ताज़ा खबर
 

पाकिस्तान: गुरुनानक देव से जुड़ी ऐतिहासिक इमारत में तोड़फोड़

अखबार के अनुसार, औकाफ विभाग के अधिकारियों की कथित मौन सहमति से वहां के लोगों के एक समूह ने महल को आंशिक रूप से ध्वस्त कर उसकी कीमती खिड़कियां, दरवाजे और रोशनदान बेचे। फिलहाल प्राधिकारियों को इस महल के ‘मालिक’ के बारे में कोई जानकारी नहीं है।

पंजाब प्रांत में नारोवल शहर में तोड़-फोड़ के बाद कुछ ऐसी हो गई महल की हालत। (फोटोः टि्वटर/@dhanjit5861)

पाकिस्तान के पंजाब प्रांत में कुछ स्थानीय लोगों ने औकाफ विभाग के अधिकारियों की कथित मौन सहमति से सदियों पुराने ‘गुरु नानक महल’ का एक बड़ा हिस्सा तोड़ दिया। उन्होंने महल की बेशकीमती खिड़कियां और दरवाजे भी बेच दिए। वहां के अखबार डॉन की रिपोर्ट के मुताबिक, चार मंजिला ऐतिहासिक इमारत दीवारों पर सिख धर्म के संस्थापक गुरु नानक के अलावा हिंदू शासकों व राजकुमारों की तस्वीरें थीं। बताया गया कि ‘बाबा गुरुनानक महल’ चार सदी पहले बनाया गया था, जहां भारत समेत दुनिया भर से सिख आया करते हैं। लाहौर से करीब 100 किमी दूर नारोवाल शहर में बने महल में 16 कमरे थे, जबकि हर कमरे में कम से कम तीन नाजुक दरवाजे और कम से कम चार रोशनदान थे।

अखबार के अनुसार, औकाफ विभाग के अधिकारियों की कथित मौन सहमति से वहां के लोगों के एक समूह ने महल को आंशिक रूप से ध्वस्त कर उसकी कीमती खिड़कियां, दरवाजे और रोशनदान बेचे। फिलहाल प्राधिकारियों को इस महल के ‘मालिक’ के बारे में कोई जानकारी नहीं है। स्थानीय मोहम्मद असलम के हवाले से ‘पीटीआई-भाषा’ की रिपोर्ट में कहा गया, ‘‘पुरानी इमारत बाबा गुरु नानक महल कही जाती है और हमने उसे महलां नाम दिया है। विश्व भर से सिख यहां आते थे।’’ वहीं, मोहम्मद अशरफ ने बताया, ‘‘औकाफ विभाग को इस बारे में बताया गया कि कुछ प्रभावशाली लोग इमारत में तोड़ फोड़ कर रहे हैं, पर कोई कार्रवाई नहीं की गई।

बकौल अशरफ, ‘‘प्रभावशाली लोगों ने औकाफ विभाग की ‘चुप्पी’ से इमारत को ध्वस्त कर दिया और उसकी कीमती खिड़कियां, दरवाजे, रोशनदान और लकड़ी बेच दीं।’’ ऐतिहासिक इमारत की कानूनी स्थिति क्या है, उसका मालिक कौन है और कौन सी एजेंसी उससे जुड़ा लेखा-जोखा रखती? ये सब जानने के लिए पाकिस्तानी अखबार ने इवेक्यूई ट्रस्ट प्रॉपर्टी बोर्ड (ईटीपीबी) के उपायुक्त और इमारत में रहने वाले लोगों का प्रयास किया, पर कोई जानकारी नहीं मिल पाई।

नरोवाल के उपायुक्त वहीद असगर बोले, ‘‘राजस्व रिकॉर्ड में इमारत का कोई जिक्र नहीं है। यह काफी ऐतिहासिक लगती है। नगर पालिका समिति के रिकॉर्ड की जांच कर रहे हैं।’’ ईटीपीबी सियालकोट क्षेत्र के ‘रेंट कलेक्टर’ राणा वहीद ने बताया, ‘‘हमारी टीम गुरु नानक महल बाटनवाला के संबंध में जांच कर रही हे। यह यह संपत्ति ईटीपीबी की है तो इसमें तोड़-फोड करने वालों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई होगी। वहीं, स्थानीयों ने प्रधानमंत्री इमरान खान से तोड़-फोड़ के आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई का अनुरोध किया है।

टि्वटर पर इस बाबत @dhanjit5861 हैंडल से लिखा गया, “पाकिस्तान में गुरु नानक जी से जुड़ी जगह पर तोड़फोड़ की गई। अब नवजोत सिंह सिद्धू कहां हैं, क्या वह इस मसले पर पाकिस्तानी पीएम से बात करेंगे? पाक को इस घटना पर शर्म आनी चाहिए।”

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 VIDEO: कारगिल शहीद को भारतीय वायुसेना ने किया याद, मिग-21 विमानों से एयरफोर्स चीफ ने यूं दी श्रद्धांजलि
2 मौत से कुछ दिन पहले बोले थे पं. नेहरू- मैं बंटवारे के पहले भी पाकिस्‍तान में लोकप्रिय था और आज भी हूं
3 Kerala Win Win Lottery W-514 Today Results: कौन-कौन बना लखपति? देखें पूरी विनर्स लिस्ट