ताज़ा खबर
 

रिपोर्ट: संसद भवन, मंत्रालय समेत 100 से ज्यादा बिल्डिंग में नहीं हैं फायर सेफ्टी के इंतजाम, जान हथेली पर रख काम कर रहे मंत्री-अधिकारी!

दिल्ली फायर सर्विसेज (DFS) ने जांच में पाया है कि कड़ी सुरक्षा वाली इमारतों में भी ऐसी खामियां हैं जिनके चलते आग लगने पर जान-माल का नुकसान हो सकता है।

Parliament House Annexe, Fire, Safety, Atul Garg, DFSरिपोर्ट के मुताबिक लुटियंस में 100 से ज्यादा ऐसी इमारते हैं जो आग के मामले में सुरक्षित नहीं हैं।(फोटो-ANI)

राजधानी दिल्ली के आबादी वाले इलाके जैसे शहादरा और सीलमपुर की बात छोड़िए। राजधानी में संसद भन वायु भवन, सेना भवन और अन्य मंत्रालयों की बिल्डिंग भी फायर सेफ्टी के मामले में बहुत पीछे हैं और यह इन मानकों पर खरी नहीं उतरती हैं। 100 से ज्यादा ऐसी इमारतें हैं  जहां फायर सेफ्टी के इंतजाम नहीं हैं और यहां मंत्री और अधिकारी जान हथेली पर रखकर काम कर रहे हैं।

दिल्ली फायर सर्विसेज (DFS) ने जांच में पाया है कि कड़ी सुरक्षा वाली इमारतों में भी ऐसी खामियां हैं जिनके चलते आग लगने पर जान-माल का नुकसान हो सकता है।

रिपोर्ट के मुताबिक लुटियंस में 100 से ज्यादा ऐसी इमारते हैं जो आग से सुरक्षा के मानकों पर खरी नहीं उतरती हैं और आग के मामले में सुरक्षित नहीं हैं। DFC चीफ अतुल गर्ग के मुताबिक ये इमारतें काफी पुरानी हैं और इन्हें NOC की भी जरूरत नहीं होती है। उन्होंने कहा, ‘जांच में हमें कई कमियों का पता चला है और उन्हें ठीक करने की सलाह भी दी गई है।’

डीएफएस  का कहना है कि, ‘बीजेपी के कमरा नंबर 5 बी के पास होज रील काम नहीं करती है। यहां के पंप भी ऑटो मोड में नहीं है। कई होज बॉक्स गायब हैं और कई जगह पर दो की जगह केवल एक होज बॉक्स लगाया गया है। निकास वाले रास्ते पर अनावश्यक सामान रखा जाता है।’ डीएफएस ने यह भी आग्रह किया है कि संसद भवन में लगा अग्निशमन संयंत्र हमेशा चालू हालत में रखा जाए।

बता दें कि उत्तरी दिल्ली के भीड़भाड़ वाले अनाज मंडी क्षेत्र में स्थित एक चार मंजिला इमारत में चल रही अवैध फैक्टरी में रविवार की सुबह आग लगने से 43 लोगों की मौत हो गई।राष्ट्रीय राजधानी में उपहार सिनेमा त्रासदी के बाद अनाज मंडी में हुआ यह अग्निकांड दूसरी सबसे भयानक घटना है।

हादसे में मारे गये ज्यादातर लोग बिहार और उत्तर प्रदेश के प्रवासी श्रमिक हैं। इस बीच, दिल्ली पुलिस ने अनाज मंडी अग्निकांड के संबंध में इमारत के मालिक रेहान और उसके प्रबंधक फुरकान को गिरफ्तार कर लिया और आईपीसी की धाराओं 304 और 285 के तहत मामला दर्ज किया गया है। मामले को अपराध शाखा को स्थानांतरित किया गया है।

Next Stories
1 उद्धव ठाकरे का दस दिनों के भीतर पांचवां केस वापस लेने का फैसला, 3000 मराठा युवाओं को मिलेगी राहत
2 यूपी में लचर कानून व्यवस्था: जिस महिला ने लगाया था गैंगरेप का आरोप, उसी पर चारों आरोपियों ने कर दिया एसिड अटैक
3 पूर्व केंद्रीय मंत्री और कट्टर आलोचक से मिलने अस्पताल पहुंचे पीएम मोदी, खड़े नहीं हो पाए तो थाम लिया हाथ!
यह पढ़ा क्या?
X