ताज़ा खबर
 

पाकिस्तान में बच्चों के जनसंहार पर संसद में आक्रोश

संसद ने पाकिस्तान के पेशावर के सैन्य स्कूल में आतंकवादियों द्वारा कल 132 से अधिक बच्चों सहित 141 लोगों के ‘घृणित, वहशी, भयावह और कायराना’ नरसंहार पर आज घोर आक्रोश और दुख व्यक्त किया। लोकसभा ने सभी तरह के आतंकवाद से दृढ़ता से मुकाबला करने का संकल्प व्यक्त करते हुए एक प्रस्ताव भी पारित किया। […]

Author Updated: December 17, 2014 5:16 PM

संसद ने पाकिस्तान के पेशावर के सैन्य स्कूल में आतंकवादियों द्वारा कल 132 से अधिक बच्चों सहित 141 लोगों के ‘घृणित, वहशी, भयावह और कायराना’ नरसंहार पर आज घोर आक्रोश और दुख व्यक्त किया। लोकसभा ने सभी तरह के आतंकवाद से दृढ़ता से मुकाबला करने का संकल्प व्यक्त करते हुए एक प्रस्ताव भी पारित किया।
आज सुबह संसद में कार्यवाही शुरू होने पर लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन और राज्यसभा के सभापति हामिद अंसारी ने इसे जघन्य, बर्बर, वहशी और कायरना घटना बता कर इसकी निंदा की।

लोकसभा में सर्वसम्मति से पारित प्रस्ताव में पाकिस्तान की जनता और शोक संतप्त परिवारों एवं घायलों के प्रति संवेदना व्यक्त की गई और सभी तरह के आतंकवाद के खिलाफ एकजुट होने एवं सम्पूर्ण विश्व से आतंकवाद के खत्मा का संकल्प व्यक्त किया गया।

सदन ने इस जघन्य अपराध करने वालों को ऐसी कड़ी से कड़ी सजा देने की बात कही जो औरों के लिए सबक बने। संसद के दोनों सदनों में कुछ पलों का मौन रखकर आतंकी हमले में मारे गए लोगों के प्रति श्रद्धांजलि व्यक्त की गई।

राज्यसभा में सभापति हामिद अंसारी ने कहा कि पेशावर में सैन्य स्कूली बच्चों पर आतंकवादियों द्वारा बर्बरतापूर्ण ढंग से किए गए हमले की हम कड़ी निंदा करते हैं। यह अत्यंत क्रूर एवं कायरतापूर्ण कृत्य है जिसकी सदन कड़ी निंदा करता है।

अंसारी ने कहा कि हम सभी तरह के आतंकवाद से दृढ़ता से मुकाबला करने की प्रतिबद्धता व्यक्त करते हैं। विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने सिडनी और पेशावर के आतंकी हमलों पर अपनी ओर से लोकसभा में दिए बयान में कहा कि ये दोनों घटनाएं मानवता में विश्वास रखने वाले सभी लोगों के लिए एक पुकार है कि वे मिलकर आतंकवाद का समूल नाश करें।

लोकसभा में पारित प्रस्ताव में दुख की इस घड़ी में पाकिस्तान के साथ एकजुटता जताते हुए कहा गया, ‘‘यह सभा पाकिस्तान की संसद, वहां की सरकार, पाकिस्तान की आम जनता, शोक संतप्त परिवारों तथा घायलों के प्रति अपनी हार्दिक संवेदना और सांत्वना व्यक्त करती है।’’

इसमें कहा गया, ”यह सभा संकल्प करती है कि इस प्रकार के आतंकवादी हमले मानवता के प्रति अपराध हैं। शिक्षित भविष्य का निर्माण कर रहे स्कूलों पर इस तरह का हमला मानवता पर हमला है।’’

प्रस्ताव के अनुसार, ”अब समय आ गया है कि समस्त विश्व को सभी प्रकार के आतंकवाद के विरूद्ध एकजुट हो जाना चाहिए ताकि इस तरह की घटनाओं की भविष्य में कहीं भी पुनरावृति न हो और सम्पूर्ण विश्व से आतंकवाद का खत्मा हो सके।’’

अध्यक्ष सुमित्रा महाजन ने कहा कि यह सभा पाकिस्तान की संसद, वहां की सरकार, पाकिस्तान की आम जनता, शोक संतप्त परिवारों और घायलों के प्रति अपनी संवेदना व्यक्त करती है और संकल्प व्यक्त करती है कि निर्दोष व्यक्तियों, विशेष रूप से अबोध बच्चों पर होने वाले आतंकवादी हमलों को बर्दाश्त नहीं किया जाना चाहिए और ऐसे जघन्य अपराध करने वालों को ऐसी कड़ी से कड़ी सजा दी जाए जो औरों के लिए सबक बन सके।’’

सुषमा ने अपने बयान में कहा, ”हताशा से भरी ये दोनों घटनाएं (सिडनी और पेशावर) हमें आतंकवाद का काला चेहरा दिखाती हैं। इन दोनों घटनाओं को मिलाकर देखा जाये तो यह मानवता में विश्वास रखने वाले सभी लोगों के लिए एक पुकार है कि वे मिलकर आतंकवाद का समूल नाश करें। भारत इस विश्वव्यापी मुहिम में अपनी भूमिका अदा करने के लिए सदा तैयार है।’’

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories