scorecardresearch

Parliament Winter Session 2021: राज्यसभा के 12 सांसदों के निलंबन पर विपक्ष एकजुट, फ्लोर लीडर्स मंगलवार सुबह करेंगे गुफ्तगू, हंगामा होने के आसार

Winter Session of Parliament 2021: विपक्षी सांसदों के हंगामे के बीच लोकसभा में कृषि क़ानून निरसन विधेयक, 2021 पारित हुआ, कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी ने सदन में विधेयक पर चर्चा की मांग की थी।

Narendra singh tomar, Farm Laws
केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर(फोटो सोर्स: ANI)।

संसद के दोनों सदनों में कृषि विधि निरसन विधेयक 2021 को बिना चर्चा के ही मंजूरी प्रदान कर दी गई। बता दें कि तीनों विवादित कृषि कानूनों को निरस्त करने के लिए लाया गया एक विधेयक कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने राज्यसभा में पेश किया। वहीं कृषि कानूनों के दोनों सदनों से रद्द होने के बाद राकेश टिकैत ने किसान आंदोलन को लेकर कहा है कि आंदोलन जारी रहेगा।

विपक्ष की मीटिंग: राज्यसभा के 12 सांसदों के निलंबन को लेकर विपक्ष फिर से हमलावर रुख अपना सकता है। आगे की रणनीति के लिए विपक्षी दलों ने मंगलवार को मल्लिकार्जुन खड़गे के कार्यालय में एक बैठक बुलाई गई है। विपक्षी दलों ने एक संयुक्त बयान जारी कर कहा है कि वो एकजुट होकर 12 सांसदों के अनुचित और अलोकतांत्रिक निलंबन की निंदा करते हैं। आगे कहा गया है, मंगलवार को विपक्षी नेताओं की बैठक होगी, जिसमें सरकार के निर्णय का विरोध करने और संसदीय लोकतंत्र की रक्षा के लिए भविष्य की रणनीति पर विचार-विमर्श किया जाएगा।

एमएसपी पर कृषि मंत्री- केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने एमएसपी को लेकर कहा कि 2014 की तुलना में एमएसपी की खरीद को दोगुना कर दिया गया है। पहले एमएसपी पर केवल धान और गेहूं की फसल खरीदी जाती थी। पीएम मोदी के नेतृत्व में दलहन, तिलहन और कपास की भी एमएसपी पर खरीद शुरू हुई है।

सीएए को निरस्त करने की मांग- एआईएमआईएम अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी ने कृषि बिलों के वापस लेने पर कहा कि विधानसभा चुनाव से पहले राजनीतिक नुकसान के डर से सरकार ने कृषि कानूनों को निरस्त किया है। उन्होंने सीएए को भी वापस लेने की मांग की। ओवैसी ने कहा- “देश में एक बड़ा समूह कह रहा है कि सीएए संविधान के अनुच्छेद 14 का उल्लंघन है। हम मांग करते हैं कि केंद्र नागरिकता (संशोधन) अधिनियम को निरस्त करे।

राज्यसभा से 12 सांसद सस्पेंड- अनुशासनहीनता के आरोप में राज्यसभा के 12 सांसदों को निलंबित कर दिया गया है। राज्यसभा 30 नवंबर तक के लिए स्थगित कर दिया गया है। सस्पेंड किए गए सांसदों में एलाराम करीम- सीपीएम, फूलो देवी नेताम, छाया वर्मा, आर बोरा, राजमणि पटेल, सैयद नासिर हुसैन, अखिलेश प्रसाद सिंह- कांग्रेस, बिनॉय विश्वम – सीपीआई, डोला सेन और शांता छेत्री – टीएमसी, प्रियंका चतुर्वेदी और अनिल देसाई- शिवसेना के नाम शामिल हैं।

राकेश टिकैत ने कहा: कृषि कानूनों की वापसी पर किसान नेता राकेश टिकैत ने कहा, “जिन 700 किसानों की मृत्यु हुई उनको ही इस बिल के वापस होने का श्रेय जाता है। MSP भी एक बीमारी है। सरकार व्यापारियों को फसलों की लूट की छूट देना चाहती है। आंदोलन जारी रहेगा।”

राज्यसभा से भी पास हुआ कृषि कानून वापसी बिल: लोकसभा के बाद कृषि कानून निरसन विधेयक, 2021 राज्यसभा से भी पारित हो गया है। इस मंजूरी के साथ ही राज्यसभा की बैठक दोपहर दो बज कर दस मिनट पर आधे घंटे के लिए स्थगित कर दी गई। वहीं लोकसभा को कल सुबह 11 बजे तक के लिए स्थगित किया गया है।

हम चाहते थे कि सदन में चर्चा हो- कांग्रेस: कांग्रेस नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने कृषि बिल वापसी पर कहा कि, आज कृषि क़ानून निरसन विधेयक बिना चर्चा के लोकसभा में पास किया गया है। हम उसे सपोर्ट करते हैं लेकिन हम चाहते थे कि बिल वापसी पर चर्चा हो कि आखिर इसे वापस लेने में क्यों इतनी देर हुई और दूसरे मुद्दे भी हैं जिन पर चर्चा हो, लेकिन उन्होंने(सत्ता पक्ष ने) टालने की कोशिश की।

शोर शराबे में मिली बिल को मंजूरी: कांग्रेस की तरफ से उठाए गए सवाल पर लोकसभा अध्यक्ष ओम बिड़ला ने कहा कि सदन में व्यवस्था नहीं है और इस हालात में चर्चा कैसे करायी जा सकती है। आप (विपक्षी सदस्य) व्यवस्था बनाये तब चर्चा करायी जा सकती है। इसके बाद सदन ने शोर शराबे में भी ही बिना चर्चा के कृषि विधि निरसन विधेयक 2021 को मंजूरी दे दी।

