ताज़ा खबर
 

कॉन्फ्रेंस में शामिल नहीं हुए लेकिन डिनर करने पहुंच गए पाकिस्तानी सैन्य अधिकारी! तस्वीर पर हो रही फजीहत

रक्षा मंत्रालयों के अधिकारियों ने इस बात की पुष्टि की कि पाकिस्तान को इस बैठक के लिए आमंत्रित किया गया था। एससीओ का सदस्य होने के नाते पाकिस्तान को न्योता भेजा गया था।

Author नई दिल्ली | Updated: September 14, 2019 12:03 PM
पाकिस्तान की तरफ से पहला दिन मिस करने के बाद दूसरे दिन बैठक में शामिल होने की बात कही गई थी। (फोटोः एएनआई)

पाकिस्तान को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर एक बार फिर फजीहत का सामना करना पड़ा। मौका था भारत की मेजबानी में आयोजित शंघाई सहयोग संगठन (SCO) की दो दिवसीय मिलिट्री मेडिसीन कॉन्फ्रेंस का। पाकिस्तान के अधिकारियों को इस बैठक में शामिल है।

पाकिस्तानी सैन्य अधिकारी इस बैठक में तो शामिल नहीं हुए लेकिन बैठक के बाद आयोजित डिनर में भोजन करने पहुंच गए। सैन्य सूत्रों ने बताया कि पाकिस्तानी प्रतिनिधि दो दिन की शंघाई सहयोग संगठन की बैठक में मौजूद नहीं थे। उन्होंने दिल्ली में आयोजित इस बैठक बाद डिनर के दौरान खाने के लिए पहुंच गए।

राजनयिक सूत्रों ने शुक्रवार को बताया कि कॉन्फ्रेंस के पहले दिन शामिल नहीं होने के बाद पाकिस्तान ने मीटिंग के दूसरे दिन अपने दो प्रतिनिधि भेजने का फैसला लिया था। राजनयिकों ने बताया कि दो पाकिस्तानी प्रतिनिधि दूसरे एससीओ मेडिसीन कॉन्फ्रेंस में शामिल होंगे।

इसके बाद पाकिस्तानी प्रतिनिधि आयोजकों की तरफ से शाम को आयोजित डिनर के दौरान देखे गए। डिनर में जो अधिकारी शामिल हुए उनमें भारत के पाकिस्तान दूतावास के एयर एडवाइजर शामिल थे। मालूम हो कश्मीर मसले को लेकर पाकिस्तान को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर बार-बार मुंह की खानी पड़ रही है।

रक्षा मंत्रालयों के अधिकारियों ने इस बात की पुष्टि की कि पाकिस्तान को इस बैठक के लिए आमंत्रित किया गया था। एससीओ का सदस्य होने के नाते पाकिस्तान को न्योता भेजा गया था। वहीं, विदेश मंत्रालय की तरफ से ही इस आशय की बात कही गई। मंत्रालय ने बताया कि पाकिस्तान ने कॉन्फ्रेंस के दोनों दिन उसमें हिस्सा नहीं लिया।  इस मामले में बृहस्पतिवार को विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने कहा कि जहां तक मेरी जानकारी है, उन लोगों को आमंत्रित किया गया था। लेकिन उन लोगों ने आज (बृहस्पतिवार) की बैठक में हिस्सा नहीं लिया।

मिलिट्री मेडिसीन कॉन्फ्रेंस में 27 अंतरराष्ट्रीय और 40 भारतीय डेलीगेट्स शामिल हुए। जून 2017 में एससीओ में शामिल होने के बाद से यह पहला मौका है जब भारत ने पहले सैन्य सहयोग से जुड़े कार्यक्रम की मेजबानी की है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 ‘दो साल में 10 गुना बढ़ गए जाली नोट’, रिपोर्ट शेयर कर कांग्रेस प्रवक्ता ने पूछा- नोटबंदी की आड़ में हुआ कौन सा भ्रष्टाचार
2 ‘पीएम मोदी को दिया सम्मान वापस लें बिल गेट्स’, दक्षिण एशियाई अमेरिकियों के समूह ने लिखी चिट्ठी
3 उत्तर प्रदेश: दलित यूनिवर्सिटी प्रोफेसर को सताया ‘लिंचिंग’ का डर! अनिश्चितकालीन छुट्टी पर गए
जस्‍ट नाउ
X