ताज़ा खबर
 

मुंबई हमले को पाक के आतंकी गुट ने दिया अंजाम, सीमापार आतंकवाद की एक ‘क्लासिक’ मिसाल है 26/11

दुर्रानी ने यह भी कहा कि मुंबई हमले में पाकिस्तानी सरकार और आईएसआई की कोई भूमिका नहीं थी जिसमें 166 लोग मारे गये थे।

Author नई दिल्ली | March 6, 2017 9:57 PM
Pakistan NSA Ali Durrani, 26/11 Mumbai attacks, Pakistani terror group, pakistan Mumbai attacks, Ali Durrani News, Ali Durrani latest news, pakistan Ali Durraniमुंबई हमले (26/11) के दौरान होटल ताज। इस हमले में 166 लोग मारे गए थे। (फाइल फोटो)

पाकिस्तान के पूर्व राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार महमूद अली दुर्रानी ने सोमवार (6 मार्च) को कहा कि 26 नवंबर को हुआ मुंबई हमला सीमापार आतंकवाद की एक ‘क्लासिक’ मिसाल है जिसे पाकिस्तान के एक आतंकी समूह ने अंजाम दिया था। उन्होंने उम्मीद जताई कि संगठन के प्रमुख हाफिज सईद को सजा मिलेगी। बहरहाल, दुर्रानी ने यह भी कहा कि इस हमले में पाकिस्तानी सरकार की कोई भूमिका नहीं थी जिसमें 166 लोग मारे गये थे। दुर्रानी ‘इन्स्टीट्यूट ऑफ डिफेन्स स्टडीज एंड एनालिसिस’ में आतंकवाद से मुकाबले पर एक गोष्ठी में बोल रहे थे। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान स्थित एक आतंकी समूह द्वारा 26 नवंबर को मुंबई में किया गया हमला सीमापार आतंकवाद का एक ‘क्लासिक’ घटनाक्रम था।

दुर्रानी ने संवाददाताओं से बातचीत में कहा, ‘मुझे निश्चित तौर पर यह बात पता है। मेरे पास पुख्ता जानकारी है कि पाकिस्तान सरकार या आईएसआई (पाकिस्तानी की खुफिया एजेंसी) 26-11 के हमलों में शामिल नहीं थे। यह 110 प्रतिशत तय है।’ उन्होंने इस बारे में ज्यादा ब्योरा नहीं दिया लेकिन कहा कि मुंबई हमले के संबंध में उनके कुछ बयानों के लिए पाकिस्तान सरकार ने उन्हें हटा दिया। दुर्रानी ने कहा, ‘मैंने ऐसा बयान दिया जो सरकार को रास नहीं आया और मुझे बर्खास्त कर दिया गया।’ जमात उद दावा प्रमुख सईद की पाकिस्तान के लिए उपयोगिता के सवाल पर दुर्रानी ने कहा कि उसकी देश के लिए कोई उपयोगिता नहीं है और मुंबई हमलों के मास्टरमाइंड को दंडित किया जाना चाहिए।

पाकिस्तान की सेना में मेजर जनरल के तौर पर काम करने वाले दुर्रानी को 2009 में इसलिए निकाल दिया गया था क्योंकि उन्होंने इस बात का संकेत दिया था कि मुंबई आतंकी हमले के बाद गिरफ्तार एकमात्र पाकिस्तानी आतंकवादी अजमल कसाब पाकिस्तानी हो सकता है। कसाब को भारत में फांसी की सजा दी गयी थी। भारत का कहना है कि 2008 के मुंबई आतंकी हमलों के पीछे पाकिस्तानी संगठन लश्कर-ए-तैयबा का हाथ था और भारत सईद के खिलाफ कार्रवाई की मांग करता रहा है। हालांकि पाकिस्तान कहता रहा है कि उसने सईद पर मामला दर्ज करने के लिए और अधिक सबूत मांगे।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 बीजेपी द्वारा पीएम मोदी पर यूपी चुनाव का ‘बोझ’ डालने पर भड़के शत्रुघ्‍न सिन्‍हा, कहा- ओवर-एक्‍सपोजर फायदेमंद नहीं
2 जान लीजिए 1 अप्रेल से कौन सा बैंक, किस सेवा के लिए आपसे कितना वसूलेगा चार्ज
3 कोर्ट रूम में केजरीवाल के पक्ष में राम जेठमलानी ने अरुण जेटली से पूछा- खुद को महान समझते हैं क्‍या?
IPL 2020 LIVE
X