“सरकार चर्चा क्यों नहीं करना चाहती?:” बिल वापसी को लेकर कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी ने कहा कि आज सदन में नियमों की धज्जियां उड़ाई जा रही है। इस विधेयक को चर्चा एवं पारित होने के लिये रखे जाने की बात कही गई लेकिन इस पर सरकार चर्चा क्यों नहीं करना चाहती है। इस बीच कई अन्य विपक्षी सदस्यों को भी कुछ कहते देखा गया लेकिन शोर शराबे में उनकी बात नहीं सुनी जा सकी।

लोकसभा में कृषि कानून वापसी बिल पास: लोकसभा ने विपक्ष के हंगामे के बीच तीन विवादास्पद कृषि कानूनों को निरस्त करने संबंधी कृषि विधि निरसन विधेयक 2021 को बिना चर्चा के ही मंजूरी दी। इसके साथ ही कृषि कानून वापसी बिल संसद के निचले सदन लोकसभा से पास हो चुका है। वहीं लोकसभा को आज दोपहर 2 बजे तक के लिए स्थगित किया गया।

प्रियंका गांधी ने ट्वीट कर कही ये बात: कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाद्रा ने ट्वीट कर कहा, ‘‘आज सड़कों पर हमारे अन्नदाताओं द्वारा किए संघर्ष की जीत की गूंज संसद में होगी। आज एक बार फिर किसान आंदोलन में शहीद हुए 700 किसानों की, लखीमपुर के किसानों की शहादत को याद करने का दिन है। आज जब संसद में तीनों कृषि कानून वापस लिए जाएंगे तब पूरा देश एक साथ ‘जय किसान’ बोलेगा और अन्नदाताओं को नमन करेगा।’’

लोकसभा दोपहर 12 बजे तक के लिए हुई स्थगित: किसानों के मुद्दे पर विपक्षी दलों के हंगामे के कारण संसद के शीतकालीन सत्र के पहले दिन सोमवार को लोकसभा की कार्यवाही शुरू होने के करीब 15 मिनट बाद दोपहर 12 बजे तक के लिये स्थगित ।

संसद का शीतकालीन सत्र दोनों सदनों में शुरू: सरकार की तरफ से इस सत्र में कई बिल पेश किये जाएंगे। जिसमें कृषि कानून वापसी भी शामिल हैं। जिसके लिए किसान संगठन पिछले एक साल से प्रदर्शन कर रहे हैं।

महात्मा गांधी की प्रतिमा के पास विरोध प्रदर्शन: कांग्रेस सांसदों ने संसद में किसानों के मुद्दे को लेकर राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की प्रतिमा के पास विरोध प्रदर्शन किया। संसद भवन परिसर में प्रदर्शन के दौरान सरकार विरोधी नारे भी लगाए गये। इस मौके पर पार्टी के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी भी मौजूद थे। कांग्रेस सांसदों ने तीनों कानूनों को तत्काल निरस्त करने और न्यूनतम समर्थन मूल्य की कानूनी गारंटी देने की मांग की।

संसद में सकारात्मक कार्यों पर जोर : पीएम मोदी ने कहा कि मैं आशा करता हूं कि भविष्य में संसद को कैसा चलाया, कितना अच्छा योगदान रहा इस तराजू में तोला जाए न कि किसने कितना जोर लगाकर संसद के सत्र को रोक दिया। मानदंड ये होगा कि संसद में कितने घंटे काम हुआ कितना सकारात्मक काम हुआ।

कोरोना के नए वैरिएंट को लेकर रहें सजग: प्रधानमंत्री ने कोरोना के नए वैरिएंट और टीकाकरण को लेकर कहा कि 100 करोड़ से अधिक डोज़ कोविड वैक्सीन की पूरी करने के बाद अब हम 150 करोड़ डोज़ की तरफ तेज़ी से बढ़ रहे हैं। नए वेरिएंट की ख़बरें भी हमें ओर सजग करती हैं, मैं संसद के सभी साथियों को भी सजग रहने की प्रार्थना करता हूं।

संसद की गरिमा को लेकर बोले पीएम मोदी: पीएम ने कहा, “आज़ादी के अमृत महोत्सव में हम ये भी चाहेंगे कि संसद में सवाल भी हो, संसद में शांति भी हो। सरकार की नीतियों के खिलाफ जितनी आवाज़ प्रखर होनी चाहिए हो परन्तु संसद की गरिमा, अध्यक्ष की गरिमा के विषय में हम वो आचरण करें जो आने वाले दिनों में देश की युवा पीढ़ी के काम आए।”

सरकार हर सवाल का जवाब देने के लिए तैयार है: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने संसद के सत्र की शुरुआत से पहले संसद भवन परिसर में मीडिया को संबोधित करते हुए कहा कि सरकार हर विषय पर चर्चा करने के लिए तैयार है, खुली चर्चा करने के लिए तैयार है। सरकार हर सवाल का जवाब देने के लिए तैयार है। उन्होंने कहा कि संसद देश हित में चर्चाएं करे, देश की प्रगति के लिए रास्ते खोजे, इसके लिए ये सत्र विचारों की समृद्धि वाला, दूरगामी प्रभाव पैदा करने वाले सकारात्मक निर्णयों वाला बनें।

संसद सत्र से पहले राहुल गांधी का ट्वीट: संसद के शीतकालीन संत्र से पहले कांग्रेस के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी ने अपने एक ट्वीट में लिखा, “आज संसद में अन्नदाता के नाम का सूरज उगाना है।”

पढें राष्ट्रीय (National News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

अपडेट