गुजरात के समुद्री इलाके में पाकिस्तानी नौसेना ने की फायरिंग, एक मछुआरे की मौत

गुजरात तट के पास हुई गोलीबारी में पाक मरीन से 6 मछुआरों का अपहरण भी कर लिया है। घटना उस समय हुई जब गुजरात में द्वारका के नजदीक ओखा के पास भारतीय मछुआरे मछली पकड़ने गए हुए थे। उसी दौरान पाकिस्तानी मरीन कंमाडो की बोट वहां से निकली। उन्होंने भारतीय बोट जलपरी पर फायरिंग कर दी।

​​Gujarat, Pakistani Navy, Opened fire in the sea area, One fisherman died, Indian Navy
समुद्र से सटे बॉडर्स की सुरक्षा की जिम्मेदारी नेवी, कोस्टगार्ड और मरीन पुलिस के जिम्मे होती है। (फाइल फोटो)

गुजरात तट के पास अरब सागर में पाकिस्तानी नौसैनिकों ने भारतीय मछुआरों पर गोलीबारी की है। गुजरात में द्वारका के समुद्री इलाके में पाकिस्तानी मरीन ने भारतीय नाव पर फायरिंग की। इसमें एक भारतीय मछुआरे की मौत हो गई। गुजरात तट के पास हुई गोलीबारी में पाक मरीन से 6 मछुआरों का अपहरण भी कर लिया है। घटना उस समय हुई जब गुजरात में द्वारका के नजदीक ओखा के पास भारतीय मछुआरे मछली पकड़ने गए हुए थे। उसी दौरान पाकिस्तानी मरीन कंमाडो की बोट वहां से निकली। उन्होंने भारतीय बोट जलपरी पर फायरिंग कर दी।

टीवी रिपोर्ट्स के मुताबिक यह घटना शनिवार रात की है। वारदात के समय भारतीय नाव अपनी सीमा में ही थी। फायरिंग में दूसरा मछुआरा घायल है। मृतक की पहचान श्रीधर के तौर पर हुई है। उसका पोस्टमॉर्टम कराया जा रहा है। फिलहाल इस मामले की जांच की जा रही है। अपहरण किए गए मछुआरों को कहां ले जाया गया इसका पता भी फिलहाल नहीं चल सका है। दरअसल अरब सागर में समुद्री सीमा स्पष्ट नहीं है कई बार दोनों देश एक दूसरे के मछुआरों को गिरफ्तार कर लेते हैं। उनको सालों तक बिना वजह जेलों में रहना पड़ता है।

यह पहली बार नहीं है जब पाकिस्तान ने समुद्र में इस तरह की हरकत की हो, वह पहले भी भारतीय मछुआरों का अपहरण कर उनकी नाव जब्त कर चुका है। पाकिस्तान की इस हरकत के बाद दोनों देशों के रिश्तों में फिर तनाव देखने को मिल सकता है। ध्यान रहे कि इसी साल मार्च में पाकिस्तान ने 11 भारतीय मछुआरों को गिरफ्तार कर लिया था। पाकिस्तान का आरोप था कि ये मछुआरे उसके जलक्षेत्र में घुस आए थे।

गौरतलब है कि भारत की समुद्री सीमा 7516 किलोमीटर लंबी है। इसमें पूर्व में बंगाल की खाड़ी, दक्षिण में हिंद महासागर, और पश्चिम में अरब सागर की तटीय सीमा शामिल है। 1962 किलोमीटर लंबी तटीय रेखा के साथ अंडमान और निकोबार द्वीप पहले स्थान पर है। समुद्री सीमा के मामले में गुजरात दूसरे स्थान पर है। यहां तटीय सीमा 1600 किलोमीटर लंबी है।

समुद्र से सटे बॉडर्स की सुरक्षा की जिम्मेदारी नेवी, कोस्टगार्ड और मरीन पुलिस के जिम्मे होती है। बड़े जंगी और मिसाइलों से लैस जहाजों के सहारे नेवी बाहरी समुद्री सीमाओं की सुरक्षा करती है। अंदरूनी इलाकों की जिम्मेदारी कोस्टगार्ड के पास होती है। इसके पास अपने हेलिकॉप्टर और तेज रफ्तार से चलने वाली बोट्स हैं। ये तत्परता से अपनी सीमा की सुरक्षा करते हैं।

पढें राष्ट्रीय समाचार (National News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट