ताज़ा खबर
 

पाकिस्तानी सुरक्षा एजेंसियों ने भारतीय राजनयिक के कार्यक्रम में डाली खलल, इफ्तार पार्टी में पहुंचने वालों को धमकाया!

भारतीय हाई कमिश्नर की इफ्तार पार्टी में शामिल होने के लिए जिन लोगों को न्यौता भेजा गया था, उन्हें जाली नंबरों से कॉल कर धमकाया गया और कहा गया कि यदि वह लोग इफ्तार पार्टी में शामिल हुए तो उन्हें इसका खामियाजा भुगतना पड़ेगा।

Author Updated: June 2, 2019 12:15 PM
पाकिस्तान के आर्मी चीफ कमर जावेद बाजवा। (AP Photo)

पाकिस्तान की सरकार एक तरफ भारत के साथ संबंध बेहतर करने की बात कर रही है। वहीं दूसरी तरफ एक ऐसा मामला सामने आया है, जिससे पाकिस्तान की संबंध बेहतर करने की मंशा पर सवाल खड़े होते हैं। दरअसल पाकिस्तान स्थित भारतीय हाई कमिश्नर अजय बिसारिया ने शनिवार को इस्लामाबाद में एक इफ्तार पार्टी का आयोजन किया था। सूत्रों के अनुसार, पाकिस्तान की सुरक्षा और खूफिया एजेंसियों द्वारा इस इफ्तार पार्टी में शामिल होने वाले लोगों को धमकाने का मामला सामने आया है। भारतीय हाई कमिश्नर अजय बिसारिया ने इस्लामाबाद के सेरेना होटल में रमजान के मौके पर इफ्तार पार्टी का आयोजन किया था। जिसमें कई देशों के हाई कमिश्नर और पाकिस्तान से काफी लोगों को आमंत्रित किया गया था।

ऐसी खबरें हैं कि पाकिस्तानी खूफिया एजेंसियों ने सेरेना होटल के चप्पे-चप्पे पर नजर रखी और इस दौरान कई मेहमानों को इफ्तार पार्टी में शामिल ना होने के लिए धमकाया गया और प्रताड़ित किया गया। पाकिस्तानी सुरक्षा एजेंसियों के इस बर्ताव के चलते कई मेहमान इस इफ्तार पार्टी में शामिल हुए बिना ही वापस लौट गए। इससे पहले भारतीय हाई कमिश्नर की इफ्तार पार्टी में शामिल होने के लिए जिन लोगों को न्यौता भेजा गया था, उन्हें जाली नंबरों से कॉल कर धमकाया गया और कहा गया कि यदि वह लोग इफ्तार पार्टी में शामिल हुए तो उन्हें इसका खामियाजा भुगतना पड़ेगा। इफ्तार पार्टी का एक वीडियो भी सामने आया है, जिसमें भारतीय हाई कमिश्नर अजय बिसारिया मंच पर लोगों को संबोधित करते नजर आ रहे हैं।

वीडियो में दिखाई दे रहा है कि अजय बिसारिया कार्यक्रम में आने के लिए मेहमानों को हुई परेशानी के लिए माफी भी मांगते हैं और यह भी बताते हैं कि कई मेहमान कार्यक्रम में शामिल नहीं हो सके। न्यूज एजेंसी एएनआई के साथ बातचीत में अजय बिसारिया ने कहा है कि हम अपने सभी मेहमानों से माफी मांगते हैं, जिन्हें हमारी इफ्तार पार्टी से बलपूर्वक वापस लौटा दिया गया। इस तरह की घटनाएं बेहद निराशाजनक हैं। बिसारिया ने कहा कि ये ना सिर्फ डिप्लोमैटिक नियमों और सभ्य व्यवहार का उल्लंघन है, बल्कि दोनों देशों के रिश्तों के लिए भी ठीक नहीं है। बता दें कि पाकिस्तान की सुरक्षा एजेंसियां भारतीय उच्चायोग और उसके अधिकारियों पर कड़ी निगरानी रखते हैं। इससे पहले भी बीते साल भारतीय उच्चायोग के अधिकारियों के पाकिस्तानी अथॉरिटीज ने गैस कनेक्शन देने में देरी की थी और साथ ही कई अधिकारियों का इंटरनेट कनेक्शन भी बंद कर दिया गया था। इस साल फरवरी में जम्मू कश्मीर के पुलवामा में हुए आतंकी हमले के बाद से भारत और पाकिस्तान के रिश्तों में काफी तनाव आ गया है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 नीतीश का मंत्रिमंडल विस्तार- इन चेहरों के मंत्री बनने की अटकलें तेज
जस्‍ट नाउ
X