ताज़ा खबर
 

भीड़ द्वारा हत्या को धर्म विशेष से जोड़ने पर भड़के परेश रावल, कहा- आतंकियों का कोई मजहब नहीं होता, लेकिन लिंचिंग मॉब का धर्म होता है

कासिफ कुरैशी नाम के यूजर ने लिखा है कि सर आप सांसद तो बन गये लेकिन भड़काउ बयान देकर हालत क्यों बिगाड़ रहे हैं क्या अब आप मंत्री बनना चाहते हैं, अपने लालच पर लगाम रखिए।
बॉलीवुड एक्टर परेश रावल।

एक्टर परेश रावल ने देश में भीड़ द्वारा की जा रही हत्याओं को एक धर्म विशेष से जोड़ने पर कड़ी आपत्ति जताई है और कहा है कि आतंक को किसी धर्म से नही जोड़ने वाले भीड़ द्वारा की जा रही हत्याओं को एक धर्म विशेष के साथ कैसे जोड़ रहे हैं। परेश रावल ने अपना विरोध दर्ज कराने के लिए ट्वीट का सहारा लिया है। उन्होंने लिखा है कि आतंकियों का कोई मजहब नहीं होता है लेकिन हत्या करने वाली भीड़ का धर्म होता है। इसके बाद परेश रावल ने शेक्सपीयर की प्रसिद्ध पंक्ति को कोट किया है कि नाम में क्या रखा है। परेश रावल के इस ट्वीट पर सोशल मीडिया में जबर्दस्त प्रतिक्रिया देखने को मिल रही है।

रोहित नाम के यूजर ने परेश रावल को जवाब देते हुए लिखा है कि लिंचिंग मॉब का भी धर्म होता है बशर्ते कि पीड़ित मुस्लिम हो और भीड़ हिन्दू अन्यथा इसका भी कोई धर्म नहीं होता है। कश्मीर में भीड़ द्वारा की गई हत्या को देख लीजिए। कासिफ कुरैशी नाम के यूजर ने लिखा है कि सर आप सांसद तो बन गये लेकिन भड़काउ बयान देकर हालत क्यों बिगाड़ रहे हैं क्या अब आप मंत्री बनना चाहते हैं, अपने लालच पर लगाम रखिए। राजेश सिसोदिया नाम के एक यूजर ने लिखा है कि नाम से ही तुष्टिकरण तय होता है। कृष्णा भंडारी नाम के यूजर ने लिंचिंग मॉब पर चल रही बहस पर तंज कसते हुए लिखा है कि बहुत मुश्किल से असहिष्णुता बोलना सीखा था लोगों ने, अब ये लिंचिग भी आ गया। ये तथाकथित लिबरल भी कमाल हैं।

बता दें कि देश में पिछले कुछ दिनों से बीफ और गौरक्षा के नाम कई मुसलमानों की हत्या के मामले सामने आए हैं। सबसे ताजा मामला झारखंड के रामगढ़ का है जहां बीफ ले जाने के शक में भीड़ ने एक मुस्लिम शख्स की पीट पीट कर हत्या कर दी। इसी दिन प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कथित गौरक्षकों को चेतावनी देते हुए कहा था कि गौभक्ति के नाम पर इंसानों की हत्या देश को बर्दाश्त नहीं है। उन्होंने गुजरात के साबरमती में एक तरह से चेतावनी देते हुए कहा था कि कानून हाथ में लेने वालों से सख्ती से निपटा जाएगा। इससे पहले हरियाणा के बल्लभगढ़ में भी ट्रेन में सीट विवाद को लेकर एक शख्स की हत्या कर दी गई थी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.