 से ज्यादा डॉक्टरों को जानता हूं, जिन्हें डबल डोज लेने के बाद फिर से कोरोना हो गया। न लें तो भी कोरोना हो रहा है। कोरोना पहले जिन्हें हो गया था, छह महीने बाद उनकी एडाप्टिव इम्युनिटी खत्म हो गई। वैक्सीन लगवाने के बाद एक्वायर्ड इम्युनिटी भी खत्म हो जाएगी। तो आखिर इम्युनिटी को कैसे बढ़ाएं?”

‘हमें अपनी मूल संस्कृति की ओर लौटना होगा’: इसका हल बताते हुए रामदेव ने कहा, “मैं सबसे कहूंगा कि वैक्सीन लगवाइए। सारे सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कीजिए, मास्क लगाइए। योग और आयुर्वेद को अपने जीवन में जरूर अपनाइए। खानपान पर ध्यान दीजिए। आज से एक साल पहले लोगों ने अपने जीवन को अच्छा बनाने के लिए ध्यान देना शुरू किया था। अब लोगों को फिर अपनी मूल संस्कृति और मूल प्रकृति की ओर लौटना होगा और नेचुरल तरह से अपने बीपी, हार्ट की प्रॉब्लम, शुगर, लिवर-किडनी की समस्या, इम्युनिटी को ठीक करना होगा।”

योग गुरु ने कहा कि ऐसा कर लिया तो कोरोना का चाहे कितना खतरनाक स्ट्रेन आ जाए, कितना ही कोरोना कोहराम मचाए। इन सबके बीच में हम अपने आप को सुरक्षित रख पाएंगे और खुद को स्वस्थ रखते हुए देश की समृद्धि की गति को बरकरार रख पाएंगे।

Next Stories
1 बंगाल चुनाव में अमित शाह का ‘हिंदू कार्ड’, बोले- अब ममता के मंदिर जाने का फायदा नहीं
2 फिर लौट आए लॉकडाउन जैसे हालात, जा रहीं नौकरियां, गांव की तरफ लौटने लगे लोग
3 फिर फिसली उत्तराखंड के सीएम तीरथ सिंह रावत की ज़बान, कहा- वाराणसी में भी लगता है महाकुंभ
ये पढ़ा क्या?
X