ताज़ा खबर
 

नहीं ली मिठाई, गोलिया बरसाईं, ईद पर भी कम नहीं हुआ भारत-पाकिस्तान तनाव

सीमा पर संघर्षविराम उल्लंघन को लेकर भारत और पाकिस्तान के मध्य व्याप्त तनाव के बीच पाकिस्तानी रेंजरों ने आज ईद के मौके पर बीएसएफ की ओर से दी गई मिठाई लेने...

अंतरराष्ट्रीय सीमा पर बीएसएफ ने अपने समकक्षों को मिठाई नहीं दी।

ईद के मुबारक मौके पर भी भारत-पाक तनाव कम न हो सका। शनिवार को सीमा रेखा पर पाक रेंजर्स ने भारत की मिठाइयां लेने से इनकार कर दिया और गोलीबारी करते रहे। राजौरी और पुंछ सेक्टरों में पाकिस्तान की ओर से संघर्ष विराम का उल्लंघन किए जाने से सीमा पर तनाव बढ़ गया। सीमा पार से हुई गोलाबारी में तीन महिलाओं सहित पांच नागरिक घायल हो गए हैं। पिछले चार दिन में इस तरह की यह छठी घटना है।

सेना के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि पाकिस्तान सेना ने 82 एमएम के मोर्टार गोले, आरपीजी, पिका और एमएमजी दागे। उन्होंने पुंछ सेक्टर में जुतरियां और कस्बा नाम के दो गांवों को निशाना बनाया। अधिकारी ने बताया, ‘जब लोग ईद मना रहे हैं, पाकिस्तानी सैनिकों ने हमारे दो गांवों पर भारी गोलाबारी की’। उन्होंने बताया कि सभी घायलों को वहां से निकाल लिया गया है और इलाज के लिए पुंछ जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

उन्होंने कहा कि भारतीय सेना ने जवाब दिया ‘लेकिन हमने गोलीबारी का दायरा नहीं बढ़ाया क्योंकि सीमा पार भी लोग आज ईद मना रहे हैं’। मौजूदा तनाव के बीच पाकिस्तान रेंजर्स ने ईद के मौके पर बीएसएफ की पेश की गई मिठाई लेने से इनकार कर दिया। अधिकारी ने कहा कि पाक सेना ने 12 घंटे में दो अलग-अलग घटनाओं के तहत बगैर उकसावे के गोलीबारी कर राजौरी जिले के नौशेरा सेक्टर में और पुंछ सेक्टर के दो गांवों में कई भारतीय ठिकानों को निशाना बनाया।

रक्षा विभाग के एक प्रवक्ता ने बताया कि नौशेरा सेक्टर को शुक्रवार रात नौ बजकर 25 मिनट पर निशाना बनाया गया और गोलीबारी रात पौने 12 बजे तक हुई। उन्होंने बताया, ‘हमारे सैनिकों ने सीमा पार से होने वाली बगैर उकसावे की गोलीबारी का करारा जवाब दिया’। दूसरी घटना के तहत पुंछ में पाकिस्तानी सेना ने शनिवार दोपहर करीब एक बजकर 50 मिनट पर भारतीय मोर्चों पर बगैर उकसावे के गोलीबारी की और कई घंटे तक रुक-रुक कर गोलीबारी जारी रही जिसका भारत की ओर से करारा जवाब दिया गया।

उन्होंने बताया कि सीमा पार से गोलीबारी में दो गांवों में तीन महिलाओं सहित पांच लोग घायल हो गए। पाक सैनिकों ने 15 जुलाई से संघर्ष विराम के छह उल्लंघन किए हैं, जिनमें एक व्यक्ति की मौत हुई और 13 अन्य घायल हुए। जुलाई में पाकिस्तान सेना ने संघर्ष विराम का 11 बार उल्लंघन किया।

पाकिस्तानी रेंजर्स के जम्मू जिले में 15 जुलाई को हुई मोर्टार गोलाबारी में एक महिला की मौत हो गई थी और बीएसएफ के दो जवानों सहित छह अन्य घायल हो गए थे। अगले दिन हुए हमले में पांच और लोग घायल हो गए थे। पाकिस्तानी सैनिकों ने नौ जुलाई को उत्तरी कश्मीर में एक अग्रिम चौकी पर गोलीबारी की थी, जिसमें बीएसएफ का एक जवान शहीद हो गया था। वहीं, पांच जुलाई को कश्मीर घाटी के नौगाम सेक्टर में नियंत्रण रेखा पर पाकिस्तानी गोलीबारी में भी बीएसएफ का एक जवान शहीद हुआ था।

