ताज़ा खबर
 

मोदी ने मंच से लिया नाम तो भावुक हुआ भीड़ में खड़ा यह ‘गुरु’, कहा- उन्हें मैं याद हूं, इस बात पर गर्व

पीएम ने अपने संबोधन में उन्हें पैराग्लाइडिंग सिखाने वाले रोशन ठाकुर का नाम लिया, जिसे सुनकर वह व्यक्ति काफी भावुक हो गया।
हिमाचल प्रदेश में पीएम नरेंद्र मोदी (फोटो सोर्स- PTI/ट्विटर/@narendramodi)

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को हिमाचल प्रदेश के कुल्लू मनाली में एक रैली को संबोधित करते हुए अपने पैराग्लाइडिंग के अनुभवों को साझा किया। इस दौरान रैली में वह व्यक्ति भी मौजूद था जिसने पीएम को पैराग्लाइडिंग सिखाई थी। पीएम ने अपने संबोधन में उन्हें पैराग्लाइडिंग सिखाने वाले रोशन ठाकुर का नाम लिया, जिसे सुनकर वह व्यक्ति काफी भावुक हो गया। प्रधानमंत्री ने कहा कि उन्हें हमेशा से ही एडवेंचर स्पोर्टस काफी आकर्षित करता आया है और वे जब भी हिमाचल जाते थे एडवेंचर करना पसंद करते थे। इसी के साथ ही उन्होंने एडवेंचर कराने वाले अपने ‘गुरु’ रोशन का नाम भी लिया।

टाइम्स ऑफ इंडिया (टीओआई) के मुताबिक रैली के वक्त भीड़ में खड़े रोशन पीएम मोदी द्वारा खुद का नाम लिए जाने से काफी भावुक हो गए। पीएम मोदी के साथ हुई मुलाकात को याद करते हुए रोशन कहते हैं, ‘मुझे गर्व है कि उन्हें आज भी मेरा नाम याद है। जब उन्होंने मेरा नाम लिया तब मैं उनकी तरफ हाथ हिलाना चाहता था, लेकिन स्टेज काफी दूर था। मेरे पास अभी भी उनकी पैराग्लाइडिंग की तस्वीरें हैं। वह सबसे पहले साल 1996 में यहां आए थे।’ रोशन ने बताया कि मोदी ने उसके साथ सबसे पहले 1997 में सोलंग वैली में पैराग्लाइडिंग की थी।

मनाली के बरुआ गांव के गरीब किसान के बेटे रोशन के पास कमर्शियल पैराग्लाइडिंग लाइसेंस है। वह पैराग्लाइडिंग स्कूल भी चलाते हैं, जिसमें अर्धसैनिक बलों और अन्य लोगों को वह ग्लाइडिंग सिखाते हैं। रोशन ने बताया, ‘मोदी को पैराग्लाइडिंग करना बेहद पसंद है। वह 2000 में भी मेरे पास आए थे और उसके बाद 2001 में गुजरात के मुख्यमंत्री बनने तक वह तीन बार सोलंग आए।’

हिमाचल प्रदेश विधानसभा चुनाव के लिए प्रचार करते वक्त पीएम मोदी ने रविवार को कहा कि उन्होंने रोशन को गुजरात भी बुलाया, ताकि वहां पैराग्लाइडिंग की संभावनाओं को तलाशा जा सके। मोदी ने कहा कि हिमाचल के लोग अपने राज्य को एडवेंचर स्पोर्ट्स का हब बना सकते हैं। उन्होंने कहा, ‘रोशन का पैराग्लाइडिंग के प्रति प्यार का ही नतीजा रहा कि गुजरात के सापुतारा में साल 2012 में पैराग्लाइडिंग का परीक्षण किया गया जो की काफी सफल भी रहा। तब से हर साल पैराग्लाइडिंग फेस्टिवल के दौरान हिमाचल के पैराग्लाइडर्स सापुतारा में उड़ते हैं।’

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.