ताज़ा खबर
 

‘J&K में जमीन खरीदने वाले हिंदुओं को एक सेकेंड जिंदा रहने का हक नहीं’, तारिक पीरजादा के खिलाफ फूटा गुस्सा

तारिक पीरजादा के इस बयान पर शिवसेना नेता प्रियंका चतुर्वेदी ने तीखी प्रतिक्रिया दी है। वहीं रिटायर्ड मेजर और कश्मीर में कई ऑपरेशन्स में शामिल रहे मेजर गौरव आर्य ने भी पीरजादा के बयान की कड़ी आलोचना की है।

Author नई दिल्ली | August 13, 2019 10:26 AM
तारिक पीरजादा के खिलाफ फूटा प्रियंका चतुर्वेदी का गुस्सा। फोटो: PTI/Jansatta

पाकिस्तान के न्यूज चैनलों में भारत के मामलों पर अपनी राय रखने वाले विश्लेषक तारिक पीरजादा ने भड़काऊ बयान दिया है। उन्होंने कहा है कि जम्मू-कश्मीर में जमीन खरीदने वाले हिंदुओं को एक सेकेंड जिंदा रहने का हक नहीं। जम्मू-कश्मीर से आर्टिकल 370 हटाए जाने के बाद से पाकिस्तान बुरी तरह से बौखलाया हुआ है और वहां के नेता और टीवी चैनलों के एंकर भारत के खिलाफ भड़काऊ भाषा का इस्तेमाल कर रहे हैं।

ताजा मामले में पाकिस्तान के न्यूज चैनल के लाइव डेबेट में शो में पीरजादा ने कहा ‘यह कहने में कोई मुश्किल नहीं है कि अगर कोई हिंदू कश्मीर में लाकर आबाद (जमीन खरीद) किया गया तो हम पाकिस्तान के लोग कश्मीर के लोगों से कहते हैं कि उनको एक सेकेंड जिंदा रहने का हक नहीं। आपकी जमीन पर ठीक उस तरह कब्जा किया गया है जिस तरह यहूदियों ने फलीस्तन पर कब्जा किया हुआ है। कश्मीर के मौजूदा हालात फलीस्तन से भी ज्यादा खराब हैं।’

तारिक पीरजादा के इस बयान पर शिवसेना नेता प्रियंका चतुर्वेदी ने तीखी प्रतिक्रिया दी है। उन्होंने कहा ‘मुझे कोई आश्चर्य नहीं। इसी मानसिकता की वजह से पाकिस्तान में मुस्लिमों की संख्या में एक फीसदी की कमी आई है। लेकिन मुझे जिस बात से सबसे ज्यादा हैरानी हो रही है वह है भारतीय न्यूज चैनलों का इस तरह के जहर उगलते बयानों को तवोज्जों देना।’

वहीं रिटायर्ड मेजर और कश्मीर में कई ऑपरेशन्स में शामिल रहे मेजर गौरव आर्य ने भी पीरजादा के बयान की कड़ी आलोचना की है। उन्होंने अपने आधिकारिक ट्वीटर अकाउंट से ट्वीट किया ‘पाकिस्तान का निर्माण हिंदूओं के खिलाफ नफरत के आधार था। जब किसी देश की विचारधारा नफरत से भरी हो तो वद देश कभी समृद्ध नहीं हो सकता। नफरत आपको तर्कहीन बनाती है। यह आपको छोटा बनाती है। यह आपको तारिक पीरजादा बना देती है।’ मालूम हो कि तारिक पीरजादा अक्सर भारतीय टीवी चैनलों में भी डिबेट में हिस्सा लेते रहे हैं। आमतौर पर रक्षा विशेषज्ञता से जुड़े मामलों पर अपनी राय रखते रहे हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 Zomato बीफ-पोर्क डिलिवरी विवाद के BJP नेता से भी जुड़े तार! धर्म नहीं कम सैलरी है प्रदर्शन की वजह
2 Bangalore News Today Updates: बाढ़ प्रभावितों को मुआवजे का ऐलान, हर परिवार को मिलेंगे 5 लाख रुपए
3 कश्मीर बंटवारे पर चीनी विदेश मंत्री को जयशंकर ने समझाया- किसी नए इलाके पर दावा नहीं ठोंका है, टेंशन मत लीजिए, सीमाएं वही रहेंगी