तनाव बढ़ने को जाहिर करते हुए पाकिस्तानी रेंजरों ने ईद के मौके पर बीएसएफ द्वारा पेश की गई मिठाई लेने से इनकार कर दिया। दोनों देशों के सीमा सुरक्षा बल त्योहारों के मौके पर जम्मू में अंतरराष्ट्रीय सीमा पर और पंजाब में अटारी-वाघा सीमा पर मिठाइयों का आदान प्रदान करते हैं।

सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) के उप महानिरीक्षक एमएफ फारूकी ने अमृतसर में पत्रकारों को बताया कि ईद पर मिठाई देने के उनके सद्भाव को अटारी-वाघा सीमा पर उस ओर से गर्मजोशी नहीं मिली। उन्होंने बताया, ‘हम ईद के मौके पर हर बार मिठाइयां देते हैं। रेंजर्स ने शनिवार को स्वीकार नहीं किया। हम हमेशा ही सीमा पर शांति और स्थिरता कायम रखना चाहते हैं’।

हालांकि, बीएसएफ ने अंतरराष्ट्रीय सीमा पर अपने पाक समकक्ष को मिठाइयां नहीं पेश कीं। बीएसएफ के एक वरिष्ठ कमांडर ने दिल्ली में अपने मुख्यालय में बताया कि बल ने अंतरराष्ट्रीय सीमा पर पाक रेंजर्स को मिठाइयां पेश नहीं कीं। इस मोर्चे पर और नियंत्रण रेखा पर चल रहे संघर्ष विराम उल्लंघन की घटनाओं के विरोध में ऐसा किया गया। पाकिस्तानी रेंजर्स के संघर्ष विराम का बार-बार उल्लंघन किए जाने के मद्देनजर भारत ने बगैर उकसावे की गोलीबारी और सीमा पार से आतंकवाद को बढ़ावा दिए जाने पर पाकिस्तान को करारा और मुंहतोड़ जवाब देने की चेतावनी दी है।

संबंध सुधारने को प्रतिबद्ध : बासित
भारत-पाकिस्तान के बीच जारी तनाव के बीच भारत में पाकिस्तान के उच्चायुक्त अब्दुल बासित ने कहा है कि उनका देश भारत के साथ संबंधों को सुधारने के लिए प्रतिबद्ध है और दोनों देशों में इच्छाशक्ति हो तो सभी आपसी मुद्दे सुलझाए जा सकते हैं। उन्होंने ईद के मौके पर यहां फतेहपुरी मस्जिद के इमाम से मिलने के बाद कहा-हम उम्मीद करते हैं कि दोनों देशों के बीच संबंध सुधरेंगे और अगर दोनों पक्षों के पास इच्छाशक्ति हो तो कोई कारण नहीं है कि गरीबी, निरक्षरता और बीमारी जैसे हमारे मुद्दों का हल न हो। पाकिस्तान मुद्दों के हल के लिए संबंधों में सुधार के लिए हमेशा प्रतिबद्ध रहा है।

बातचीत ही एकमात्र विकल्प : भारत
पाकिस्तान के साथ सभी लंबित द्विपक्षीय मुद्दों का हल करने के लिए भारत बातचीत को आगे बढ़ाएगा क्योंकि उसका मानना है कि युद्ध कोई विकल्प नहीं है। शीर्ष सरकारी सूत्रों ने कहा कि सभी लंबित मसलों के समाधान के लिए बातचीत ही एकमात्र विकल्प है और दोनों देशों के प्रधानमंत्री उफा (रूस) में हुई हाल की बैठक में इस बारे में सहमत हुए थे। सूत्रों ने कहा कि बातचीत सही दिशा में बढ़ रही है। वार्ता ही एकमात्र रास्ता है क्योंकि युद्ध विकल्प नहीं है। उफा में तय की गई तीन स्तरों की बातचीत होगी। सीमा सुरक्षा बल और पाकिस्तानी रेंजर्स के महानिदेशकों की पहली बैठक नौ से 13 सितंबर के बीच होगी।

न्योता कबूलने में तेजी क्यों?
कांग्रेस प्रवक्ता आरपीएन सिंह ने शनिवार को कहा कि प्रधानमंत्री को साफ तौर पर बताना चाहिए कि उफा में पाकिस्तान के साथ तथाकथित संयुक्त बयान से भारत को क्या हासिल हुआ। पाकिस्तान पिछले 15 महीनों से हमारे पीठ पर वार कर रहा है। पड़ोसी देश की यात्रा के लिए पाकिस्तानी प्रधानमंत्री नवाज शरीफ के आमंत्रण को तुरंत स्वीकार करने के लिए मोदी पर हमला बोलते हुए सिंह ने कहा कि उन्हें देश के सामने स्पष्ट करना चाहिए कि फैसला लेने में क्या जल्दबाजी थी क्योंकि पाकिस्तान ने मुंबई हमलों के साजिशकर्ताओं के खिलाफ कोई कारवाई नहीं की है।

(एजंसी)

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App