ताज़ा खबर
 

पाकिस्‍तान ने कहा- चाहे कोई आए या न आए, हम नवंबर में करेंगे सार्क सम्‍मेलन

पहले भी भारत और पाकिस्तान के बीच तनाव को देखते हुए सार्क सम्मेलन रद्द किया जा चुका है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ

भारत और तीन अन्‍य सदस्‍य देशों द्वारा सार्क सम्‍मेलन का बहिष्‍कार करने के ऐलान पर पाकिस्‍तान ने प्रतिक्रिया दी है। पाकिस्‍तान ने बुधवार को कहा कि वह नवंबर में कार्यक्रम का आयोजन करेगा। पाकिस्‍तानी विदेश मंत्रालय  के प्रवक्‍ता नफीस जकारिया ने कहा कि पाकिस्‍तान दक्षिण एशियाई क्षेत्रीय सहयोग संगठन के 19वें सम्‍मेलन का आयोजन करेगा। रेडियो पाकिस्‍तान की खबर के मुताबिक जकारिया ने कहा कि उन्‍हें भारतीय विदेश मंत्रालय के ट्वीट से यह जानकारी मिली है कि भारत सार्क सम्‍मेलन में शामिल नहीं होगा। जकारिया ने भारत के फैसले को ‘दुर्भाग्‍यपूर्ण’ बताया है। उन्‍होंने कहा, ”हमें भी तक इस संबंध में कोई आधिकारिक सूचना नहीं मिली है, भारत की घोषणा दुर्भाग्‍यपूर्ण है।” जकारिया ने यह भी कहा कि पाकिस्‍तान क्षेत्रीय शांति के लिए प्रति‍बद्ध है और इलाके के लोगाें के हित में लगातार काम करता रहेगा।

गौरतलब है कि मंगलवार रात को भारत की तरफ से साफ कहा गया था कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सार्क देशों के सम्मेलन में हिस्सा लेने के लिए पाकिस्तान नहीं जाएंगे। विदेश मंत्रालय ने यह जानकारी देते हुए कहा था कि ‘वर्तमान परिस्थितियों को देखते हुए भारत सरकार इस्‍लामाबाद में प्रस्‍तावित बैठक में हिस्‍सा नहीं ले सकती।” जिसके बाद बुधवार को दक्षिण एशियाई देशों के संगठन सार्क (SAARC) की अध्यक्षता कर रहे नेपाल ने मामले का निस्तारण करने के लिए 19वें समिट को पाकिस्तान से बाहर कराने की मांग की। चार देशों के बायकॉट के बाद नेपाल के प्रधानमंत्री प्रचंड ने काठमांडू में एक उच्च स्तरीय मीटिंग बुलाई थी। कहा जा रहा था कि मीटिंग में यह फैसला लिया गया है कि एक ऐसी कोशिश की जाए जिसके जरिए सदस्य देशों को भरोसा हो जाए कि सार्क सम्मेलन को लेकर विवाद खत्म हो गया है।

READ ALSO: Hockey में पाक को हराने की कप्तान श्रीजेश ने खाई कसम, कहा- भारतीय सैनिकों को नहीं होने देंगे निराश

सार्क आम सहमति के सिद्धांत पर कार्य करता है। ऐसे में अगर एक भी देश समिट से खुद को बाहर कर लेता है तो सम्मेलन अपने आप कैंसिल हो जाएगा। पहले भी भारत और पाकिस्तान के बीच तनाव को देखते हुए सार्क सम्मेलन रद्द किया जा चुका है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App