ताज़ा खबर
 

CAB के पास होते ही खुशी से झूम उठे हिंदू शरणार्थी, महिला ने 2 दिन बेटी का नाम रखा ‘नागरिकता’; यूं तिरंगा लेकर मनाया जश्न

Citizenship Amendment Bill 2019, Pakistani Hindu Refugee in Delhi: संसद में नागरिकता संशोधन विधेयक पास होने के बाद दिल्ली में रह रही पाकिस्तान से आई हिंदू शरणार्थी महिला ने अपनी दो दिन की बेटी का नाम 'नागरिकता' रखा है।

शरणार्थी महिला ने अपनी बेटी का नाम ‘नागरिकता’ रखा फोटो- एएनआई

Citizenship Amendment Bill 2019,  Pakistani Hindu Refugee in Delhi: लोकसभा के बाद राज्य सभा से भी नागरिकता संशोधन विधेयक (CAB) पास होने के बाद जहां एक तरफ असम में हिंसक प्रदर्शन हो रहे हैं तो वहीं दूसरी तरफ पाकिस्तान से आई हिंदू शरणार्थियों (Hindu Refugee) में खुशी की लहर है। इस बीच बुधवार (11 दिसंबर) को कैब बिल के पास होने के बाद देश की राजधानी दिल्ली के मंजू का टीला (Majnu Ka Tila) में रह रही एक शरणार्थी महिला ने अपनी दो दिन की बेटी का नाम ‘नागरिकता’ रख दिया।

क्या बोली शरणार्थी महिला: राजधानी के मजनू का टीला में रहने वाली एक पाकिस्तानी हिंदू शरणार्थी महिला ने 16 दिसंबर को अपनी दो दिन की बेटी का नाम ‘नागरिकता’ रखा है। महिला ने कहा, “यह मेरी सबसे बड़ी इच्छा थी कि नागरिकता संशोधन विधेयक 2019 संसद में पारित हो और आज संसद में यह विधेयक (CAB) पारित हो गया। हमें इस बात से बहुत खुश हैं।”

ख़ुशी से झूमे लोग: मजनू का टीला में रहने वाली आरती ने बताया कि 7 साल पहले वह पाकिस्तान से प्रताड़ित होकर भारत आए थे। यहां दिल्ली के मजनू का टीला में उन्होंने अपना नया आशियाना बनाया, लेकिन उन्हें पहचान ना मिल सकी। बुधवार को कैब बिल के पास होने के बाद यहां के रहने वाले हिंदू शरणार्थी ख़ुशी से झूम उठे। लोगों ने अपने हाथों में तिरंगा और बीजेपी का झंडा लेकर ढोल नगाड़े बजाकर ख़ुशी जाहिर की। लोगों का कहना है कि लंबे अरसे से चला आ रहा नागरिकता मिलने का इंतजार शायद अब खत्म होने वाला है।

यूं किया खुशी का इजहार: मंजू का टीला में रहने वाले बच्चों ने अपनी खुशी तिरंगे के साथ पटाखे जलाकर प्रकट की और ‘‘भारत माता की जय’’ और ‘‘जय हिंद’’ के नारे लगाए। वहीं, बड़े बुजुर्गों ने एक दूसरे को बधाई दी और मिठाइयां बांटी। यहां रहने वाले एक परिवार ने संसद से विधेयक पारित होने के बाद अपनी बेटी का नाम ‘‘नागरिकता’’ रखा। बेटी की दादी मीरा दास ने कहा कि बच्ची का जन्म सोमवार को हुआ था और परिवार ने उसका नाम ‘‘नागरिकता’’ रखने का फैसला किया जो राज्यसभा से अब पारित हो चुका है। मीरा ने भी लोकसभा में विधेयक के पारित होने की मन्नत मांगी थी और उस दिन उपवास रखा था। उन्होंने कहा, ‘‘ सुरक्षित पनाहगाह की तलाश में हम आठ साल पहले भारत आए थे।”

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 बीजेपी सांसदों ने खड़े हो किया अभिवादन, पर अमित शाह ने नहीं दिया कोई भाव, अनदेखा कर निकल गए
2 संसद से CAB पास होने पर नाराज IPS अफसर ने दे दिया इस्तीफा, चार महीने पहले दिया था VRS का आवेदन
3 ग्रामीण इलाकों में सबसे निचले स्तर पर गिरी मजदूरी, सितंबर में माइनस 3.8% रही ग्रोथ, 25 पेशे में पुरुषों को औसतन 331 रुपये ही वेतन!
ये पढ़ा क्या?
X