ताज़ा खबर
 

मुंबई अटैक पर फिर बोले पाकिस्तानी पूर्व पीएम- PAK ने कराया आतंकी हमला, यही सच है

26 नवंबर 2008 को पाकिस्तानी आतंकी संगठन लश्कर-ए-तैयबा के आतंकी समुद्र के रास्ते मुंबई में घुस आए थे। वे चार दिनों तक ताज होटल में छिपे रहे थे। शहर में इस दौरान उन्होंने फायरिंग की थी, जिसमें तकरीबन 166 लोगों की जान गई थी। वहीं, उस हमले में लगभग 300 लोग जख्मी हुए थे।

nawaz sharif, nawaz sharif dawn, nawaz sharif news, nawaz sharif news in hindi, nawaz sharif on mumbai attack, pakistan, mumbai attack, national news in hindi, india news in hindi, international news in hindi, world news in hindi, political news in hindi, editorial, jansatta editorial, jansattaशरीफ के बयान के रूप में भारत के लिए एक मजबूत प्रमाण जरूर मिला है

पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ मुंबई अटैक पर दिए अपने बयान पर अडिग हैं। सोमवार (14 मई) को उन्होंने इस संबंध में नया बयान दिया और उपज रहे भ्रमों को खत्म किया है। उन्होंने कहा है, “चाहे कुछ भी हो जाए, मैं सच ही बोलूंगा। पाकिस्तान ने ही मुंबई में आतंकी कराया था। यही सत्य है।” शरीफ की ओर यह टिप्पणी उनके छोटे भाई शाहबाज शरीफ ने की है।

नवाज की ओर से मुंबई अटैक मसले पर ताजा बयान पाकिस्तान में फैली उन गलतफहमियों पर आया है, जिसमें पूर्व पाकिस्तानी पीएम के बयान को गुमराह करने वाला करार दिया गया था। पाकिस्तानी सिविल मिलिट्री बॉडी ने इस बाबत एक बैठक का आयोजन किया था, जिसमें शरीफ के बयान को गलत बताया गया। पाकिस्तान के मौजूदा पीएम शाहिद खाकन अब्बासी व विदेश मंत्री खुर्रम दस्तगीर समेत कई अहम लोग इस दौरान मौजूद थे।

‘PAK आतंकियों ने किया था मुंबई हमला’ नवाज शरीफ का कबूलनामा

पाकिस्तानी पूर्व पीएम ने इससे पहले 12 मई को ‘द डॉन’ से खास बातचीत की थी। उन्होंने तब कबूला था कि उन्हीं के मुल्क के आतंकियों ने भारत के मुंबई में आतंकी हमला किया था। बकौल शरीफ, “क्या हमें आतंकियों को सीमा पार जाने देना चाहिए? मुंबई में उन्हें 150 लोगों को क्या मारने देना चाहिए?”

याद दिला दें कि 26 नवंबर 2008 को पाकिस्तानी आतंकी संगठन लश्कर-ए-तैयबा के आतंकी समुद्र के रास्ते मुंबई में घुस आए थे। वे चार दिनों तक ताज होटल में छिपे रहे थे। शहर में इस दौरान उन्होंने फायरिंग की थी, जिसमें तकरीबन 166 लोगों की जान गई थी। वहीं, उस हमले में लगभग 300 लोग जख्मी हुए थे।

पनामा पेपर्स केस में पिछले साल शरीफ दोषी करार दिए गए थे, जिसके बाद उन्हें पीएम की गद्दी से हाथ धोना पड़ा था। यहां के सर्वोच्च न्यायालय ने इसके बाद शरीफ के आजीवन चुनाव लड़ने पर रोक लगा दी थी।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 हिरोशिमा बम से भी 10 गुना ज्यादा ताकतवर था उत्तर कोरिया का ये वाला परमाणु परीक्षण
2 परिवार में 6 लोग, सब आतंकी, आत्मघाती हमलों से हिलाया देश: 9 और 12 साल की बहनों ने उड़ाया चर्च
3 युवा राष्ट्रपति ने फ्रांस को एक साल में क्या दिया?