scorecardresearch

मैं अगर कट्टर होता तो राम के लिए 490 साल इंतजार नहीं करता, ऐसे ही गला काटता- डिबेट में भड़के पैनलिस्ट, घिरे मुस्लिम स्कॉलर

हिंदुओं को कट्टर बताने वाले पर भड़कते हुए पैनलिस्ट ने कहा कि हिंदु अपने लिए आवाज उठाते हैं, मुसलमान अपने लिए और ईसाई अपने लिए। अगर मैं कट्टर होता तो 450 साल तक राम मंदिर के लिए इंतेजार नहीं करता।

Udaipur Accused| udaipur| rajasthan|
उदयपुर हत्याकांड का आरोपी (फोटो सोर्स- एएनआई)

उदयपुर घटना को लेकर चल रही एक टीवी डिबेट में पैनलिस्ट शिवम संघी ने कहा कि अगर कट्टर होता तो अपने मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान श्री राम के मंदिर के लिए 490 साल इंतेजार नहीं करता, ऐसे ही गला काटता जैसे आजकल काटे जा रहे हैं।

दरअसल, इस घटना के बाद राहुल गांधी समेत कांग्रेस के कई नेताओं के बयान आए हैं, कि बीजेपी तुष्टीकरण करती है और देश का माहौल खराब कर रही है। इसके साथ ही इन नेताओं का यह भी आरोप है कि प्रधानमंत्री और गृहमंत्री जो चाहते हैं वही देश में हो रहा है।

इस पर भड़कते हुए पैनलिस्ट ने कहा कि हिंदु अपने लिए आवाज उठाते हैं, मुसलमान अपने लिए और ईसाई अपने लिए। उन्होंने कहा, “कांग्रेस कह रही है कि हिंदू कट्टरता फैला रहे हैं, अगर कट्टर होता तो काशी विश्वनाथ मंदिर के लिए शांति से इंतेजार नहीं करता। अगर कट्टर होता तो ज्ञानवापी के लिए ऐसे शांति से इंजेतार नहीं करता। कट्टर होता तो 370 हटाने के लिए सरकारों का इंतेजार नहीं करता,अगर कट्टर होता तो, मेरे भगवान और शिवलिंग के बारे में बोलने वालों का ऐसे ही गला काट देता।”

वहीं, डिबेट में मौजूद मुस्लिम स्कॉलर शोएब जमई और वकील शुभी खान के बीच भी जमकर बहस हुई। शुभी खान ने शोएब जमई पर भड़कते हुए कहा कि इन्हें इस्लाम से मतलब नहीं है, सत्ता से है।

उन्होंने कहा, “बीजेपी-आरएसएस की बात क्यों कर रहे हैं। मनन करिए वो हमारे बच्चे हैं जो गर्दनें काट रहे हैं, कट्टर बन रहे हैं। कौन उनको अलगाववादी बनाता है। हमारी नाक के नीचे हमारे बच्चों को ट्रेंड करके चले जाते हैं और हमें पता नहीं चलता है, हमें अपने आप से मनन करना चाहिए।”

गौरतलब है कि उदयपुर में टेलर कन्हैयालाल की दिन दहाड़े धारदार हथियार से दो लोगों ने हत्या कर दी थी, जिसके बाद से लोगों में आक्रोश है। आरोपियों ने हत्या का वीडियो भी सोशल मीडिया पर पोस्ट कर अपना जुर्म कबूला था, जिसके आधार पर उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया है।

पढें राष्ट्रीय (National News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

अपडेट

X