ताज़ा खबर
 

परमबीर सिंह के लेटर पर नया पेंच, महाराष्ट्र CMO का दावा- अनाधिकारिक मेल आईडी और बिना हस्ताक्षर के मिला पत्र

महाराष्ट्र मुख्यमंत्री कार्यालय का कहना है कि मुंबई पुलिस के पूर्व कमिश्नर परमबीर सिंह का पत्र आज शाम एक अलग ईमेल आईडी के जरिए प्राप्त हुआ, न कि उनके आधिकारिक ईमेल आईडी से।

maharashtraपत्र में लिखा है, ‘माननीय गृह मंत्री ने वाजे को बताया कि उनका टारगेट 100 करोड़ रुपए हर महीने जमा करने का है।’ (Indian Express)।

महाराष्ट्र मुख्यमंत्री कार्यालय का कहना है कि मुंबई पुलिस के पूर्व कमिश्नर परमबीर सिंह का पत्र आज शाम 4:37 बजे एक अलग ईमेल आईडी के जरिए प्राप्त हुआ, न कि उनके आधिकारिक ईमेल आईडी से। इस पत्र पर परमबीर सिंह के सिग्नेचर भी नहीं थे। कार्यालय का कहना है कि नए ईमेल आईडी की जांच करने की आवश्यकता है। गृह मंत्रालय उसी के लिए उनसे संपर्क करने की कोशिश कर रहा है।

बता दें कि मुंबई के पूर्व पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह ने शनिवार को मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को लिखे एक पत्र में, महाराष्ट्र के गृह मंत्री अनिल देशमुख पर गंभीर आरोप लगाए । परम बीर सिंह ने कहा कि देशमुख सचिन वाजे को एक महीने में 100 करोड़ की वसूली करने के लिए कहते थे। पत्र में लिखा है, ‘माननीय गृह मंत्री ने वाजे से कहा कि उनका टारगेट 100 करोड़ रुपये हर महीने जमा करने का है। इस टारगेट के लिए, गृह मंत्री ने वाजे को बताया कि मुंबई में लगभग 1,750 बार, रेस्तरां हैं और अगर उनमें से हर एक से 2-3 लाख रुपये की राशि वसूली जाती है, तो 40-50 करोड़ रुपये हर महीने हासिल किए जा सकते हैं। गृह मंत्री ने कहा कि बाकी अन्य स्रोतों से वसूला जा सकता है।’

पत्र में मुंबई के पूर्व पुलिस कमिश्नर ने यह भी लिखा है कि उन्होंने उद्धव ठाकरे से मुलाकात के दौरान सीएम ठाकरे को इस घटना से अवगत कराया था।

पत्र में लिखा है, ‘मार्च 2021 के मध्य में एंटीलिया की घटना के मद्देनजर ब्रीफिंग के दौरान जब मुझे आपको मामले की जानकारी देने के लिए देर शाम को बुलाया गया था, मैंने माननीय गृह मंत्री द्वारा कई गलत कामों की ओर इशारा किया था। मैंने माननीय उप मुख्यमंत्री, राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के अध्यक्ष शरद पवार और अन्य वरिष्ठ मंत्रियों को भी इसके बारे में बताया।’

सिंह ने आरोपों पर विस्तार से कहा, ‘ सचिन वाजे को अनिल देशमुख ने पिछले महीनों में कई बार अपने सरकारी आवास बुलाया था और उन्हें बार-बार वसूली में मदद करने का निर्देश दिया था।’

देशमुख ने हालांकि आरोपों से इनकार किया कि परमबीर सिंह मुकेश अंबानी और मनसुख हिरेन के मामले में खुद को बचाने की कोशिश कर रहे हैं।

उन्होंने कहा कि अगर सिंह आरोपों को साबित नहीं कर पाते हैं तो वह उनके खिलाफ मानहानि का मुकदमा दायर करेंगे।

Next Stories
1 जब बड़े बात करते हैं तब बच्चे बीच में नहीं बोलते, लाइव डिबेट में TMC प्रवक्ता से बोले पैनलिस्ट
2 कांग्रेस के साथ समझौता क्यों किया? सवाल पर बोले संजय राऊत- मोदी लहर दिखी तो सीट बंटवारे का व्यापार करने लगे
3 केरल चुनाव: 5 साल में करीब 40 गुना बढ़ गई कांग्रेस नेता की पत्नी की आय, CM की बेटी ने भी खूब कमाया
ये पढ़ा क्या?
X