ताज़ा खबर
 

फरीदाबादः राहत के बजाए आफत बनी बारिश

गर्मी से झुलस रहे उत्तर भारत के लोगों को भले ही बारिश का बेसब्री से इंतजार रहा हो, लेकिन मानसून की पहली बारिश ने ही स्मार्ट सिटी बनने की रेस में शामिल फरीदाबाद की रफ्तार रोक दी।

Author फरीदाबाद | July 9, 2016 01:41 am

गर्मी से झुलस रहे उत्तर भारत के लोगों को भले ही बारिश का बेसब्री से इंतजार रहा हो, लेकिन मानसून की पहली बारिश ने ही स्मार्ट सिटी बनने की रेस में शामिल फरीदाबाद की रफ्तार रोक दी। मानसून में हुई एक हफ्ते की देरी के बाद शुक्रवार को जमकर बरसे बादलों ने शहर की मुख्य सड़कों को तालाब बना दिया और जलभराव के कारण चौतरफा जाम की स्थिति बन गई। यातायात जाम होने के कारण वाहनों ने रेंग-रेंग कर मिनटों का सफर घंटों में तय किया। वहीं रुक-रुक हुई बारिश ने प्रशासन के बरसाती पानी की निकासी के दावों की पोल भी खोल दी।

बारिश के कारण दिल्ली-मथुरा राष्ट्रीय राजमार्ग पर झाड़सेंतली से लेकर बदरपुर तक घंटों जाम लगा रहा। शहर के पॉश सेक्टरों 14,17,16,16ए,15,15ए,19,28 और 29 की कई सड़कों पर जलभराव हो गया। शहर में बसी कालोनियों और झुग्गी-बस्तियों की हालत और भी खराब है। यहां की जवाहर कालोनी, डबुआ कालोनी और नंगला पर्वतीय कालोनी में जलभराव के कारण वाहनों की आवाजाही मुश्किल हो गई है। समाजसेवी भजनलाल नैन ने बताया कि निगम को सालाना लाखों का टैक्स देने के बावजूद लोग मूलभूत सुविधाओं के लिए तरस रहे हैं। उन्होंने बताया कि पल्ला पुल से बंसतपुर रोड पर जगह-जगह जलभराव हो गया। बसंतपुर रोड पर टैÑफिक जाम के कारण वाहन रेंग-रेंग कर चल रहे हैं।

समाजसेवी एसके वर्मा ने बताया कि प्रशासनिक अधिकारियों को बसंतपुर रोड की दुर्दशा के बारे में कई बार जानकारी दी जा चुकी है, लेकिन अभी तक इसको लेकर निगम ने कोई कदम नहीं उठाया है। उन्होंने कहा कि नहरपार खेड़ी रोड पर भारत कालोनी और आसपास की झुग्गी-बस्तियों में बारिश् का पानी घुस गया है। भरत कालोनी में रहने वाले वीरपाल ने बताया कि सरकार दावे तो बड़े बड़े कर रही है, लेकिन इन पर अमल नहीं किया जा रहा है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App